महानदी में बढ़ते जलस्तर से दर्जन भर गांव हो सकते है जलमग्न, रेड अलर्ट जारी


रायगढ़ | (Flood in Raigarh) प्रदेशभर में चार दिनों से लगातार हो रही बारिश से महानदी किनारे बसे गांवों में संकट आ गया है. कुछ गांवों के आंगनबाड़ी भवन और पंचायत भवन तक पानी पहुंच गया है. जिसके चलते सड़क भी पूरी तरह से पानी में डूब चुकी है. एक– दो दिन बारिश और जारी रही तो दर्जन भर गांव जलमग्न हो जाएंगे. रायगढ़ जिले में महानदी की बाढ़ से तीन ब्लॉकों पुसौर, बरमकेला और सारंगढ़ के 64 गांव प्रभावित हो गए हैं. इनमें 46 गांव संवेदनशील हैं. महानदी का जल स्तर बढ़ने से ये गांव सबसे पहले और सबसे अधिक प्रभावित होते हैं.

इस वजह से सरिया क्षेत्र के नदीगांव, लिप्ती, पोरथ, तोरा, सुरसी, रानीडीह, परसरामपुर, मानिकपुर आदि गांवों में पानी घुस चुका है. नदी किनारे बने मकानों की बाड़ी पूरी तरह डूब चुकी है. गांव के अंदर की सड़कों तक पानी पहुंच गया है.

(Flood in Raigarh) महानदी बह रही खतरे के निशान से महज़ एक फ़ीट नीचे है. चंद्रपुर में महानदी खतरे के निशान से एक फीट नीचे बह रही है. सरिया क्षेत्र में महानदी किनारे के गांव फिर से आपदा का सामना करने तैयारी में लग गए हैं. गांवों के अंदर तक पानी पहुंच चुका है. हालांकि अभी जल स्तर बहुत ज्यादा नहीं है लेकिन नदी किनारे की ओर बने मकानों के किनारों तक पानी पहुंच गया है. रानीडीह , तोरा और सुरसी में सड़क डूबने लगी है.

कोई अधिकारी नहीं पहुंचा अभी तक:-

(Flood in Raigarh) हर साल ऐसी स्थिति आने के पूर्व ही अधिकारी एक बार इन गांवों का जायजा लेने जरूर पहुंचते हैं, लेकिन इस बार कोई भी अफसर इन गांवों में नहीं पहुंचा है. ग्रामीणों को सतर्क करने के लिए जल स्तर और अन्य जानकारियां भी दी जाती हैं. इस बार कोई भी तैयारी नहीं दिख रही है. ग्रामीणों ने बताया कि अगर दो दिन और ऐसी ही बारिश हुई तो पानी घरों में घुस जाएगा.

24 घंटे का रेड अलर्ट जारी:-

मौसम विभाग ने 24 घंटे के लिए रायगढ़ और जांजगीर–चांपा समेत कुछ जिलों के लिए रेड अलर्ट जारी किया है. यहां अगले 24 घंटे में भारी बारिश की आशंका है. (Flood in Raigarh) मौसम विभाग ने लोगों को सतर्क रहने को कहा है हीराकुंड डैम के 30 गेट खोले गए हैं, लेकिन महानदी में ऊपर से पानी की आवक बहुत अधिक है. आज भी तेज बारिश हुई तो किनारे के गांवों में खतरा बढ़ जाएगा.

Read More- Omicron Symptoms ‘Cold-Like’: What Does UK Study Say on COVID Variant?