Connect with us

CG News

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल 20 अगस्त को राज्य के किसानों, पशुपालकों, गौठान समितियों और समूहों को ऑनलाइन जारी करेंगे 1750 करोड़ रूपए


गोधन न्याय योजना के हितग्राहियों को 5 करोड़ 24 लाख रूपए का करेंगे भुगतान

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत किसानों को हो चुका है 12,920 करोड़ रूपए का भुगतान

गोधन न्याय योजना के तहत हितग्राहियों को अब तक दिए जा चुके हैं 330 करोड़ रूपए

गौठानों से जुड़ी महिला समूहों को हो चुकी 78.62 करोड़ रूपए की आमदनी

रायपुर, 19 अगस्त 2022/ मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल 20 अगस्त शनिवार को पूर्व प्रधानमंत्री भारत रत्न स्वर्गीय श्री राजीव गांधी जी की जयंती के अवसर पर राज्य के किसानों, पशुपालक ग्रामीणों, गौठान समितियों और महिला स्व-सहायता समूहों को 1750 करोड़ 24 लाख रूपए की राशि उनके बैंक खाते में ऑनलाइन जारी करेंगे। यह राशि छत्तीसगढ़ सरकार की राजीव गांधी किसान न्याय योजना और गोधन न्याय योजना के तहत दी जाएगी। मुख्यमंत्री निवास कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल वर्चुअल रूप से राज्य के जनप्रतिनिधियों, किसानों, गौपालकों एवं समूहों की महिलाओं से चर्चा करेंगे।

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत 20 अगस्त को राज्य के 26 लाख 21 हजार किसानों को इस साल की इनपुट सब्सिडी की दूसरी किस्त के रूप 1745 करोड़ रूपए की राशि उनके बैंक खातों में ट्रांसफर की जाएगी। इससे पूर्व 21 मई 2022 को राज्य के किसानों को इस योजना की प्रथम किस्त के रूप में 1745 रूपए का भुगतान किया गया था। राजीव गांधी किसान न्याय योजना छत्तीसगढ़ खरीफ वर्ष 2019 से लागू की गई है। इस योजना के तहत अब तक किसानों को 12 हजार 920 करोड़ रूपए की इनपुट सब्सिडी दी जा चुकी है। 20 अगस्त को द्वितीय किस्त के भुगतान के बाद यह राशि बढ़कर 14 हजार 665 करोड़ हो जाएगी। उल्लेखनीय है कि खरीफ 2019 में 18.43 लाख किसानों को 4 किस्तों में इनपुट सब्सिडी के रूप में 5627 करोड़ रूपए, खरीफ वर्ष 2020 के 20.59 लाख किसानों को 5553 करोड़ रूपए की इनपुट सब्सिडी दी जा चुकी है। इस योजना के तहत किसानों को इनपुट सब्सिडी की यह राशि राज्य में फसल उत्पादकता एवं फसल विविधीकरण को बढ़ावा देने तथा काश्त लागत को कम करने के उद्देश्य से दी जा रही है। 

मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल 20 अगस्त को ही गोधन न्याय योजना के तहत पशुपालक ग्रामीणों, गौठान समितियों और महिला स्व-सहायता समूहों को 5 करोड़ 24 लाख रूपए की राशि जारी करेंगे। गोधन न्याय योजना के तहत बीते दो सालों में गोबर विक्रेताओं, गौठान समितियों और महिला समूहों को 330 करोड़ रूपए का भुगतान किया जा चुका है। 20 अगस्त को इस योजना की 50वीं किस्त की राशि 5.24 करोड़ रूपए के भुगतान के बाद यह आंकड़ा बढ़कर 335 करोड़ 24 लाख रूपए हो जाएगा। गोधन न्याय योजना के तहत गौठानों में दो रूपए किलो में गोबर की खरीदी की शुरूआत 20 जुलाई 2020 से हरेली पर्व से की जा रही है। गौठानों में 15 अगस्त 2022 तक 79.12 लाख क्विंटल गोबर की खरीदी की गई है। राज्य में 8408 गौठान निर्मित और संचालित हैं, जहां 2 लाख 52 हजार से अधिक पशुपालक ग्रामीण गोबर बेच कर सीधे लाभान्वित हो रहे हैं, इसमें 1 लाख 43 हजार से अधिक भूमिहीन शामिल हैं।

