भिलाई के एक और संक्रमित की मौत; स्वास्थ्य सचिव ने कहा- काेराेना की स्थिति चिंताजनक, अब स्टेडियम में बनेगा 220 बेड का अस्पताल , June 10, 2020 at 07:51AM

छत्तीसगढ़ में मंगलवार कोकोरोना संक्रमित एक और व्यक्ति की मौत हो गई है। सिर पर चोट लगने के कारण भिलाई के कैंप एरिया निवासी 55 वर्षीय व्यक्ति को चार दिन पहले रायपुर एम्स में भर्ती कराया गया था। यहां जांच के दौरान उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इससे पहले भी सोमवार रात को दुर्ग की 32 वर्षीया एक महिला की मौत हो चुकी है। प्रदेश में यह कोरोना संक्रमित सातवीं मौत है।

रायपुर के इंडोर स्टेडियम में 150, सुभाष स्टेडियम में 70 बेड का अस्पताल

छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। पिछले 24 घंटे के दौरान 224 नए मामले सामने आए। स्वास्थ्य सचिव निहारिका बारिक सिंह भी इस बात को स्वीकार करती हैं। उन्होंने राज्यपाल अनुसुईया उईके को बताया कि प्रदेश में स्थिति चिंताजनक हो गई है। इसे देखते हुए रायपुर स्थित इंडोर स्टेडियम में 150 और सुभाषा स्टेडियम में 70 बेड का अस्पताल बना रहे हैं। ऐसे ही अस्पताल अन्य जिलों में भी तैयार किए जाएंगे।

बिलासपुर में रेलवे अस्पताल को भी कोविड-19 अस्पताल बनाया जा रहा है। इससे पहले जिला अस्पताल में कोरोना का उपचार चल रहा है। स्वास्थ्य मंत्री के निर्देश पर यहां सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं।

मनरेगा में एक दिन में 26 लाख श्रमिककाम कर रहे
मुख्य सचिव आरपी मंडल ने बताया कि जो श्रमिक बाहर से आए हैं, उनके लिए रोजगार की व्यवस्था की गई है। एक दिन में करीब 26 लाख श्रमिक मनरेगा के तहत काम कर रहे हैं। मुख्य सचिव मंडल ने राज्यपाल से मनरेगा का कार्य दिवस प्रदेश में 200 दिन करने का आग्रह किया। साथ ही, आने वाले दिनों में संक्रमण के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए केंद्र सरकार से सहायता राशि दिलाने का आग्रह भी किया है।

क्वारैंटाइन सेंटर में हुई मौतों पर मुआवजा देने का सुझाव
राज्यपाल उईके ने क्वारैंटाइन सेंटर और कोरोना संक्रमण से हुई मौत के लिए संबंधित परिवार को मुआवजा देने का सुझाव दिया। कहा-सरकार को इस पर नीतिगत निर्णय लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रवासी मजदूरों को उनके कौशल के आधार पर बैंकों से बिना गारंटी का कर्ज देना चाहिए। राज्यपाल ने आश्वस्त किया कि कोरोना से बचाव के लिए केंद्र सरकार से किसी भी प्रकार की मदद की अपेक्षा है तो उन्हें बताएं, वे अपने स्तर पर पहल करेंगी।

मंदिर हसौद थाने की हेल्प डेस्क, सिलतरा चौकी में शिफ्ट हुआ धरसींवा थाना
रायपुर से सटे मंदिरहसौद और धरसींवा थाने का जवान और दो हवलदार कोरोना पॉजिटिव आने के बाद दोनों थानों को सील कर दिया गया है। दोनों थानों के स्टाफ को भी वहीं क्वारैंटाइन किया गया है। थाने में किसी को एंट्री नहीं दी जा रही है। मंदिरहसौद थाने से दूर अलग हेल्प डेस्क बनाकर वहीं अस्थायी थाना संचालित किया जा रहा है। जबकि धरसींवा थाना अस्थाईतौर पर सिलतरा चौकी में शिफ्ट हो गया है।

छत्तीसगढ़ मेंकोरोना
भिलाई : जिले में दो लोगों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौतें हो गई। दोनों मामलों में पोस्टमार्टम से पहले पुलिस कोरोना टेस्ट कराएगी। बोरी क्षेत्र के अंजोरा ढाबा इलाके में मजदूर भूपेंद्र (29) मनरेगा के तहत तालाब के समतलीकरण का काम कर रहा था। अचानक गिर पड़ा और उसकी मौत हो गई। ऐसा ही सुपेला के अहमद नगर में हुआ। दुकानदार अमजद (36) की अचानक तबीयत बिगड़ गई। उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया, पर मौत हो गई।

कोरोना संक्रमण के चलते अंबागढ़ चौकी से डौंडीलोहारा जाने वाला मुख्य मार्ग पखवाड़ेभर से बंद है। बालोद जिले के जूनापानी में कोरोना संक्रमित मिलने से इस गांव को अन्य गांवों से जोड़ने वाली सड़कों को बंद कर दिया गया है। इस स्टेट हाईवे पर 23 मई से आवागमन ठप है।

बिलासपुर : स्वास्थ्य सिस्टम की लापरवाही ने 8 माह की गर्भवती महिला की जान ले ली। चकरभाठा निवासी चिंतामणि मिश्रा की पत्नी अन्नू मिश्रा अचानक चक्कर आने से गिर पड़ी। पति उसे एंबुलेंस से जिला अस्पताल ले गया। वहां किसी ने उसे हाथ नहीं लगाया। अन्नू तड़पती रही और उसकी मौत हो गई। इसके बाद सिम्स रेफर कर दिया। कोई एंबुलेंस वाला जाने को तैयार नहीं था। डेढ़ घंटे बाद एंबुलेंस मिली, लेकिन आधे रास्ते से उसे भी वापस बुला लिया।

रायगढ़ : सारंगढ़ के छोटे खरवानी के आश्रित ग्राम बनहर के क्वारैंटाइन सेंटर से 4 मजदूर दीवार फांदकर भाग गए। उनकी 14 दिन की क्वारैंटाइन अवधि सोमवार को पूरी हुई थी। उनसे सैंपल रिपोर्ट नहीं तक रुकने के लिए कहा गया था। जानकारी के अनुसार 26 मई को हिराधर पिता भगतराम चौहान, जात्रा पति हिराधर चौहान, महेशराम पिता शंकर चौहान और सीमा पति महेशराम चौहान को बनहर के क्वारैंटाइन सेंटर रखा गया था। तीनों के खिलाफ पुलिस ने महामारी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।

गोवा से ओडिशा जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेन से सोमवार शाम को 39 श्रमिक चेन पुलिंग कर रायगढ़ में केलो ब्रिज के पहले उतर गए। इसके बाद आरपीएफ इन श्रमिकों को पैदल रायगढ़ रेलवे स्टेशन लाई। थर्मल स्कैनिंग करने के बाद भोजन दिया गया। बस का इंतजाम कर प्रवासी कामगारों को जशपुर रवाना किया।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ये तस्वीर धमतरी की है। कंटेनमेंट जोन में बैंक खुलते ही सोमवार को भीड़ इतनी बढ़ी कि लाइन हाईवे तक पहुंच गई। भीड़ में लोग सोशल डिस्टेंस भूल गए। इससे पहले कंटेनमेंट जोन में होने से जिला प्रशासन ने बैंक बंद करने के निर्देश दिए थे। इस दौरान बैंक के बाहर लगे पंडाल भी हटा दिए गए।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2A73HQM

0 komentar