एक नजर इधर भी तो कोई फेरे : कीचड़ से सनी सड़क से होकर नौनिहाल पहुंचते हैं स्कूल.. जनप्रतिनिधि व प्रशासन नही दे रहा ध्यान


कोरबा/कटघोरा 13 सितंबर 2022 ( सेन्ट्रल छत्तीसगढ़ ) : शासन-प्रशासन में बैठे लोग ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध कराने का लाख दावा कर लें लेकिन कई जगहों पर हकीकत इसके उलट होती है। आम जन कभी सड़क के लिए तरसते हैं तो कभी पानी के लिए। परेशानियों के बीच वे जीवन से लड़ते रहते हैं, उनकी सुनने वाला कोई नहीं होता है।

ऐसा ही एक मामला वर्षों से कटघोरा शहर से लगे पीडब्लूडी रेस्ट हाउस के समीप कोसाबाड़ी से लगी सड़क का है। इस सड़क से ग्रामीण क्षेत्र हुंकरा ग्राम के आश्रित मुड़ाभाटा के स्कूली बच्चे व बायपास से कटघोरा की ओर लोग आते हैं। बारिश के दिनों में यहां की यह सड़क कीचड़ (Mud road) से सन जाती हैं। यहां से गुजरना हर किसी के लिए कठिन होता है। स्कूली बच्चों के लिए यह डगर तो और तकलीफदेह होती है। बच्चे कभी इसमें फिसलकर गिर जाते हैं तो कभी कीचड़ लगे ड्रेस में ही स्कूल पहुंचते हैं।

शहर से लगे इस सड़क का बुरा हाल है। हाल ऐसा है कि गाडिय़ां तो दूर की बात, पैदल चलना भी दूभर हो गया है। सबसे ज्यादा परेशानी तो स्कूली बच्चों को होती है। कीचड़ से सनी सड़क से आने-जाने के दौरान हर दिन स्कूली ड्रेस तो गंदे होते ही हैं, कोई न कोई बच्चा फिसलकर गिर जाता है। इस सड़क पर रेत का परिवहन करने वाले ट्रैक्टरों की आवाजाही से यह सड़क बद से बदत्तर स्थिति में पहुंच गया है। वहीं महिलाओं, कामकाजी लोगों व ग्रामीणों को भी आवागमन में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। अगर इस गांव में किसी की तबियत खराब हो जाए तो उसे कटघोरा समय पर अस्पताल ले जाना काफी मुश्किल है।

जिम्मेदारों की नींद नहीं टूटी

इस सड़क (Mud road) से तो मरीज को ले जाना नामुमकिन है। ग्रामीण वर्षों से इस समस्या से जूझ रहे हैं, लेकिन आज तक जिम्मेदारों की नींद नहीं टूटी है, जबकि यह सड़क कई गांवों को जोड़ती है। ग्राम सभाओं में भी सड़क की समस्या कई बार रखी गई, लेकिन कोई हल नहीं निकला। जनप्रतिनिधि भी सिर्फ चुनाव में वादा करके भूल जाते हैं।

आखिर इस सड़क को बनाये कौन ?

कटघोरा नगरी निकाय होने से यह कोसाबाड़ी की सड़क अपनी कशमकश में ही नही बन पा रहा है। बतादें की यह सड़क कोसाबाड़ी के बीच से होकर जाती है। तो लोगों ने कोसाबाड़ी विभाग से भी इस सड़क की हालत के बारे जानकारी दी लेकिन उनका जवाब यह है कि उनके द्वारा कोसाबाड़ी के बीच से सड़क लोगों की सुविधा के लिए छोडा है यह नगर पालिका क्षेत्र में आता है तो उनके द्वारा इस सड़क का निर्माण कराया जाएगा। लेकिन इसके विपरीत यह वार्ड नं 2 के अधीन आता है तो नगर पालिका का कहना है कि यह सड़क कोसाबाड़ी के अधीन है तो विभाग द्वारा ही सड़क को बनाया जाएगा। इसी कशमकश में यह सड़क मार्ग आज तक नही बन पाया है।

ग्रामीणों ने इसकी शिकायत सरपंच व जनपद सदस्य से भी कर चुके हैं

ग्राम पंचायत हुंकरा के आश्रित ग्राम मुड़ाभाटा के ग्रामीणों ने इस खराब सड़क पर स्कूली बच्चो को हो रही परेशानी को लेकर ग्राम पंचायत सरपंच श्रवण कुमार कंवर व इस क्षेत्र के जनपद सदस्य राम प्रसाद कोराम से भी कर चुके है। जिसमें यहां की महिलाओं ने स्कूल प्रारम्भ होने के पूर्व सरपंच व जनपद सदस्य से इस सड़क के सुधार को लेकर अपनी बातों को रख चुके हैं लेकिन जनप्रतिनिधियों की उदासीनता से अभी तक इस सड़क मार्ग को नही बनाया गया है। कोसाबाड़ी के बाद नहर की पुलिया तक ग्राम पंचायत हुंकरा द्वारा सीसी रोड का निर्माण कराया गया था लेकिन नहर के बाद कि सड़क प्रशासनिक अधिकारियों की लापरवाही व जनप्रतिनिधियों की उदासीनता से नही बन पाई है। जिसकी वजह से यह सड़क बुरी तरह कीचड़ में तब्दील हो चुकी है।