गोधन न्याय योजना देश-दुनिया की इकलौती ऐसी योजना है, जिसके तहत छत्तीसगढ़ राज्य के गौठानों में 2 रूपए किलो की दर से गोबर तथा 4 रूपए लीटर की दर से गौमूत्र की खरीदी की जा रही है। गौठानों में 31 जुलाई तक खरीदे गए गोबर के एवज में गोबर बेचने वाले ग्रामीणों को 155.60 करोड़ रूपए का भुगतान भी किया जा चुका है। 20 अगस्त को गोबर विक्रेताओं को 2.64 करोड़ रूपए का भुगतान होने के बाद यह आंकड़ा बढ़कर 158.24 करोड़ रूपए हो जाएगा। गौठान समितियों एवं महिला स्व-सहायता समूहों को अब तक 151.60 करोड़ रूपए राशि की भुगतान किया जा चुका है। गौठान समितियों तथा स्व-सहायता समूह को 20 अगस्त को 2.60 करोड़ रूपए के भुगतान के बाद यह आंकड़ा बढ़कर 154.02 करोड़ रूपए हो जाएगा।

गौठानों में महिला समूहों द्वारा गोधन न्याय योजना के अंतर्गत क्रय गोबर से बड़े पैमाने पर वर्मी कम्पोस्ट, सुपर कम्पोस्ट, सुपर कम्पोस्ट प्लस एवं अन्य उत्पाद तैयार किया जा रहा है। महिला समूहों द्वारा 17.27 लाख क्विंटल वर्मी कम्पोस्ट तथा 5.21 लाख क्विंटल से अधिक सुपर कम्पोस्ट एवं 18,924 क्विंटल सुपर कम्पोस्ट प्लस खाद का निर्माण किया जा चुका है, जिसे सोसायटियों के माध्यम से शासन के विभिन्न विभागों एवं किसानों को रियायती दर पर प्रदाय किया जा रहा है। महिला समूह गोबर से खाद के अलावा गो-कास्ट, दीया, अगरबत्ती, मूर्तियां एवं अन्य सामग्री का निर्माण एवं विक्रय कर लाभ अर्जित कर रही हैं। गौठानों में महिला समूहों द्वारा इसके अलावा सब्जी एवं मशरूम का उत्पादन, मुर्गी, बकरी, मछली पालन एवं पशुपालन के साथ-साथ अन्य आय मूलक विभिन्न गतिविधियों का संचालन किया जा रहा है, जिससे महिला समूहों को अब तक 78.62 करोड़ रूपए की आय हो चुकी हैं। राज्य में गौठानों से 13,969 महिला स्व-सहायता समूह सीधे जुड़े हैं, जिनकी सदस्य संख्या 83,874 है। गौठानों में क्रय गोबर से विद्युत उत्पादन की शुरुआत की जा चुकी है।

उल्लेखनीय है कि गोबर से प्राकृतिक पेंट बनाने की शुरूआत भी रायपुर के हीरापुर-जरवाय गौठान में हो चुकी है। मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल की मंशा के अनुरूप गौठानों को रूरल इण्डस्ट्रियल पार्क के रूप में विकसित किया जा रहा है। यहां आयमूलक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए तेजी से कृषि एवं वनोपज आधारित प्रसंस्करण इकाईयां, गोबर से प्राकृतिक पेंट निर्माण के लिए यूनिटें स्थापित की जा रही हैं। 227 गौठानों में तेल मिल तथा 292 गौठानों में दाल मिल सहित मिनी राईस मिल एवं अन्य प्रकार यूनिटे स्थापित किए जाने का काम तेजी से जारी है।

राज्य में गोधन के संरक्षण और सर्वधन के लिए गांवों में गौठानों का निर्माण तेजी से कराया जा रहा है। गौठानों में पशुधन देख-रेख, उपचार एवं चारे-पानी का निःशुल्क बेहतर प्रबंध है। राज्य में अब तक 10,624 गांवों में गौठानों के निर्माण की स्वीकृति दी गई है, जिसमें से 8408 गौठान निर्मित एवं 1758 गौठान निर्माणाधीन है। स्वावलंबी गौठानों ने अब तक स्वयं की राशि से 17.82 करोड़ रूपए का गोबर क्रय किया है। गोधन न्याय योजना से 2 लाख 52 हजार से अधिक ग्रामीण, पशुपालक किसान लाभान्वित हो रहे हैं। गोबर बेचकर अतिरिक्त आय अर्जित करने वालों में 46.05 प्रतिशत संख्या महिलाओं की है। इस योजना से एक लाख 43 हजार से अधिक भूमिहीन परिवार लाभान्वित हो रहे हैं।

