बजरंगबली को नोटिस, भाजपाईयों का विरोध, अधिकारी



रायगढ़। रायगढ़ में बजरंगबली को नोटिस देने के मामले ने तूल पकड़ लिया है। यह मामला वार्ड क्रमांक-18 के टिकरापारा का है। जहाँ के एक हनुमान मंदिर को निगम ने नोटिस जारी किया था। इसके बाद गुरुवार को बीजेपी ने नगर निगम कार्यालय का घेराव कर दिया। उन्होंने निगम ऑफिस के अंदर भी जमकर हंगामा मचाया। बीजेपी कार्यकर्ताओं ने कहा कि नगर निगम के अधिकारी रांची या आगरा के पागलखाने में जाकर अपना इलाज कराएं।

रायगढ़ टू आगरा की टिकट

भाजपाई अपने साथ टिकट भी लेकर आए थे जिसमें रायगढ़ टू आगरा और रायगढ़ टू रांची लिखा हुआ है हालंकि यह प्लेटफार्म थी। जिसके बाद से भाजपाइयों का ही मजाक बनाया जाने लगा। इधर बीजेपी के विरोध-प्रदर्शन को देखते हुए निगम आयुक्त संबित मिश्रा अपने चैंबर में ही बैठे रहे। काफी देर तक भाजपाई आयुक्त से मिलने के लिए उनके चैंबर के बाहर बैठे रहे।

उपायुक्त से मिलने से किया इकांर

कार्यकर्ताओं ने निगमायुक्त के चैंबर के अंदर जाने की भी कोशिश की, लेकिन गार्ड ने उन्हें रोक दिया। बढ़ते विवाद को देखते हुए निगम के उपायुक्त ने प्रदर्शनकारियों के पास पहुंचे, लेकिन भाजपा कार्यकर्ताओं ने उनसे मिलने के लिए मना कर दिया। वे आयुक्त से मिलने की जिद पर ही अड़े रहे।

शवयात्रा निकालने की चेतावनी

भाजपा ने 28 अक्टूबर को नगर निगम की शवयात्रा निकालने की भी चेतावनी दी है। दरअसल रायगढ़ में नगर निगम ने हनुमान जी के नाम पर वॉटर टैक्स की वसूली के लिए नोटिस जारी कर दिया। इस नोटिस में उनके नाम के आगे श्रीमती लगाते हुए बजरंग बली के नाम पर 400 रुपए वॉटर टैक्स चुकता करने का नोटिस आया। इसे लेकर बीजेपी ने निगम पर हिंदू देवी-देवताओं के अपमान का आरोप लगाया है। इधर भाजपाई जिस टिकट को हाथ में लेकर हंगामा कर रहे थे, वो रांची या आगरा की टिकट नहीं, बल्कि प्लेटफॉर्म टिकट थी, जिसे लेकर बीजेपी खुद मजाक का पात्र बनती नजर आ रही है।

आयुक्त ने दी सफाई

इस मामले में रायगढ़ निगम आयुक्त ने सफाई देते हुए कहा था कि नोटिस मंदिर के नाम से भेजी गई थी। अब बजरंगबली के नाम पर हुई गलती का मामला सामने आने के बाद नोटिस में संशोधन किया जा रहा है। उन्होंने नया नोटिस भेजने की बात कही थी।

Read More- Omicron Symptoms ‘Cold-Like’: What Does UK Study Say on COVID Variant?