एम्स में अब राेज 1200 सैंपलों की जांच, 4 की जगह लगेंगे सिर्फ दो घंटे; व्यापारी करेंगे चीनी सामान का बहिष्कार, 3 हजार उत्पादों की लिस्ट बनाई , June 11, 2020 at 10:37AM

कोरोना संक्रमण के बीच छत्तीसगढ़ में सबसे ज्यादा समस्या सैंपल जांच को लेकर आ रही थी। एम्स में अब तीन गुना रफ्तार से सैंपलों की जांच हो सकेगी। इसके साथ लालपुर स्थित जीएमसी लैब की भी क्षमता बढ़ गई है। दोनों जगहों पर आरएनए एक्सट्रेशन मशीन लगाई जा रही है। अभी तक एम्स में 350 सैंपल की जांच प्रतिदिन होती थी, लेकिन अब इसकी क्षमता 1200 पहुंच गई है। खास बात यह है कि जांच का समय भी 4 घंटे से घटकर आधा हो गया है।

रायपुर शहर को दिन रात साफ सुथरा बनाने में कोरोना वॉरियर के तौर पर सफाई कर्मचारी अहम योगदान दे रहे हैं। इसके मद्देनजर राजधानी की संस्थाओं ने बुधवार को शहर के सफाई कर्मचारियों का फूल बरसाकर सम्मान किया। कुशालपुर, रामकुंड, टिकरापारा, समता कॉलोनी के तीस से ज्यादा सफाई कर्मचारियों को नारियल और फूल भेंट में दिए गए।

ऑटोमैटिक मशीन से मैनुअल इंटरवेंशन कम
रायपुर के लालपुर स्थित जीएमसी लैब में भी 250 सैंपल हर दिन चेक हो सकेंगे। यहां अभी तक 60 सैंपल की ही जांच होती थी। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने बताया कि जांच रिपोर्ट आने में अब 4 घंटे की जगह केवल 2 घंटे लगेंगे। इस ऑटोमेटिक मशीन में मैनुअल इंटरवेंशन कम होगा। प्रदेश में टेस्टिंग क्षमता का दायरा भी बढ़ेगा। इसके अलावा जल्द ही अत्याधुनिक आरटी पीसीआर मशीन भी लाने की भी तैयारी है।

अभी जांच और प्रदेश में अन्य सुविधाएं

एम्स, रायपुर 350 सैंपल जांच प्रतिदिन
जीएमसी रायपुर 60 सैंपल जांच प्रतिदिन
वीआरडीएल, जीएमसी जगदलपुर 60 सैंपल जांच प्रतिदिन
जीएमसी रायगढ़ 60 सैंपल जांच प्रतिदिन
एसआरएल लैब 60 सैंपल जांच प्रतिदिन

प्रदेश कुल बेड की संख्या -1800

  • आइसोलेशन सेंटर-115
  • क्वारैंटाइन सेंटर- 166
  • क्वारैंटाइन सेंटर मेंबेड- 4026
  • होम क्वारैंटाइन- 57430

प्रदेश में कुलवेंटीलेटर-922

  • डीएचएस- 85
  • डीएमई- 272
  • प्राइवेट अस्पताल- 565

भारतीय सामान, हमारा सामान अभियान
कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने 10 जून से भारतीय सामान-हमारा अभिमान अभियान शुरू किया गया है। छत्तीसगढ़ समेत देशभर में यह अभियान एक साथ शुरू किया गया है। कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमर परवानी ने बताया कि लक्ष्य रखा है कि दिसंबर 2021 तक चीनी वस्तुओं का भारत में आयात करीब 1.5 लाख करोड़ रुपए कम किया जाएगा। चीन से आने वाले करीब 3 हजार प्रोडक्ट की सूची बनाई है।

तस्वीर भिलाई के जुनवानी में बनाए गए कोविड अस्पताल के बाहर की है। डॉक्टरों व स्टाफ का यह पहला बैच है, जिसने अपने 10 दिन की ड्यूटी पूरी कर ली है। इनके प्रयासों से 15 लोगों की पहली रिपोर्ट निगेटिव आई है।

छत्तीसगढ़ में कोरोना अपडेट

भिलाई : कोरोना मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए जिले में 1000 बेड का कोविड केयर सेंटर बनाया जाना तय हो गया है। 500 बेड के सेंटर के लिए सीएमएचओ डॉ. गंभीर सिहं ने सीएम मेडिकल कॉलेज, कचांदुर को चुना है। हालांकि, संचालन के लिए उन्होंने राज्य इकाई से अनुमति मांगी है। वहां से अनुमति नहीं मिली है। दूसरे 500 बेड के सेंटर के लिए आसपास के अस्पतालों की सुविधाओं को देख रहे हैं।

भिलाई में देर रात 5 नए कोरोना संक्रमित मिलने के बाद इलाकों को सील कर दिया गया है। रात में ही स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन की टीम मौके पर कार्रवाई करने के लिए पहुंच गई।

बिलासपुर : जिले में बने 1177 क्वारैंटाइन सेंटर यथावत रहेंगे। अन्य राज्यों से आने वाले 13406 मजदूरों को भी इन्हीं सेंटर में भेजा जाएगा। अब तक यह उम्मीद की जा रही थी की 20 जून तक सेंटरों में रखे गए सभी मजदूरों की क्वारैंटाइन अवधि पूरी हो जाएगी और इन्हें सैनिटाइज कर नए शैक्षणिक सत्र के लिए तैयार कर लिया जाएगा। जिले में स्कूल सामुदायिक भवन आदिवासी विकास विभाग के छात्रावास आदि को क्वारैंटाइन सेंटर बनाया गया है।

ये तस्वीर बिलासपुर के तिफरा बस स्टैंड की है। बुधवार रात लोग अपने घरों को जाने के लिए इस तरह से इंतजार कर रहे हैं। एक-दूसरे के साथ पास-पास बैठे हैं। न मास्क है और न कोई सुरक्षा। ये हालात करीब रोज ही यहां रहते हैं। ऐसे में संक्रमण कैसे रुकेगा।

रायगढ़ : जिले में 7 कोविड संक्रमित मरीज मिले हैं। ये सभी लैलूंगा ब्लॉक के 3 गांव के लोग हैं। ये सभी क्वारैंटाइन सेंटर में रुके हुए हैं। एम्स रायपुर से रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने प्रोटोकॉल के तहत सेंटर की सुरक्षा बढ़ा दी है। जिले में अब कोरोना मरीजों की संख्या 47 हो गई है। वहीं स्वास्थ्य विभाग कॉन्टेक्ट हिस्ट्री तलाशने में जुट गया है। संक्रमित मिले सभी लोग 10-12 रोज पहले मुंबई और तेलंगाना से अपने घरों को लौटे थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
कोरोना से बचने के लिए सावधानी: ये तस्वीर रायगढ़ रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर 6 की है। ये बच्चा अपने पिता के साथ जनशताब्दी ट्रेन में रायगढ़ से चांपा जा रहा था। ट्रेन के इंतजार में दोनों एक बेंच पर बैठ गए। इस दौरान हाथ में ग्लव्स और चेहरे पर मास्क लगाए बच्चा अपने पिता से करीब एक मीटर दूरी पर बैठा था। उसे बेहतर पता है, कोरोना को हराने के लिए यह दूरी जरूरी है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2XOAEdz

0 komentar