CG News

36वें नेशनल गेम्स-2022 गुजरात



तलवारबाजी में छत्तीसगढ़ ने जीते चार पदक

रायपुर, 04 अक्टूबर 2022/ 36वें नेशनल गेम्स 2022 में छत्तीसगढ़ के सेबर टीम चैम्पियनशिप के सेमीफाइनल स्पर्धा में कांस्य पदक जीता। आज गांधीनगर में सेबर इवेंट चैम्पियनशिप में रेशु साहू, गौरव चौधरी, जुबराज सिंह, एस.वीजू की टीम ने क्वाटर फाइनल मुकाबले में हरियाणा को संघर्षपूर्ण मुकाबले के अंतिम क्षणों में 45-44 से हराकर रोमांचक जीत दर्ज़ कर सेमीफाइनल में प्रवेश किया। परंतु सेमीफाइनल में हुए संघर्षपूर्ण मुकाबले में टीम को कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा। फेंसिंग के खिलाड़ियों की इस उपलब्धि के लिए मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल, खेल मंत्री श्री उमेश पटेल, फेंसिंग के अध्यक्ष डॉ. एस. भारतीदासन एवं महासचिव श्री बशीर अहमद खान, खेल एवं युवक कल्याण विभाग की संचालक श्रीमती श्वेता सिन्हा श्रीवास्तव, सीडीएम श्री अतुल शुक्ला एवं डिप्टी सीडीएम श्री रूपेंद्र सिंह चौहान ने विजेता खिलाड़ियों को बधाई दी हैं।

सेबर टीम के मुख्य कोच श्री प्रवीण कुमार गनवारे, श्री वी जॉनसन सोलोमन एवं श्री अनूप चौधरी टीम मैनेजर श्री अखिलेश दुबे ने बताया कि छत्तीसगढ़ ने अब तक प्रतियोगिता में 2 रजत पदक एवं 2 कांस्य पदक सहित कुल 4 पदक राज्य के लिए जीते हैं। राज्य के खिलाड़ियों ने सीमित संसाधन के बावजूद एक माह के कठिन प्रशिक्षण में ये सफलता अर्जित की हैं।



Continue Reading

CG News

नवरात्रि के पावन अवसर पर भिलाई 3 स्थित मुख्यमंत्री निवास में कन्याभोज का आयोजन किया गया



रायपुर, 04 अक्टूबर 2022 : नवरात्रि के पावन अवसर पर भिलाई 3 स्थित मुख्यमंत्री निवास में कन्याभोज का आयोजन किया गया.मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने परिजनों के साथ कन्याओं की पूजा कर उन्हें भोजन कराया



Continue Reading

CG News

कटघोरा : महाअष्टमी पर हवन पूजन के साथ हुए भोग भंडारे का आयोजन.. नगर में नवरात्र अपने आखिरी चरम पर..भक्तों की बढ़ रही भीड़.. जाने कहाँ का कितना पुराना इतिहास है..



कोरबा/कटघोरा 4 अक्टूबर 2022 ( सेन्ट्रल छत्तीसगढ़ ): शारदीय नवरात्रि का पर्व शहर में धूमधाम से मनाया जा रहा है। कल महाअष्टमी के अवसर पर कटघोरा नगर में सभी देवी मंदिरों व दुर्गा पंडालों में हवन पूजन हुए और इसके पश्चात माता को भोग लगाकर भंडारे का आयोजन भी किया गया।

शारदीय नवरात्रि का पर्व शहर में धूमधाम से मनाया जा रहा है। कल महाअष्टमी के अवसर पर नगर में सभी देवी मंदिरों में दुर्गा पंडालों में हवन पूजन हुए और इसके पश्चात माता को भोग लगाकर भंडारे का आयोजन भी किया गया। इस वर्ष हवन के लिए कई मुहर्त होने के कारण विभिन्न मंदिरों में अलग-अलग समय पर हवन-पूजन भी किए गए। शक्ति की देवी को आराधना के लिए श्रद्धालु दिन रात जुटे हुए हैं। कटघोरा नगर के सभी मंदिरों व पंडालों में आज जहां हवन-पूजन के कार्यक्रम सम्पन्न हुए वहीं कई जगह भंडारे का आयोजन भी किया गया। इसके अलावा नवमी के अवसर पर भी भंडारा का आयोजन किया गया।

