भूपेश सरकार ने धान खरीदी में प्रदेश में ही नहीं देश में भी रिकॉर्ड बनाये



धान खरीदी में छत्तीसगढ़ देश में अव्वल नंबर पर

रायपुर/22जनवरी 2023/ मुख्यमंत्री भूपेश सरकार के द्वारा धान खरीदी में देश में अव्वल नंबर प्राप्त करने पर बधाई देते हुए प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार बनते ही वादाअनुसार किसानों की कर्ज माफी की गई सिंचाई कर माफ किया गया स्थाई पंप कनेक्शन दिया गया एवं धान की कीमत 2500 रु क्विंटल देना शुरू किया गया। उस दिन से लेकर आज तक प्रदेश में धान उत्पादक किसानों की संख्या में लगभग 9 लाख की वृद्धि हुई है और धान उत्पादन रकबा भी 5लाख हेक्टयर तक बढ़ा है। जिसका ही परिणाम है कि राज्य निर्माण के बाद आज छत्तीसगढ़ धान खरीदी के मामले में देश मे अव्वल नंबर पर है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार ने चालू खरीफ वर्ष में 1 करोड़ 3 लाख 70हजार 243 मीट्रिक टन धान खरीदी कर प्रदेश में पूर्व में हुई धान खरीदी के रिकॉर्ड को तोड़ने के साथ देश में भी धान खरीदी में अव्वल स्थान को प्राप्त किया है। प्रदेश में धान बेचने पंजीकृत 25 लाख से अधिक किसानों में से लगभग 23 लाख किसान धान बेच चुके हैं और उन्हें अब तक 19 हजार करोड़ से अधिक की राशि का भुगतान हो चुका है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल सरकार के किसान हितेषी निर्णयों के चलते किसानों का रुझान खेती की ओर बढ़ाएं प्रदेश के किसानों को इस वर्ष 2640 एवं 2660 रुपए प्रति क्विंटल धान की कीमत मिल रहा है जो किसी भी भाजपा शासित राज्यों में नहीं मिल रहा है बल्कि भाजपा शासित राज्यों में किसान अपनी उपज को औने पौने दामों पर बेचने को मजबूर है भाजपा शासित राज्यों में किसानों को इनपुट सब्सिडी मिलना दूर की बात सभी किसानों की उपज का समर्थन मूल्य मिलना भी मुनासिब नहीं है पूर्व रमन सरकार के दौरान प्रदेश में औसत प्रतिवर्ष 52 लाख मैट्रिक टन ही धान की खरीदी हो पाती थी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सरकार बनने के बाद 4 सालों में धान खरीदी का औसत पूर्व रमन सरकार की औसत से दोगुना है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने कहा कि भाजपा की नीति और नियत किसान विरोधी है यही वजह है कि भाजपा शासित राज्यों में किसानों के बेहतरी के लिए काम नहीं हो रहा है शत प्रतिशत किसानों से फसल की खरीदी नहीं की जा रही है मध्यप्रदेश में मात्र 45 लाख मीट्रिक टन धान खरीदी की गई गुजरात में मात्र 1लाख 76हजार मीट्रिक टन धान की खरीदी की गई। महाराष्ट्र में 10लाख48 हजार मीट्रिक टन धान खरीदी हुई, उत्तर प्रदेश में 54 लाख मैट्रिक टन धान खरीदी हुई हरियाणा में 58 लाख मैट्रिक टन की धान की खरीदी हुई है धान खरीदी के आंकड़े बता रहे हैं कि भाजपा शासित राज्यों में किसानों की स्थिति ठीक नहीं है किसानों के प्रति सरकार का रवैया ठीक नहीं है