रुद्रात्मक हनुमान मंदिर में पूजा के बाद लगाए गए 1300 पौधे


रूद्र परिवार छिंदवाड़ा द्वारा हनुमान प्रकट उत्सव के संकल्प अनुसार आज पाआमा नर्सरी में कलेक्टर सौरव सुमन  के अध्यक्षता में 1300 विभिन्न प्रजाति के पेड़ पौधों का रोपण किया गया। इस अवसर पर कलेक्टर द्वारा श्री हनुमान जी महाराज की पूजा की गई एवं उनके द्वारा रोपे गए पीपल के पौधों की भी पूजा की गई। इस अवसर पर रूद्र परिवार के सदस्यों द्वारा हनुमान चालीसा का जाप किया गया इसके उपरांत 1300 पौधों को वन विभाग के सौजन्य से अंकुर अभियान के तहत नर्सरी में लगाया गया है । ज्ञातव्य हो कि इसके पूर्व भी रूद्र परिवार द्वारा 2100 पौधों का रोपण इसी नर्सरी में किया गया था । रूद्र परिवार के संस्थापक रितेश रत्नाकर पांडे की परिकल्पना के अनुसार सभी सदस्यों ने अपने अपने परिजनों की स्मृति में पौधारोपण किया गया है ।

रूद्र परिवार द्वारा निशुल्क विभिन्न सामाजिक कार्य किए जाते हैं। कलेक्टर द्वारा कहा गया कि यह मेरा सौभाग्य है कि मुझे आज पीपल के पौधे का रोपण करने का अवसर प्राप्त हुआ । उन्होंने सभी सदस्यों से अनुरोध किया कि कृपया सभी अपने घरों में हर घर तिरंगा अभियान के अंतर्गत तिरंगा झंडा भी लगाएं और इन पौधों का संरक्षण भी करें ।  रितेश रत्नाकर पांडे ने आश्वासन दिया कि हमारे रूद्र परिवार के सभी सदस्य अपने घरों में झंडा अवश्य लगाएंगे और पौधों का संरक्षण भी अवश्य करेंगे । कलेक्टर महोदय हमारे कार्यक्रम में पधारे उसके लिए रूद्र परिवार बहुत बहुत आभारी हैं । कार्यक्रम के उपरांत सभी सदस्यों के लिए महाप्रसाद का भी इंतजाम रूद्र परिवार के सदस्यों द्वारा किया गया था जो कि निर्विघ्न संपन्न हुआ।

” मटक-मटक ” में पैर पटक-पटक कर ये क्या कर रहे खेसारी लाल और सपना चौधरी

इस कार्यक्रम में विशेष रूप से कृषि विभाग के उप संचालक  जितेंद्र सिंग  राजकुमार कोरी,  नीलकंठ पटवारी वन विभाग के रेंजर  शंकर मर्सश्री महेन्द्र चौहान  श्रीनिवास बागड़देव  एनसीएस राव डॉ शशांक सिकरवार परसराम सिकरवार  अनिल मालवीय  बैजनाथ कस्तूरे सौरव गढ़ेवाल सुधींद्र गुप्ता  चिंतामन ठाकरे  भूमि ठाकरे  रमेशचंद्र संध्या पवार  वैभव स्वामी  ओम प्रकाश राजपूत  कमलेश असोढिया  अनिल मालवीय  बैजनाथ कस्तूरे सौरव गढ़ेवाल  चिंतामन ठाकरे श्रीभूमि ठाकरे  रमेशचंद्र संध्या पवार  वैभव स्वामी ओम प्रकाश राजपूत कमलेश असोदिया  योगेश्वर कोल्हेकर  कमलाकर प्रतिमा सांवली  और  करुणा ठाकरे  साहू, सौरभ और बड़ी संख्या में रूद्र परिवार की महिलाएं पुरुष उपस्थित हुए।