दुर्गा मंदिर पुरानी बस्ती में मात भवानी की उपासना का इतिहास 46 वर्ष पुराना है

कटघोरा वार्ड 10 मुख्य मार्ग स्थित दुर्गा मंदिर का इतिहास 46 वर्ष पुराना होने से यहां पर लोगों की आस्था ज्यादा रहती है। कटघोरा नगर में पंचायत काल से यहां पर मां दुर्गा मंदिर का निर्माण कराया गया था। तब से यहां माता दुर्गा की प्रतिमा शारदीय नवरात्र में स्थापित की जाती है। भक्त माता की उपासना पूरे नवरात्र में बड़ी ही भक्ति भाव से करते हैं । प्रतिदिन भजन कीर्तन महिलाओं द्वारा किया जाता है। हवन पूजन के पश्चात भोग भंडारे का आयोजन किया जाता है। नौ दिन यहां का माहौल पूरा भक्ति मय होने के साथ साथ आसपास के लोग मां दुर्गा के दर्शन करने आते हैं।

मध्य नगरी में पिछले 41 वर्ष से हो आदिशक्ति मां भवानी की स्थापना

कटघोरा नगर के वार्ड नं 4 बाज़ार मोहल्ला मध्य नगरी में राधा कृष्ण मंदिर के पास पिछले 41 वर्ष से आदि शक्ति मां भवानी की स्थापना की जा रही है। पूरा नगर शारदीय नवरात्र में माँ की भक्ति में भक्तिमय हो जाता है। इस वर्ष यहाँ राधा कृष्ण दुर्गोत्सव समिति मध्य नगरी कटघोरा द्वारा भव्य आकर्षक पंडाल के साथ साथ सुंदर माता भवानी की स्थापना की है। आयोजन समिति द्वारा प्रतिवर्ष दशहरा के दिन विशाल भंडार का आयोजन किया जाता है। आसपास के लोग बड़ी संख्या में यहां आकर भोग भंडारे में प्रसाद ग्रहण करने पहुंचते हैं।

तहसील दुर्गोत्सव समिति 40 वर्षो से शारदीय नवरात्र का कर रहा आयोजन

कटघोरा तहसील भाटा में तहसील कार्यालय परिसर में 40 वर्षों से तहसील दुर्गोत्सव समिति द्वारा शारदीय नवरात्र में माता दुर्गा की प्रतिमा स्थापित की जा रही है। समिति के सदस्यों द्वारा नवरात्र के प्रतिदिन सुबह व शाम को महा आरती की जाती है। इस आरती में भारी संख्या में लोग शामिल होने पहुंचते हैं। महानवमी पर हवन पूजन के पाश्चत भोग भंडारे का आयोजन किया जाता है। तहसील दुर्गोत्सव समिति द्वारा राम नवमी को दशहरा उत्सव भी मनाया जाता है। समिति द्वारा इस वर्ष रंगारंग कार्यक्रम के तहत छत्तीसगढ़ लोक कला मंच के तत्वाधान में :”तिहार” कार्यक्रम का आयोजन किया जा रहा है।

माँ चण्डिका दुर्गोत्सव समिति 34 वर्षो से कर रहे पूरे भक्ति भाव से माता दुर्गा की पूजा

वार्ड 10 कटघोरा पुरानी बस्ती चांदनी चौक पर मां चण्डिका दुर्गोत्सव समिति द्वारा पिछले 34 वर्षों से माता दुर्गा की प्रतिमा स्थापित कर पूजा अर्चना करते चले आ रहे हैं। शारदीय नवरात्र में यहां के युवकों व वार्ड के बुजुर्ग व्यक्तियों द्वारा स्वयं से तैयार भव्य पंडाल में आदिशक्ति भवानी की मूर्ती स्थापित कर पुर नवरात्र माता की उपासना में लीन रहते हैं जिससे यहां का माहौल पूरा भक्ति मय हो जाता है। रंग बिरंगी रोशनी से साज सज्जा कर पंडाल स्थल को सुसज्जित किया जाता है। नवमी को कन्या भोजन की परंपरा भी पुरानी है इसके बाद विशाल भोग भंडारे आ आयोजन समिति द्वारा किया जाता है।

गायत्री दुर्गोत्सव समिति का 23 वां वर्ष

कटघोरा नगर में गायत्री मन्दिर पर भव्य पंडाल के साथ साथ सुंदर साज सज्जा की गई हैं यहां पर पिछले 22 वर्षों से माँ दुर्गा जी की स्थापना की जा रही है। इस 23 वर्ष में गायत्री दुर्गोत्सव समिति के तत्वाधान में सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ राम नवमी को दशहरा उत्सव बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है। इस वर्ष बस स्टैंड के पास कार्यक्रम न होकर यह कार्यक्रम हाई स्कूल स्टेडियम ग्राउंड में आयोजित किया जा रहा है। इस वर्ष नवरात्र के प्रथम दिन आयोजन समिति द्वारा विश्व प्रसिद्ध भजन गायिका शहनाज़ अख्तर का कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें हजारों की संख्या में श्रोतागण इस कार्यक्रम का आनंद लेने पहुंचे हुए थे।

