निगम की लापरवाही से चंद दिनों की बारिश से स्मार्ट सिटी बिलासपुर बन गया पूरी तरह से सरोवर। – छ.ग.का नंबर 1 न्यूज़ पोर्टल


बिलासपुर। जनसंवाद। तरुण कौशिक

तमाम तरह की कार्य योजना बनाकर स्मार्ट सिटी बिलासपुर के विकास का दावा करना खोखला निकला।बरसात आने से पहले ही चंद दिनों की वर्षा में शहर डूब गया।आवासीय कालोनियों का हाल पानी से बेहाल हो चुका है।आगामी आज़ादी दिवस के चंद दिनों ही पूर्व शहर के विकास की ढांढस बांधने वाले नेताओं सहित नगर निगम की पोल खुल गई अगर पानी की वर्षा आगे भी इसी तरह होते रही तो आप इन तस्वीरों से अंदाजा लगा सकते है कि स्मार्ट सिटी की स्थिति कितनी बुरी होगी।नगर निगम अंतर्गत आने वाले रिहायशी इलाकों में पानी भर जाना नगर निगम की कार्य योजना पर सावलिया निशान जरूर खड़ा कर रहा है।

जोरापारा की मुख्य मार्ग से लेकर गलियों में भरा पानी

जोरापारा सरकण्डा की स्थिति बद से बत्तर हो चुकी है चंद दिनों की पानी वर्षा से आधा जोरोपारा डूब चुका है।लोग पानी भराव के कारण समस्याओं का सामना कर रहे है।नगर निगम की लाचारी की मार आम जनता झेल रही है प्रदेश के स्मार्ट सिटी की हाल से आप अन्य शहरो की स्थिति का अंदाजा लगा सकते है।घर घर तिरंगा अभियान को भी नगर निगम की लाचारी पलीता लगा रही है और प्रशासन इस जल भराव से निपटने में लाचार नज़र आ रही है।सीवरेज प्रोजेक्ट,अमृत मिशन सब की कार्य योजना में लापरवाही दिखाना नगर निगम बिलासपुर पर नही बल्कि आम जनता पर भारी पड़ रहा है।कई ठेकेदारों ने जो नव निर्माण कार्य किया है वो भी बरसात के पानी मे जर्जर हो रहा है ठेकेदारों की कारगुजारी और अधिक लाभ के चक्कर मे माल मटेरियल में कौताही बरतना महंगा पड़ रहा है।