नेता प्रतिपक्ष भाजपा नेताओं को सिखाये शालीनता



कांग्रेस संचार प्रमुख ने नही किया किसी का अपमान

रायपुर/ 4 नवंबर 2022/नेता प्रतिपक्ष नारायण चंदेल द्वारा कांग्रेस सँचार विभाग प्रमुख सुशील आनंद शुक्ला के द्वारा पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर के विरुद्ध दिए गए बयान पर की गई आपत्ति पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि भाजपा के प्रभारी नितिन नवीन ने छग महतारी का अपमान किया तब आपको आपत्ति नही हुई ।छत्तीसगढ़ की संस्कृति के विरोध में बात करते है तब आप चुप थे।कांग्रेस संचार प्रमुख ने पूर्व मंत्री के लिए किसी भी प्रकार के असंसदीय और अमर्यादित शब्दों का उपयोग नहीं किया है उन्होंने सामान्य छत्तीसगढ़ी बोलचाल में गलत कथन करने वाले व्यक्ति के लिए प्रयोग किए जाने वाले शब्दों का प्रयोग किया है जो कदापि भी गलत नहीं है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस सँचार प्रमुख के द्वारा विपक्ष के किसी भी नेता का अपमान का सवाल ही नहीं उठता राजनीति में विरोध की भाषा की मर्यादा का कांग्रेस हमेशा से पालन करती है।दुर्भाग्य जनक है इस भाषाई मर्यादा का उल्लंघन हमेशा भाजपा की तरफ से विशेष कर अजय चंद्राकर द्वारा किया जाता है। अजय चंद्राकर ने जब वरिष्ठ विधायक आदिवासी नेता मंत्री कवासी लखमा के लिए आइटम गर्ल जैसे अभद्र शब्दों का प्रयोग किया गया तब भाजपा को भाषा की मर्यादा का ख्याल नहीं आया? अजय चंद्राकर ने राजकीय चिन्ह की तुलना गोबर से किया तब भाजपा को अभद्रता नहीं लगी? प्रदेश के मुख्यमंत्री के लिए आज भी अजय चंद्राकर ने अभद्र शब्दों का प्रयोग किया उनके पैर पड़ने पर बंटाधार जैसे शब्दों का प्रयोग किया उन्होंने आज ही प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष मोहन मरकाम के भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होने पर तंज कसते हुए कहा कि वे बिना बुलाए राउत नाचा के समापन करने गए हैं स्वयं भाजपा के पूर्व प्रभारी ने मुख्यमंत्री के लिए थूककर बहाने की आपत्तिजनक बातें कहीं तब भाजपा चुप क्यों थी? पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल द्वारा कांग्रेस के नेताओं के लिए नपुंसक जैसे शब्दों का प्रयोग किया गया तब आपने आपत्ति क्यों नहीं किया पूर्व मंत्री भाजपा प्रवक्ता राजेश मूणत ने जिस प्रकार से अभद्रता और गाली गलौज किया था। निश्चित तौर पर भाषा की मर्यादा का ख्याल होना चाहिए विशेष कर वरिष्ठ नेता जो जिम्मेदार पद पर बैठे हैं उनकी भाषा मे सभ्यता और शालीनता झलकना चाहिए। जिसका अजय चंद्राकर जैसे नेता हमेशा से उल्लंघन करते हैं आपको अपने दल के नेताओं को भी राजनीति में आचरण की शुचिता और ध्यान देने के लिए कहें।यदि आप संचार प्रमुख से माफी की अपेक्षा करते है तब अजय चन्द्राकर से उनके द्वारा की जा रही लगातार अभद्रता पर आप क्यो चुप है क्या भाजपा उनके द्वारा मंत्री कवासी लखमा को आइटम गर्ल कहने पर सहमत है