नवागांव में पिछले 23 वर्षों से की जा रही मात भवानी की उपासना

कटघोरा के वार्ड 5 नवागांव में पिछले 23 वर्षों से शारदीय नवरात्र में आदिशक्ति स्वरूपा मात भवानी की उपासना की जा रही है। सार्वजनिक दुर्गोत्सव समिति द्वारा नवागांव के पौराणिक सरोवर के पास माँ दुर्गा जी की स्थापना की जाती है। पूर्व में स्थापना स्थल जर्जर हो चुका था परंतु वर्तमान पार्षद व नगर पालिका अध्यक्ष द्वारा मंच स्थल का जीर्णोद्धार कर उसे सुंदर रूप प्रदान किया है। समिति द्वारा मंच स्थल पर भव्य पंडाल का प्रतिरूप देकर माता दुर्गा की स्थापना कर नवरात्र में पूरा नवागांव माता की भक्ति में डूबा रहता है। समिति द्वारा सरोवर के बीचोबीच आकर्षक झांकी भी सुशोभित की जाती है। जो लोगों को अपनी ओर सहज ही आकर्षित करती नज़र आती है।

कटघोरा आदर्श दुर्गोत्सव समिति द्वारा पिछले 23 वर्षों से मनाया जा रहा शारदीय नवरात्र

कटघोरा अम्बिकापुर मार्ग पर पिछले 23 वर्षों से आदर्श दुर्गोत्सव समितु द्वारा भव्य पंडाल व सुदर माता की प्रतिमा की स्थापना की जाती है। इस स्थान के आसपास के पूरे क्षेत्र को सुंदर रंग बिरंगी लाइटों से सुसज्जित किया जाता है। सड़क मार्ग से गुजरने वाले लोग सहज ही यहां की सुंदरता देख रुक जाते हैं और माता के दर्शन कर प्रसाद ग्रहण करते हैं। यहां समिति द्वारा रंगारंग कार्यक्रम की प्रस्तुति की जाती है। जिसे देखने व सुनने लोग दूर दराज से आते हैं । महानवमी के दिन हवन पूजन पश्चात भोग भंडारे का आयोजन किया जाता है।

मोहलाइन भाटा में 24 वर्षो से मना रहा शारदीय नवरात्र

कटघोरा वार्ड 8 मोहलाइन भाटा में सार्वजनिक दुर्गोत्सव समिति द्वारा शारदीय नवरात्र में यह 24 वां वर्ष है। यहां पर नगर के लोगों के सहयोग से शारदीय नवरात्र में भव्य पंडाल सुसज्जित कर माता दुर्गा की मूर्ती स्थापना की जाती है। नौ दिन चलने वाले नवरात्र में पूरा नगर माता की असीम भक्ति में लीन रहता है। समिति द्वारा महानवमी के दिन हवन पूजन कर कन्या भोजन कराया जाता हैं। तथा माता स्वरूपी कन्याओं को उपहार दिए जाते हैं और उनसे आशीर्वाद प्राप्त करते हैं। नौ दिन चलने वाले नवरात्र में पूरा वातावरण भक्ति मय हो जाता है।

शारदीय नवरात्र पर कारखाना लाइन महागौरी मन्दिर में होती रोजाना महाआरती

कटघोरा बिलासपुर मार्ग पर कारखाना लाइन के पास महागौरी मन्दिर की स्थापना स्थानीय व्यापारियों द्वारा करवाया गया हैं। यहां शारदीय नवरात्र के पुर नौ दिन महाआरती होती है। इस आरती में आसपास के लोग भारी संख्या में आकर माता की आरती में शामिल होकर पूण्य अर्जित कर प्रसाद ग्रहण करते हैं। यहां पूरे मन्दिर परिसर को सुदर लाइटों से सुशोभित किया जाता है। जिससे इस मंदिर की छटा देखते ही बनती है। मन्दिर में स्थापित महागौरी की प्रतिमा की सुंदरता लोगो को माता की भक्ति के प्रति प्रगाढ़ हो जाती है। यहां नवरात्र के अलावा बारहों महीने भक्तो की भीड़ देखने को मिलती है।



Continue Reading

Trending