रायपुर में 8 समेत प्रदेश में 46 नए मरीज, अब रात 9 बजे तक खुलेंगी दुकानें; कोविड-19 अस्पताल में ड्यूटी से इनकार किया, डॉक्टर के खिलाफ एफआईआर , June 13, 2020 at 06:50AM

प्रदेश में शुक्रवार को रायपुर में 8 समेत 46 कोरोना के नए मरीज मिले हैं। इनमें कोरबा से 15, जांजगीर-चांपा से 13, दुर्ग से 3, बलौदाबाजार व बलरामपुर से 2-2, जशपुर, राजनांदगांव, धमतरी से एक-एक मरीज हैं। रायपुर के 8 मरीजों में अंबेडकर अस्पताल का इंटर्न छात्र, दो वार्ड ब्वाय, तीन सफाई कर्मी, बिरगांव के 2, व एक खरोरा का मरीज है। इंटर्न छात्र हाल ही में दिल्ली से लौटा है और इंटर्नशिप ज्वाइन किया है। जबकि वार्ड ब्वाय की ड्यूटी कोरोना वार्ड में लगी थी। बिरगांव का एक मरीज दिल्ली व दूसरा मरीज पश्चिम बंगाल से लौटा है। वहीं खरोरा का मरीज बिलासपुर से आया है। अब प्रदेश में मरीजों की संख्या 1452 हो गई है। जबकि एक्टिव केस 938 है। वहीं गुरुवार तक 402 मरीजों को छुट्‌टी दी गई थी। बुलेटिन के अनुसार शुक्रवार को 79 मरीजों की छुट्‌टी के बाद कुल 544 मरीजों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। सरकारी बुलेटिन में आज मरीजों की एक्टिव संख्या से लेकर डिस्चार्ज मरीज के आंकड़ों में काफी अंतर है। कोरोना सेल के मीडिया प्रभारी डॉ. अखिलेश त्रिपाठी का कहना है कि आज का बुलेटिन सही है। गुरुवार के बुलेटिन की तुलना न करें।

छत्तीसगढ़ में शुक्रवार रात तक कोराेना संक्रमण के 47 नए मामले सामने आए हैं। इसमेंकोरबा से 15, जांजगीर से 13, रायपुर से 9, दुर्ग से 3, बलरामपुर व बलौदाबाजार से 2-2, राजनांदगांव, जशपुर व धमतरी से 1-1 मरीज मिले हैं। जबकि सबसे ज्यादा 79 मरीजों को स्वस्थ होने पर अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया है। इसमेंबलौदाबाजार के 41, जशपुर के 15, बेमेतरा के 5, कोरबा व मुंगेली के 4-4, बालोद के 3, धमतरी के 2, गरियाबंद, महासमुंद, सरगुजा, राजनांदगाव व दुर्ग से 1-1 शामिल हैं।

प्रदेश में कोरोना की स्थिति

  • अब तक कुल केस -1452
  • एक्टिव केस- 938
  • स्वस्थ हुए - 544
  • मौत- 7

राजधानी समेत राज्य के सभी जिलों में बाजार और दुकानें शाम 7 के बजाय अब रात 9 बजे तक खुलेंगी। केंद्र सरकार ने पहले ही बाजारों को रात 9 बजे तक खोलने की अनुमति दी थी, लेकिन राज्य में कोरोना के बढ़ते मरीजों की संख्या के बाद बाजारों के बंद होने के समय शाम 7 बजे कर दिया गया था। शुक्रवार की शाम सामान्य प्रशासन विभाग के सचिव डॉ. कमलप्रीत सिंह ने आदेश जारी कर बताया कि पुराने आदेश में संशोधन किया गया है। अब बाजार और दुकानें रात 9 बजे तक खुल सकेंगी।

कोरोना संक्रमण के दौरान लापरवाही अब डॉक्टरों पर भी भारी पड़ सकती है। जांजगीर में कोविड-19 अस्पताल में ड्यूटी करने से इनकार करने पर एक डॉक्टर के खिलाफ शुक्रवार को एफआईआर दर्ज की गई है। प्रदेश में अपनी तरह का यह पहला मामला है। कलेक्टर के आदेश के बादडॉ. संतोष पटेल के खिलाफ मालखरौदा थाने में मामला दर्ज कराया गया है।

कोरोना संक्रमण ‘अनलॉक’ में दोगुना हुआ

छत्तीसगढ़ में ‘अनलॉक’ ने कोरोनावायरस का रास्ता खोल दिया है। लॉकडाउन की तुलना में संक्रमितों की रफ्तार दोगुनी हो गई है। हेल्थ अफसरों के मुताबिक पहले जहां प्रति 10 लाख लोगों में केवल 24 में जहां संक्रमण मिल रहा था। अब ये आंकड़ा 48 पर पहुंच गया है। हालांकि वास्तविक जांच के नतीजे अब भी राहत देने वाले हैं। अब तक हुए 96230 में से 93903 यानी करीब 97 प्रतिशत की टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव रही है।

कोरोना के मरीज बढ़ते ही जा रहे हैं। इसके चलते बिलासपुरजिला अस्पताल में बेड लगभग भर चुकेहैं। मरीजों की संख्या को देखते हुए अचानक ही रात को रेलवे अस्पताल को कोविड अस्पताल में बदल दिया गया है।इसके बाद रेलवे अस्पताल की ओरजाने वाले वाले दोनों ही रास्तों को बंद कर दिया गया।

