चलते चलते.. मेरे ये गीत याद रखना ..कभी अलविदा ना कहना..कभी अलविदा ना कहना



मालदीव के कलाकारों ने सुरीले अंदाज़ में कभी अलविदा ना कहते हुए ली छत्तीसगढ़ से विदा

मुख्यमंत्री का निमंत्रण के लिए जताया आभार, खूब भायी छत्तसीगढ़ की मेहमान-नवाज़ी

रायपुर 04 नवम्बर 2022/ राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में देश विदेश से आए मेहमानों के लौटने के क्रम जारी है। आज मालदीव के कलाकारों ने छत्तीसगढ़ की धरती से सुरीले अंदाज़ में विदा ली। मालदीव के कलाकारों के नृत्य के साथ सुंदर संगीतमयी प्रस्तुति ने तीन दिन के आयोजन में सभी का मन मोहा। आज छत्तीसगढ़ की धरती से विदाई लेते हुए मालदीव के कलाकारों ने किशोर कुमार का गाया गीत चलते चलते मेरे ये गीत याद रखना ..कभी अलविदा ना कहना..कभी अलविदा ना कहना गुनगुना कर जाते-जाते भी समां बांध दिया। एयरपोर्ट पर कभी अलविदा ना कहने के अंदाज़ में विदा लेते मालदीव के कलाकारों ने उपस्थित सभी लोगों का दिल जीत लिया। मालदीव के ग्रुप के सदस्य आशिम ने राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव में निमंत्रण के लिए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल का विशेष आभार जताते हुए यहां की मेहमान-नवाज़ी को खूब सराहा। मालदीव के कलाकारों ने अंत मे समवेत स्वर में छत्तीसगढ़िया सबले बढ़िया के उद्घोष के साथ एयरपोर्ट से प्रस्थान किया।