कहां नगर निगम के अफसरों ने



 

जनधारा 24 न्यूज डेस्क । Who sent the notice to Bajrang Bali : कहां नगर निगम के काबिल अफसरों ने बजरंगबली को ही भेज दिया जल कर वसूली का नोटिस ?

क्या हनुमान जी महिला है ?

अगर नहीं तो नगर निगम के काबिल अफसरों ने क्यों नोटिस में लिखा गया श्रीमती बजरंग बली ?

किसने दिया नगर निगम के अधिकारियों को देवी-देवताओं के लिंग परिवर्तन करने का अधिकार ?

इससे पहले भी इसी जिले में भगवान शिव को भी भेजा जा चुका है नोटिस ?

सब कुछ आपको बताएंगे बस आप बने रहिए जनधारा 24 के साथ-

पूरा मामला छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले के वार्ड क्रमांक 18 के टिकरापारा का बताया जा रहा है।

जहां नगर निगम के बेहद काबिल अफसरों ने

श्रीमती बजरंग बली के नाम 4 सौ रूप्ए वाॅटर टैक्स यानि जल कर वसूली का नोटिस भेजा है।

अब नगर निगम के आयुक्त संबित मिश्रा कह रहे हैं कि

नोटिस मंदिर के नाम पर भेजा गया था।

Read More : Chhattisgarh Legislative Assembly की ऐसी परंपरा जो आप नहीं जानते बता रहे प्रमुख सचिव दिनेश शर्मा

जो गलती हुई है उसे सुधार कर भेजेंगे।

सवाल तो ये है कि क्या नगर निगम के अधिकारियों को किसी भी देवी- देवता का लिंग परिवर्तन करने का अधिकार है ?

अगर है तो फिर यह अधिकार उनको कहां से मिला ?

जिले में बार- बार क्यों हिंदू देवी देवताओं का अपमान किया जा रहा है ?

भाषाई रूप् से इतने कमजोर अफसरों को क्यों पाल कर वेतन और सुविधाएं लुटा रहा है नगर निगम ?

Who sent the notice to Bajrang Bali : अब जरा पूरे मामले को समझिए

नगर निगम रायगढ़ शहर में जल कर की वसूली के लिए नोटिस जारी कर रही है।

फरवरी और मार्च माह का एक साथ बिल वसूल किया जा रहा है।

अफसरों को नोटिस भेजने की इतनी हड़बड़ी है कि,

उन्होंने टिकरापारा में भगवान हनुमान के नाम से नोटिस जारी कर दिया।

ये नोटिस मंदिर प्रशासन के किसी व्यक्ति के नाम से जारी किया जाना था,

लेकिन निगम के बेहद काबिल अफसरों और कर्मचारियों ने

भगवान हनुमान को ही अपना हितग्राही बनाकर नोटिस दे मारा।

Who sent the notice to Bajrang Bali : विरोध में उतरे भाजपा जिलाध्यक्ष


इतना ही नहीं बजरंग बली के नाम के सामने श्रीमती लिखा हुआ है,

जिससे अब भक्तों में काफी आक्रोश है।

भाजपा जिलाध्यक्ष उमेश अग्रवाल ने इस मामले में प्रदेश सरकार को घेरते हुए कहा कि

कांग्रेस हिंदू देवी-देवताओं की अपमान कर रही है।

वे अपनी इस मानसिकता से बाज आएं,

नहीं तो हिंदुओं का विरोध झेलने के लिए तैयार रहें।

Who sent the notice to Bajrang Bali : शंकर भगवान को पहले ही भेज चुके नोटिस

सबसे बड़ी बात ये है कि, रायगढ़ में अधिकारियों द्वारा की गई ये कोई पहली गलती नहीं है।

इससे पहले एसडीएम कार्यालय रायगढ़ ने भगवान भोले शंकर को

उनके मंदिर से बेदखली का नोटिस भेज दिया था।

काफी हंगामे के बाद प्रशासन ने अपनी गलती मानकर सुधार किया था।

भाजपा जिला अध्यक्ष उमेश अग्रवाल ने कहा कि,

इससे पहले भगवान शिव को भी नोटिस जारी कर तहसील कोर्ट में हाज़िर होने का फ़रमान सुनाया गया था।

बीजेपी नेता उमेश अग्रवाल ने कहा कि, इस बार आराध्य बजरंग बली को न केवल नोटिस दिया गया,

बल्कि शरारतवश उनके नाम के सामने श्रीमती भी लगा दिया गया

और पति के स्थान पर मंदिर दर्शाया गया है।

सोनिया गांधी भी राम सेतु के अस्तित्व पर सवाल उठा चुकी हैं।

भाजपा हिंदू देवी-देवताओं के अपमान को बिल्कुल स्वीकार नहीं करेगी।

क्या कहते हैं निगमायुक्त

इधर इस मामले में रायगढ़ निगम आयुक्त संबित मिश्रा ने कहा कि,

नोटिस मंदिर के नाम से भेजी गई थी।

अब बजरंगबली के नाम पर हुई गलती का मामला सामने आने के बाद

नोटिस में संशोधन किया जा रहा है।

नया नोटिस भेजा जाएगा।

कनेक्शन पूरे नहीं, लेकिन वॉटर बिल जारी

बीजेपी ने आरोप लगाया कि, शहर के कई हिस्सों में अमृत मिशन की पाइप लाइन में गड़बड़ी है।

कई हिस्सों में पानी नहीं पहुंच रहा है।

आए दिन निगम के कर्मचारियों का लोगों से विवाद हो रहा है।

ऐसे में निगम अपनी कमियों को दूर करने के बजाय

बिल बांटने में ही फोकस कर रहा है।

Who sent the notice to Bajrang Bali : मार्च में तहसीलदार ने भगवान शंकर को दिया था नोटिस

इसी साल मार्च के महीने में भी नायब तहसीलदार विक्रांत राठौर ने

मंदिर के पुजारी या प्रबंधन के बजाय सीधे मंदिर को ही नोटिस भेज दिया था।

इस मामले में भगवान शिव को कोर्ट में भी पेश होना पड़ा था।

अधिकारी ने भगवान को आरोपी बनाकर कोर्ट में पेश होने का नोटिस जारी किया था,

और नहीं पेश होने पर 10 हजार रुपए जुर्माना लगाने की बात कही थी।

दरअसल रायगढ़ में अवैध कब्जे और निर्माण को लेकर हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई थी।

इसी मामले में रायगढ़ तहसील कोर्ट ने सीमांकन दल गठित कर कौहाकुंडा गांव में जांच कराई थी।

अब इतने काबिल अफसरों के बारे में आपकी क्या राय है ?

जनधारा 24 के कमेंट बाॅक्स में जरूर बताएं ।