राजधानी के 10 में आठ जोन अध्यक्ष कांग्रेस के, क्रॉसवोटिंग में 1 गंवाया, भाजपा के पास 2 जोन , June 12, 2020 at 05:37AM

राजधानी के नगर निगम में कांग्रेस के पार्षद गुरुवार को हुए जोन अध्यक्ष के चुनाव में 8 जोन में जीतने में कामयाब हो गए हैं। इनमें से 7 में पार्टी के पार्षद चुनाव जीतकर जोन अध्यक्ष बने, जबकि सभापति के रूप में पूर्व महापौर प्रमोद दुबे को एक जोन का पदेन अध्यक्ष घोषित किया गया। नतीजों के मुताबिक कांग्रेस की ओर से हरदीप सिंग बंटी होरा जोन-2, प्रमोद दुबे जोन-4, मन्नू यादव जोन-5, निशा देवेंद्र यादव जोन-6, मनीराम साहू जोन-7 और घनश्याम क्षत्री जोन-8, प्रमोद मिश्रा जोन-9 और आकाशदीप शर्मा जोन-10 के अध्यक्ष निर्वाचित हुए हैं। भाजपा के प्रत्याशी केवल दो जोन में विजयी हुई। विनोद अग्रवाल को जोन-1 और डा. प्रमोद साहू को जोन-3 का अध्यक्ष चुना गया है। कांग्रेस ने 9 जोन में अध्यक्ष बनाने की तैयारी की थी, लेकिन जोन-3 में क्राॅस वोटिंग की वजह से पार्टी के प्रत्याशी अमितेष भारद्वाज को हार का मुंह देखना पड़ा। यही नहीं, बुधवार को रातों-रात निर्दलीय वीरेंद्र देवांगन को पार्टी में लाकर उसे प्रत्याशी घोषित करना भी कांग्रेस के लिए खराब चैप्टर रहा, क्योंकि सुबह विधायकों के दबाव में उसकी जगह पार्षद घनश्याम को प्रत्याशी बनाना पड़ गया, हालांकि वह जीते।
कांग्रेस में जोन-3 में बहुमत के बावजूद भाजपा के जोन अध्यक्ष बनने से खलबली मची हुई है। क्रास वोटिंग के शक में पार्टी के एक-दो पार्षदों के नाम चर्चा में हैं और इन पर गाज गिर सकती है। इस जोन के 7 में से 4 पार्षद कांग्रेस के हैं, जिनमें प्रत्याशी अमितेष भारद्वाज के अलावा कामरान अंसारी, पुरषोत्तम बेहरा और अजीत कुकरेजा शामिल हैं। भाजपा से प्रत्याशी डा. प्रमोद साहू के अलावा राम प्रजापति और विश्वदिनी पांडे इसी जोन में हैं। कांग्रेस ने इस चुनाव में क्रास वोटिंग की आशंका से बचने के लिए कथित तौर पर फूलप्रूफ सिस्टम बनाया था, लेकिन उसमें भी धोखा हो गया। जोन-3 में एक पार्षद की पर्ची खाली मिली और इसी वजह से भाजपा जीत गई।

कांग्रेस को जिस जोन में जीत का भरोसा, वहीं क्राॅस वोटिंग इसलिए बिठा दी जांच
चुनाव हारने के बाद अपनी ही पार्टी में भीतरघात की आशंका को ध्यान में रखकर महापौर एजाज ढेबर ने एमआईसी सदस्य नागभूषण राव और श्रीकुमार मेमन के साथ रायपुर जिला अध्यक्ष गिरीश दुबे और पूर्व पार्षद जसबीर ढिल्लन के नेतृत्व में जांच कमेटी का भी गठन कर दिया है। इसके अलावा, निर्दलीय का 12 घंटे के भीतर प्रत्याशी बनाकर नाम काटना इस चुनाव का अहम घटनाक्रम रहा। दरअसल जोन-8 के लिए कांग्रेस के स्थानीय नेताओं ने बुधवार को देर रात वीरेंद्र देवांगन का नाम फाइनल किया था। उसे आनन-फानन में रात में कांग्रेस प्रवेश करवाया गया। सूत्रों के मुताबिक निर्दलीय जीते वीरेंद्र का कांग्रेस के एक-एक विधायक ने गुरुवार को सुबह जमकर विरोध किया और बात ऊपर तक पहुंचा दी। इसके बाद उच्चस्तर से मेयर ढेबर को मैसेज आया कि वीरेंद्र का नाम हटाकर घनश्याम को प्रत्याशी बना दिया जाए। हालांकि इस बदलाव के बाद कांग्रेस और निर्दलियों के रिश्ते के भविष्य पर सवाल उठने लगे हैं।

भाजपा ने एक घंटे पहले किए नाम फाइनल
जोन-1 में पूर्व मंत्री राजेश मूणत के करीबी विनोद अग्रवाल के नाम पर गुरुवार को सुबह करीब 11 बजे एकात्म परिसर कार्यालय में मुहर लगाई गई। पार्टी के कुछ लोग मंजू साहू को प्रत्याशी बनाना चाहते थे, लेकिन मूणत ने विनोद के नाम पर सहमति बना ली। यहां विनोद को मिलाकर भाजपा के पांच पार्षद गोदावरी साहू, टेसू साहू, कामिनी देवांगन और नारद कौशल हैं, अर्थात पूरा बहुमत है। कांग्रेस से नागभूषण राव और डिलेश्वरी साहू ही इस जोन में पार्षद हैं। सूत्रों के अनुसार प्रमोद साहू का नाम तय करते समय भी भाजपा को भरोसा था कि वहां निर्दलीय पार्षद या एक न एक क्रॉस वोट पार्टी के प्रत्याशी को जीत दिला सकता है, और यही हुआ।

जोन-7 और 8 मेंझोंकी थी ताकत
कांग्रेस ने जोन-7 और 8 के चुनाव में पूरी ताकत झोंक दी थी। दोनों ही जोन में कांग्रेस और भाजपा के तीन-तीन पार्षद हैं। एक-एक निर्दलीय हैं और वही निर्णायक भूमिका में थे। जोन-7 में कांग्रेस ने मनीराम साहू को खड़ा किया। आरएसएस बैकग्राउंड के अमर बंसल इस जोन में निर्दलीय हैं। उन्हें कांग्रेस में शामिल करने की कोशिश भी हुई, लेकिन बात नहीं बनी। हालांकि पार्टी सूत्रों का दावा है कि उन्हें कांग्रेस प्रत्याशी के पक्ष में वोट देने के लिए राजी कर लिया गया। इसी तरह, जोन-8 में निर्दलीय वीरेंद्र का टिकट कटने के बाद कयास लग रहे थे कि कांग्रेस प्रत्याशी घनश्याम की जीत मुश्किल है। लेकिन ऐसा नहीं हुआ, इसलिए दोनों जोन में कांग्रेस के उम्मीदवार जोन अध्यक्ष चुन लिए गए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
नए जोन अध्यक्षों को लेकर मुख्यमंत्री बघेल से मिलाने पहुंचे महापौर एजाज ढेबर। इस मौके पर विधायक सत्यनारायण शर्मा व विकास उपाध्याय भी थे।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3cUeivB

0 komentar