मोबाइल टॉवर लगाने के नाम पर ठगी, 14 युवतियों समेत 22 गिरफ्तार





छत्तीसगढ़ के रायगढ़ जिले में पुलिस ने मोबाइल टॉवर लगाने के नाम पर ठगी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है। सबसे बड़ी बात यह है कि इस मामले में गिरफ्तार 22 आरोपियों में 14 युवतियां शामिल थीं। इनके साथ 8 युवकों को भी गिरफ्तार किया गया है। कोलकाता में संचालित कॉल सेंटर पर दबिश देकर ये कार्रवाई की गई है। इस कॉल सेंटर का सेटअप ठगों ने अपने लिए बनाया था, जो बिलकुल मल्टीनेशनल कंपनियों के सेंटर जैसा ही काम करता था। इसके जरिए पूरे देश में करोड़ों रुपए की ठगी होने का अनुमान है।

पुलिस के मुताबिक सभी आरोपी कॉल कर मोबाइल टॉवर लगाने के नाम पर लोगों को फंसाते थे। लोगों को मोटी रकम देने के साथ ही हर महीने किराये देने की बात करते थे। पुलिस ने आरोपियों से कई मोबाइल जब्त किए हैं।

ऐसे हुआ मामले का खुलासा
पुलिस केअनुसार पीड़ित आदित्य मिश्रा ने पुसौर थाने में 8 सितंबर 2022 को धोखाधड़ी का रिपोर्ट दर्ज कराया गया था। उसे अगस्त माह में 3 अलग-अलग मोबाइल नंबरों से कॉल कर गांव में एयरटेल कंपनी का टॉवर लगाने के संबंध में चर्चा कर घर और प्लाट की जरुरत बताई गई थी। बदले में प्रति माह 15,000 रुपए किराया और बोनस के तौर पर 15 लाख रुपए एक साथ देने का लालच दिया था। ये बातें बताकर ठगों ने डाक्यूमेंट्स तैयार करने, इंश्योरेंस, NOC और मटेरियल के लिए रुपये जमा करने की बात कही। पीड़ित से कुल 1,82,460 रुपये जमा कराकर धोखाधड़ी किया गया था । आरोपियों की पतासाजी के लिए पुलिस टीम पश्चिम बंगाल रवाना हुई। टीम का पुलिस अधीक्षक अभिषेक मीना मार्गदर्शन कर रहे थे। उन्होंने साइबर सेल को आवश्यक जानकारियां टीम को शेयर करने कहा गया था । रायगढ़ पुलिस स्थानीय कोलकाता जोरासांकी पुलिस की मदद से जोरासांकी मेट्रो के गेट परबड़ी सूझबूझ से रेड कर आरोपी शमसूल हुसैन (19 साल) निवासी बेलगछिया रोड कोतकाता को हिरासत में लिया गया ।

 

 



Post Views:
0