भाजपा प्रदेश प्रभारी ओम माथुर ने सीएम बघेल पर कसा तंज, कहा- दिल्ली में अहमद बनने की कोशिश ना करें



रायपुर। छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव 2023 की कवायद शुरू हो चुकी है। इस चुनावी मंथन के माहौल में राजनेता एक दूसरे पर बयानबाजी करते नजर आ रहे हैं। छत्तीसगढ़ के भाजपा प्रभारी ओम माथुर अपने चार दिवसीय दौरे के दौरान अलग अलग बैठक लेकर आगामी चुनाव के लिए कार्यकर्ताओं को तैयार कर रहे हैं। बुधवार को कुशाभाऊ ठाकरे में भाजपा मोर्चा प्रकोष्ठ की बैठक में भाजपा प्रदेश प्रभारी ओम माथुर ने सीएम भूपेश बघेल पर हमलावर हुए ।

उन्होंने सीएम बघेल पर तंज कसते हुए कहा है कि- एक परिवार का अहमद पटेल बनने की कोशिश ना करें। अहमद पटेल के जाने के बाद दिल्ली में उनकी जगह खाली है। आगे कहा कि भूपेश बघेल दिल्ली में अहमद बनने की कोशिश ना करें।

यह भी पढ़ें…

Chhattisgarh Politics: राहुल गांधी, कांग्रेस को भूल जाइए. सिर्फ भूपेश बघेल और विधायकों को टारगेट कीजिए-प्रदेश प्रभारी ओम माथुर

बता दें कि  कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और गांधी परिवार के करीबी रहे हैं अहमद पटेल । गुजरात में कांग्रेस के डैमेज कंट्रोलर और फायर ब्रिगेड कहे जाने वाले अहमद पटेल के जाने के बाद उनकी जगह कोई नहीं ले सका है।  चुनाव से पहले लोगों को सबसे ज्यादा उनकी कमी खल रही है।

जानिए अहमद पटेल के बारे 

1977 के लोकसभा चुनावों में जब कांग्रेस की हार हुई और गुजरात में अपनी कुछ विश्वसनीयता बचाई, तो अहमद पटेल संसद में पहुंचने वाले मुट्ठी भर लोगों में से एक थे। 1977 में 26 साल की उम्र में भरूच से लोकसभा चुनाव जीतकर अहमद पटेल सबसे कम उम्र के सांसद बने। उनकी जीत ने इंदिरा गांधी सहित सभी राजनीतिक पंडितों को चौंका दिया। इसके बाद 1980 और 1984 में इसी भरूच सीट से जीतकर सांसद पहुंचे। 1980 में कांग्रेस की वापसी के बाद जब इंदिरा गांधी ने अहमद को कैबिनेट में शामिल करना चाहा तो उन्होंने संगठन में काम करना पसंद किया।

यह भी पढ़ें…

बीजेपी में फिर बड़ा बदलाव, डी पुरंदेश्वरी की जगह अब ओम माथुर होंगे प्रदेश प्रभारी

दिलचस्प बात यह  रही कि गुजरात से लोकसभा पहुंचने वाले वो आखिरी मुस्लिम सांसद थे।  अहमद पटेल भरूच से 1984 में तीसरी बार लोकसभा चुनाव जीते थे और 1989 में बीजेपी से हारने के बाद उन्होंने राज्यसभा का रास्ता आख्तियार कर लिया। इसके बाद से 30 साल से ज्यादा का समय हो गया है, लेकिन गुजरात में कोई दूसरा मुस्लिम सांसद लोकसभा नहीं पहुंचा सका है।

यह भी पढ़ें…

Chhattisgarh Politics: राहुल गांधी, कांग्रेस को भूल जाइए. सिर्फ भूपेश बघेल और विधायकों को टारगेट कीजिए-प्रदेश प्रभारी ओम माथुर