परियोजना प्रशासक कार्यालय के बाबू से परेशान छात्र ने छात्रवृत्ति दिलाने इंटक जिलाध्यक्ष को दी अर्जी।


गौरेला-पेंड्रा-मरवाही/ जनसंवाद ब्यूरो/ जीपीएम जिले के कार्यालयों में कई सालों से एक ही स्थान पर जमे सरकारी बाबूओं के अत्याचार आम जनता के ऊपर दिनों दिन बढ़ती जा रही है, जो कि शासन-प्रशासन से भी नहीं छुपा है l इन बाबूओं की लापरवाही के कारण शासन की योजनाओं का लाभ समय पर पात्र हितग्राहियों को नहीं मिल पाता है l ऐसा ही मामला लेकर एक छात्र भारतीय राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस जिला गौरेला-पेंड्रा-मरवाही के अध्यक्ष इदरीस अंसारी के कार्यालय पहुंचा, ग्राम भस्कुरा निवासी छात्र प्रभाकर माझी ने अपनी समस्या की अर्जी इंटक जिलाध्यक्ष को लिखित में देते हुए बताया की शासन के द्वारा मिलने वाली छात्रवृत्ति का चेक परियोजना प्रशासक कार्यालय जिला गौरेला-पेंड्रा-मरवाही से मिलना था जिसके लिए शंकर यादव बाबू ने छात्र को पहले दो तीन घंटे ऑफिस मे बैठया उसके बाद चेक नहीं दूंगा कहकर भगा दिया l साथ ही बाबू ने यह भी धमकी दी कि तुमको जिसे बताना है जाकर बता दो मेरा आज तक किसी ने कुछ भी नहीं बिगाड़ पाया l अकारण कार्यालय से भगाने पर छात्र रोते हुये इधर-उधर भटकता रहा लेकिन किसी ने उसकी मदद नहीं की अंत में छात्र अपनी समस्या लेकर इंटक कार्यालय पहुंचा और उसने लिखित में अर्जी दी l इंटक जिलाध्यक्ष इदरीश अंसारी ने तत्काल बाबू शंकर यादव जी को फोन कर मामले की जानकारी ली जिसके बाद बाबू ने तत्काल छात्र का चेक काटने की बात कही l समय अधिक हो जाने के कारण शंकर बाबू के द्वारा दूसरे दिन चेक काटने की बात की गई l जिसके बाद इंटक जिलाध्यक्ष ने छात्र को अगले दिन आने की बात कही है । इंटक जिलाध्यक्ष के त्वरित कार्यवाही से छात्र की आंखों में आंसू आ गए और उन्होंने इंटक जिलाध्यक्ष के प्रति अपना आभार जताया है l इंटक जिलाध्यक्ष इदरीस अंसारी ने जनसंवाद को बताया कि जिले की हर आम नागरिक के लिए हमारा इंटक कार्यालय का दरवाजा हमेशा खुला है, हम अपने इंटक टीम के साथ आम लोगों की समस्याओं का त्वरित निराकरण कराने का पूरा प्रयास करते हैं l