*हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होते ही कद्दावर आदिवासी नेता पूर्व मंत्री गणेश राम भगत ने चुनाव लड़ने को लेकर दिया बड़ा बयान…ढोल नगाड़ों और जयकारों के साथ स्वागत के लिए उमड़ा कार्यकर्ताओं का हुजूम… स्व.देवकी महाराज और रामदयाल बजाज को लेकर भी कहा बड़ा बात, हिन्दू समाज के लोगों का चोटी की स्वाभिमान का सवाल है,…जिले की राजनीति गलियारों में एक बार फिर मचेगा बवाल… ग्राउंड जीरो न्यूज में देखिये वीडियो पूर्व मंत्री ने क्या कुछ कह दिया..*



जशपुरनगर(राकेश गुप्ता की रिपोर्ट):- छत्तीसगढ़ प्रदेश के कद्दावर आदिवासी नेता जनजाति सुरक्षा मंच के राष्ट्रीय संयोजक पूर्व मंत्री गणेश राम भगत का उनके बंगले मे पैर फिसलने के कारण हुए घटना के बाद से काफी लम्बे समय से रायपुर के हॉस्पिटल में भर्ती थे।वहीं पूर्व मंत्री बीते दिन हॉस्पिटल से डिस्चार्ज हुये और फिर जशपुर पहुंचे।वहीं उनके जशपुर आने की खुशी से कार्यकर्ताओं में एक ऊर्जा देखने को मिला।बताया जा रहा है कि उनके जशपुर आने की सूचना पर सैकड़ों कार्यकर्ता ढोल नगाड़ा के साथ उनके स्वागत के लिए तपकरा तक चले गए थे और फूल माला पहना कर जयकारा लगाते हुए पूर्व मंत्री का जिले में स्वागत किया।वहीं उनका काफिला जब आगे बढ़ा तो कुनकुरी में भी कार्यकर्ताओं ने जयकारों के साथ उनका भारी स्वागत किया।जहां उन्होंने मीडिया से चर्चा करते हुए कहा कि मैं जनता की भावनाओं का सम्मान करता हूँ जनभावना को कोई रोक नही सकता है।वहीं उन्होंने यह भी कहा कि हिन्दू समाज के लोगो के लिए अब चोटी की स्वाभिमान का सवाल है।सभी कुनकुरी नागवासियों को स्व.देवकी महाराज और रामदयाल बजाज जी के पदचिन्हों पर चलना चाहिए और एक होकर सनातन समाज को बचाने संघर्ष करना चाहिए।वहीं उनके कुनकुरी विधानसभा से चुनाव लड़ने की सवाल पर उनका अलग ही अंदाज दिखा और उन्होंने जवाब में कहा कि जब राजनीति की बात आएगी तब देखा जायेगा उसमें भी कूद जाएंगे।कुनकुरी क्या मैं तो लंका से भी चुनाव लड़ लूंगा।मैं कुनकुरी से थोड़ी डरता हूँ,मुझे तो जहां से मौका मिल जायेगा मैं वहीं से चुनाव लड़ लूंगा।मैं डफला बजाने वाला नही मैं तो मांदर बजाने वाला आदमी हूँ।वहीं उन्होंने डिलिस्टिंग विषय पर भी बोला और कहा कि डिलिस्टिंग की लड़ाई अंतिम सांस तक चलेगी।और डिलिस्टिंग तो अब होकर रहेगा।

जिले में जिस प्रकार से पूर्व मंत्री गणेश राम भगत का जनाधार लगातार बढ़ता हुआ जा रहा है और कार्यकर्ताओं में लगातार ऊर्जा देखने को मिल रहा है।उससे यह साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि आने वाले समय मे जिले की राजनीति गलियारों में काफी बवाल मचने वाला है।