विधायक डॉ केके ध्रुव ने मरवाही अनुभाग के अधिकारियों की ली समीक्षा बैठक ,दिखाए कड़े तेवर।


जीपीएम- मरवाही विधायक डॉ केके ध्रुव आज मरवाही में अधिकारियों की विभाग वार समीक्षा बैठक ली। मरवाही के जनपद सभा कक्ष में आयोजित इस बैठक में लगभग सभी विभागों के अनुभाग स्तरीय अधिकारी उपस्थित रहे।इस बैठक में विधायक डॉ के के ध्रुव के तीखे तेवर भी देखने को मिला। बैठक के दौरान विधायक डॉ केके ध्रुव ने राजस्व विभाग के लंबित प्रकरण जैसे फौती नामांतरण, बटवारा, डिजिटल साइन आदि प्रकरणों के त्वरित निराकरण करने के निर्देश राजस्व अधिकारियों को दिए।वही उन्होंने छत्तीसगढ़ सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट गौठान के समुचित देख रख करने,महिला समूहों को प्राथमिकता प्रदान करने,ग्राम पंचायतों में चल रहे कार्यों के सतत मैनेट्रिंग करने,गुणवत्ता का विशेष ध्यान देने,क्षेत्र में राशन दुकानों की पीडीएस के बारे में विस्तृत जानकारी अधिकारियों से ली,मरवाही क्षेत्र में कम बारिश को देखते हुए यहां रोजगार मूलक कार्यों की स्वीकृति अविलंब कराने के निर्देश भी अधिकारियों को दिए। पीडब्ल्यूडी विभाग को स्वीकृत सड़को के टेंडर प्रक्रिया पूरी करने तो नवीन सड़को के प्रस्ताव भेजने व सड़को में बने गड्ढों में डस्ट आदि भर कर पाटने को कहा गया।वहीं विधायक डॉ केके ध्रुव ने स्वास्थ्य विभाग में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मरवाही में उपलब्ध दवाइयों,सुविधाओ, चिकित्सको व स्टाप की उपलब्धता की जानकारी ली और जीवन रक्षक दवाइयों को 24 घंटे उपलब्ध कराने के निर्देश अधिकारियों को दिए।वही वन विभाग के अधिकारियों को जंगली हाथियों,भालू आदि जानवरो से हुए जान माल़ की हुई नुकसान का तत्काल मुवाजा प्रकरण बनाने के निर्देश दिए। बैठक के दौरान विधायक डॉ केके ध्रुव ने उपस्थित अधिकारियों से कहा कि आमजन की समस्याओं का त्वरित निराकरण हो और आमजन को किसी कार्यालय में भटकना न पड़े। विधायक डॉ केके ध्रुव ने कहा कि हमारी सरकार की प्रत्येक योजनाओं का लाभ समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचे, यह हम सब की जिम्मेदारी है।उन्होंने सख्त लहजे में अधिकारियों को चेतावनी देते हुए कहा कि शासन की योजनाओं का क्रियान्वन प्रभावी ढंग से हो, इसकी जिम्मेदारी हम सभी को लेनी है।इसमें किसी भी प्रकार की कोताही न बरती जाए।आज के इस बैठक में मरवाही अनुविभाग के एसडीएम ,जनपद के सीईओ सहित,राजस्व पीडब्ल्यूडी,वन,जलसंसाधन,आर ई यस,स्वास्थ्य विभाग,महिला एवम् बाल विकास, शिक्षा विभाग सहित अन्य कई विभाग के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित रहे।