आरक्षण विधेयक को लेकर नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल का बड़ा बयान, जानिए क्या कहा…!

CG News Today



रायपुर। नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल विधानसभा में आरक्षण विधेयक को लेकर मीडिया से बातचीत की भानुप्रतापपुर उपचुनाव के मद्देनजर विधानसभा का विशेष सत्र लाया गया आरक्षण के मांग  को लेकर भाजपा और अनुसूचित जनजाति मोर्चा लगातर सड़क में उतर कर प्रदर्शन किये उसी के दबाव में आकर कांग्रेस ने बहुमत के बल पर बिल पास किया है।

यह भी पढ़ें …

आज विधानसभा विशेष सत्र का दूसरा दिन : SC, ST, OBC और EWS के लिए नया आरक्षण विधेयक लाएगी सरकार…

डेटा प्रस्तुत ही नहीं किया गया है

उन्होनें कहा हमने मांग की थी कि एसटी को 32, एससी को 16, ओबीसी को 27 और ईडब्लूएस को 10 प्रतिशत आरक्षण दी जाए जनगणना का डाटा सदन के पटल पर पहले रखा जाना था, लेकिन ये डेटा प्रस्तुत ही नहीं किया गया है सुप्रीम कोर्ट में मामला विचाराधीन होने के बाद भी कैसे इस पर चर्चा हुई। सस्ती लोकप्रियता हासिल करने के लिए ये बिल को लाया गया है । बिना तैयारी के विधेयक पेश किया गया है । चुनाव आयोग से कोई भी चर्चा नही की गई । साथ ही उन्होंने कहा हमारे आदिवासियों और ओबीसी वर्ग का मामला था इसलिए इस पर हमने सहमति दी है। नारायण चंदेल ने कहा भाजपा के दबाव में आकर कांग्रेस ने आरक्षण बिल को पारित किया है।

विपक्ष सिर्फ अपनी राय दे सकता है

बता दें कि आरक्षण समर्थन मामले में नेता प्रतिपक्ष ने कहा हम चाहते थे कि बिल मजबूती से पास हो लेकिन कांग्रेस ने बहुमत के बल पर पास किया। बहुमत का दुरुपयोग नहीं होना चाहिए जो कल हुआ। विपक्ष सिर्फ अपनी राय दे सकता है। अगर सुझाव अच्छे थे तो उनको मानना था हमने सबके हित में सुझाव दिया।

सारे तथ्यों को तर्कों को सदन में रखा

चंदेल ने कहा यह विधेयक लाने का सही समय नहीं था।  उपचुनाव आने के पहले विशेष सत्र की घोषणा नही की गई थी ।  जब इनकी मंशा साफ थी कि आदिवीसियो को आरक्षण देना है। तब तो हम भी इसके पक्षधर थे।  हम तो और बढ़ा के देना चाहते थे लेकिन इनकी नियत साफ नहीं थी और अभी भी हमको आशंका है। जब तक पूरी तैयारी से विधेयक नही लायेंगे तो न्यायालय में कोई दिक्कत आ सकती है इसलिए हमने सारे तथ्यों को तर्कों को सदन में रखा।