सबकुछ लॉकडाउन पर 617 लोग बंधे परिणय सूत्र में , June 22, 2020 at 05:29AM

शादियों का रिकॉर्ड वैसे तो अधिकांश कोर्ट में ही रखे जाते हैं, यदि विवाहित जोड़ा शादी के बाद पंजीयन करा ले तो, नहीं तो इसका रिकॉर्ड नहीं मिल पाता किंतु इस वर्ष लॉकडाउन के कारण सरकार ने विवाह के लिए भी अनुमति लेना अनिवार्य किया तो अब यह रिकाॅर्ड तहसील कार्यालयों से लेकर कलेक्टोरेट तक रखा जाने लगा है। इस साल मार्च से लेकर 18 जून तक 915 लोगों ने शादी करने के लिए ऑनलाइन अनुमति मांगी। जिसमें 617 लोगों को विवाह के लिए अनुमति भी दी गई।
कोरोना वायरस के कारण इस वर्ष बिना अनुमति शादियों पर भी रोक लगा दी गई। कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए राज्य सरकार और स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की एडवायजरी के अनुसार लॉकडाउन के दौरान विवाह कार्यक्रम आयोजित करने के लिए अनुमति अनिवार्य की गई। लोगों की सुविधा एवं तहसील कार्यालय तक आने- जाने में होने वाली देरी तथा लोगों की परेशानी के मद्देनजर विवाह कार्यक्रम की अनुमति के लिए ऑनलाइन सुविधा प्रारंभ की गयी।

17 जून तक प्राप्त आवेदनों पर कार्रवाई करते हुए 617 लोगों को कार्यक्रम आयोजन करने की सशर्त अनुमति दी गई। आयोजन के लिए 915 आवेदन प्राप्त हुए हैं। कोरोना संक्रमण काल में कम लोगों की उपस्थिति में बिना तामझाम के शादियां हुई हैं। मास्क, डिस्टेंसिंग, सैनिटाइजर जैसे एहतियात के बावजूद जिले में ढेरों शादियां हुईं।

यहां कर सकते हैं आवेदन, ये दस्तावेज जरूरी
कलेक्टर ने ऑनलाइन अनुमति की प्रक्रिया का प्रचार-प्रसार करने एवं यथासंभव शीघ्र अनुमति जारी करने के निर्देश दिए हैं। स्वान के ईडीएम ने बताया कि च्वाइस सेंटर, लोक सेवा केन्द्र अथवा मोबाइल या कम्प्यूटर के माध्यम से कोई भी व्यक्ति विवाह आयोजन की अनुमति के लिए आवेदन कर सकता है। इसके लिए वर-वधू के जन्म की तारीख का उल्लेख संबंधी कागजात, दोनों पक्षों के अभिभावकों और वर-वधु के आधार कार्ड, निमंत्रण कार्ड को स्केन कर अपलोड कर आवेदन करना होगा।

लाॅकडाउन ने रोकी नाबालिगों की शादी
इस लॉकडाउन से एक और फायदा भी हुआ है। इस वर्ष नाबालिगों की शादी होने के मात्र छह मामले सामने आए हैं। इनमें से तीन मामले तो इसी लॉकडाउन ने पकड़े। दरअसल विवाह के लिए अनुमति लेने के लिए वर वधू के जन्म को प्रमाणित करनेवाला दस्तावेज भी अनिवार्यरूप से देना होता है, इन्हीं दस्तावेजों की जांच के दौरान उनके नाबालिग होने की जानकारी मिली तो तीन बाल विवाह रोके गए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3eoWt9r

0 komentar