सरकारी स्कूलों में प्रधानपाठक के 1302 पद हैं रिक्त, प्रमोशन देने शिक्षकों का सेल्फी अभियान , June 15, 2020 at 05:55AM

कबीरधाम जिले के सरकारी स्कूलों में प्रधानपाठक के 1302 पद रिक्त हैं। रिक्त पदों पर शिक्षकों को पदोन्नति नहीं दी जा रही है। इसे लेकर छग टीचर्स एसोसिएशन ने सेल्फी विथ पदोन्नति-क्रमोन्नति अभियान शुरु किया गया है। अभियान के तहत शिक्षक सेल्फी लेकर रिक्त पदों पर भर्ती की मांग कर रहे हैं।
एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष रमेश कुमार चन्द्रवंशी ने बताया कि जिले के 973 शासकीय प्राथमिक शाला में से केवल 125 में ही प्रधान पाठक कार्यरत हैं। शेष 884 प्राथमिक शालाओं में प्रधान पाठक के पद रिक्त हैं। वहीं 485 पूर्व माध्यमिक शाला में से 329 में प्रधानपाठक के पद रिक्त हैं।

इस तरह जिले के प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक शाला को मिलाकर कुल 1302 प्रधान पाठक के पद रिक्त हैं। इसमें से अधिकांश स्कूलों में एलबी संवर्ग के शिक्षक व सहायक शिक्षक ही अपने मूल कर्तव्य के साथ प्रधान पाठक के अतिरिक्त दायित्व का निर्वहन कर रहे हैं। एसोसिएशन के जिलाध्यक्ष चन्द्रवंशी ने बताया कि दस साल पहले 21 अक्टूबर 2010 को जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय ने जिले के प्राथमिक स्कूलों में प्रधानपाठक के 726 पदों पर भर्ती के लिए विज्ञापन जारी किया था।

राज्यभर में लगभग 46 हजार पद हैं रिक्त
राज्यभर के स्कूलों में प्रधानपाठक के लगभग 46 हजार पद रिक्त हैं। इसमें प्राथमिक शाला प्रधान पाठक के 22 हजार, मिडिल स्कूल प्रधानपाठक के 6 हजार, व्याख्याता के 10 हजार और शिक्षक के 8 हजार पद पदोन्नति के लिए रिक्त हैं। साथ ही प्राचार्य के पद की गणना शेष है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3d0Ae8j

0 komentar