23 हाई और 9 हायर सेकंडरी स्कूल का रिजल्ट रहा 100% , June 29, 2020 at 05:41AM

इस साल जिले के 23 हाई स्कूल और 9 हायर सेकंडरी सरकारी स्कूल के परीक्षा परिणाम सौ फीसदी रहे है। इसके साथ ही प्रदेश की रैंकिंग में सुधार कोने के साथ 21वें स्थान से 19वें स्थान पर कोरिया जिला पहुंचा गया है। यहीं नहीं 9 हायर सेकंडरी स्कूल के परीक्षा परिणाम सौ फीसदी रहे। सौ फीसदी परिणाम देने वाले 13 स्कूल इस साल बढ़ गए। वहीं ब्लाॅक सोनहत के जिस सुंदरपुर हायर सेकंडरी का का परीक्षा परिणाम 2015-16 में 30 फीसदी रहा, इस साल सौ फीसदी हो गया है। यहां पहली बार आयोजित 12वीं की परीक्षा में 17 में से 11 छात्र फर्स्ट डिवीजन से पास हुए। वहीं बंजारीडांड, एकलव्य हाई स्कूल के परिणाम सौ फीसदी रहा है। जिले का सबसे पिछड़ा ब्लाॅक सोनहत है, लेकिन यहां संचालित सुंदरपुर हायर सेकंडरी स्कूल में तेजी से सुधार देखने को मिल रहा है। यहां बता दें कि कक्षा 10वीं में 36 और 17 छात्र-छात्राएं 12वीं कक्षा में है। सभी परीक्षा में पास हुए है। यहीं नहीं दसवीं में फर्स्ट डिविजन से 20 जबकि सेकंड डिवीजन से 16 छात्र पास हुए है।

अच्छे परिणाम के लिए सौ फीसदी उपस्थिति जरूरी
यहां पढ़ाने वाले चार शिक्षक त्रिलोकी शांडिल्य इकोनामिक्स और जियोग्राफी, दिव्या मैथ केमिस्ट्री, मुकेश कैवर्त्य फिजिक्स और पॉलिटिकल साइंस और हिंदी, इंग्लिश व संस्कृत विषय पढ़ाने वाले अमित शर्मा ने बताया ग्रामीण क्षेत्र के स्कूल में छात्राओं की सौ फीसदी उपस्थिति बड़ी चुनौती थी। नियमित छात्राओं को स्कूल भेजने के लिए परिजनों को प्रेरित किया। छात्राओं को सैनेटरी पैड भी उपलब्ध कराए।

शिक्षकों ने ली एक्सट्रा क्लास
सुंदरपुर पंचायत की जयंती राजवाड़े ने कक्षा 10वीं की परीक्षा में 80 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं। उसने बताया कि स्कूल में छुट्टी के बाद शिक्षकों के द्वारा एक्स्ट्रा क्लास ली गई। यहीं नहीं घर में हमारे माता-पिता को नियमित स्कूल भेजने के लिए भी शिक्षक समझाने घर में पहुंच जाते थे। पिता पूरन राजवाड़े बेटी की इस उपलब्धि से गदगद हैं।

प्री बोर्ड से निकल गया था डर
हाई स्कूल का उन्नयन कर हायर सेकंडरी स्कूल का दर्जा इसी साल सुंदरपुर को दिया गया था। यहां कक्षा 12वीं में 62 प्रतिशत अंक हासिल करने वाले छात्र रामदीन राजवाड़े ने बताया पढ़ाई में मन लगा रहे। इसके लिए शिक्षकों ने रोचक तरीके से परीक्षा की तैयारी कराई। इसमें प्री बोर्ड परीक्षा के कारण मन से परीक्षा का भय खत्म हो गया।

कठिन विषय के अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति हुई
डीईओ संजय कुमार गुप्ता ने बताया कि इस साल समय पर कठिन विषय जैसे मैथ समेत साइंस फिजिक्स, केमिस्ट्री में अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति कराने से छात्रों को इसका फायदा मिला और परीक्षा परिणाम में सुधार हुआ है। वहीं कुछ स्कूल में हर विषय के शिक्षक होने के बाद भी परिणाम बिगड़ गया। इसकी समीक्षा करेंगे। आगे और बेहतर रिजल्ट मिले, इसकी तैयारी अभी से की जा रही है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2VrUObG

0 komentar