जून की शुरुआत में मृत्यु दर 0.2 थी, अब 0.44 हुई
जून के शुरूआती 11 दिनों में कोरोना मरीजों की स्थिति में बदलाव दिखाई दे रहा है। मई में जहां पॉजिटिव केस की ग्रोथ रेट 31 फीसदी पर पहुंच गई थी, वो अब 11 पर आ गई है। मरीजों की ठीक होने की दर भी अब 30 प्रतिशत पर आ गई है। जबकि 69.98 प्रतिशत एक्टिव केस की श्रेणी में है। मृत्यु दर 0.44 फीसदी है। जून की शुरूआत में कोरोना मरीजों की मृत्यु दर 0.20 थी। वहीं रिकवरी रेट 22.26 फीसदी पर आ गया था।

सभी राज्यों के मुख्य सचिवों और स्वास्थ्य सचिवोंके साथ समीक्षा
कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने सभी राज्यों के मुख्य सचिवोें और स्वास्थ्य सचिवों के साथ समीक्षा के दौरान कहा, कोरोना जांच सुविधाएं बढ़ाने प्राइवेट लैब को अधिग्रहीत कर सकते हैं। अगले 2 महीनों में कोविड-19 के रोकथाम, बचाव और इलाज चुनौतीपूर्ण रहेगा। कैबिनेट सचिव ने राज्यों के ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा से ज्यादा स्वास्थ्य सुविधाएं बढ़ाने और स्वास्थ्य सेवाओं के अपग्रेडेशन पर विशेष जोर दिया है।

राशनकार्ड विहीन लोग एप से भी कर सकते हैं रजिस्ट्रेशन
राज्य के प्रवासी श्रमिकों और लोगों को निशुल्क राशन उपलब्ध कराने के लिए कंट्रोल रूम बनाए गए हैं। लोग फोन नंबर 0771-2882113 पर संपर्क कर सकते हैं। जिला पंचायत रायपुर से संचालित कंट्रोल रूम सुबह 8 बजे से रात 8 बजे तक काम करेगा। राशनकार्ड नहीं होने पर 'प्रवासी खाद्य मित्र' एप और खाद्य विभाग की जनभागीदारी वेबसाइट https://ift.tt/3cWWOyR में भी ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है।

ये लाइन बिलासपुर रेलवे स्टेशन के रिजर्वेशन टिकट काउंटर कक्ष के बाहर लगी हुई है। लोग टिकट कराने के लिए तो पहुंचे हैं। ऐसे में उन्हें सोशल डिस्टेंसिंग के लिए दूर रखा गया है।

छत्तीसगढ़ में कोरोना अपडेट

भिलाई : एम्स रायपुर से कोरोना पॉजिटिव मरीज भागकर दुर्ग के हनोदा अपने घर पहुंचा। वहां अपनी मां से 1500 रु. लेकर लापता हो गया। जानकारी मिलने के बाद स्थानीय पुलिस ने उसकी तलाश शुरू कर दी। देर रात तक उसकी कोई लोकेशन नहीं मिला। एसएसपी अजय यादव ने बताया कि उसकी दो रिपोर्ट निगेटिव आई थी। अस्पताल से कोविड-केयर सेंटर में शिफ्ट करने के दौरान वह भाग गया। मोबाइल नंबर से उसकी लोकेशन ट्रेस कराई जा रही है।

बिलासपुर : जिले के ग्राम सोंठी के मिनी स्टेडियम में बने क्वारैंटाइन सेंटर में 49 श्रमिकों को रखा गया था। इनका क्वारैंटाइन पीरियड 8 जून को पूरा होना था, लेकिन उससे पहले ही 2-2 और 9 की संख्या में लगातार 13 संक्रमित मिले। इसके बाद बुधवार देर रात 28 नए पॉजिटिव मिले। एक ही क्वारैंंटाइन सेंटर से 49 में से 41 लोग पॉजिटिव मिले। यह बिलासपुर में सबसे ज्यादा मरीज मिलने वाला सेंटर बन गया है।

रायगढ़ : रायगढ़, खरसिया और सक्ती रेलवे स्टेशन के काउंटर पर टिकट कैंसिल कराने वालों की भीड़ लगी हुई है। काउंटर खोलने के बाद से 10912 यात्रियों को 68.95 लाख रुपए लौटाए हैं। ऐसा पहली बार हुआ है कि टिकट रिफंड के लिए इन स्टेशनों को बिलासपुर मंडल से 68 लाख रुपए मंगाने पड़े। जबकि गर्मी में टिकट के लिए मारामारी रहती है और ट्रेनों में नो रूम होता है, लेकिन कोरोना के चलते रेलवे की आय 90 प्रतिशत घट गई।

लॉकडाउन के बाद रेलवे के टिकट काउंटर खुलने पररायगढ़, खरसिया और सक्ती में10912 यात्रियों को 68.95 लाख रुपए लौटाए गए हैं। ऐसा पहली बार हुआ है किटिकट रिफंड के लिए इन स्टेशनों को बिलासपुर मंडल से 68 लाख रुपए मंगाने पड़े।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
गरियाबंद के नवापारा राजिम के वार्ड-1 में 6 जून को संक्रमित मिली 7 साल की बच्ची काे 11 जून को दोपहर माना कोविड अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया। महज पांच दिन कोरोना को हराकर घर लौटने वाली बच्ची का स्वागत फूल बरसाकर हुआ।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2XRzQEN

0 komentar