तय समय से दो दिन देर, लेकिन पिछले साल से 8 दिन पहले जिले में आया मानसून , June 15, 2020 at 05:47AM

पूरे कबीरधाम जिले में रविवार को मानसून सक्रिय हो गया। मौसम विभाग ने रविवार को ही इसकी पुष्टि कर दी। इससे एक दिन पहले मानसूनी हवा राजनांदगांव की ओर से गंडई के आसपास के इलाकों तक सक्रिय थीं, जो रविवार को आगे बढ़ती हुई पूरे जिले में सक्रिय हो गईं और यहां से मंडला-बालाघाट की ओर बढ़ गईं।
अमूमन कबीरधाम जिले में 12 जून को मानसून पहुंचने की तारीख मानी जाती है। इस बार यह दो दिन देर से 14 जून को पहुंची। लेकिन पिछले साल 22 जून को यह पहुंची थी, इस बार उससे 8 दिन पहले पहुंच गई। मानसून गुरुवार को बस्तर समेत दक्षिण छत्तीसगढ़ के 4 जिलों में सक्रिय हुआ था।
बस्तर से लगभग 400 किलोमीटर की दूरी तय करने में मानसूनी हवाओं को 3 दिन का वक्त लगा। मानसून के सक्रिय होने के बाद जिले के कई हिस्सों में बारिश हुई। हालांकि, कवर्धा शहर में दिन में बूंदाबांदी ही हुई।
हवा में 82 फीसदी नमी, 6 किमी प्रति घंटे से चल रही दक्षिण-पश्चिमी हवा, निचले हिस्से पर हवा की गति समेत 2.5 मिलीमीटर से कहीं ज्यादा बारिश के आधार पर जिले में मानसून की सक्रियता घोषित कर दी। इसके बाद से अब कृषि कार्यों में और तेजी आएगी।

कबीरधाम में 24 घंटे में ही औसत से 314 प्रतिशत वर्षा
जिले में 24 घंटे में 314 फीसदी बारिश रिकॉर्ड की गई। मौसम विभाग के मुताबिक सामान्य तौर पर 3.8 मिमी. बारिश होनी थी, लेकिन यह 15.8 मिमी. तक जा पहुंची। वैसे 1 जून से अब तक 27.3 मिमी. बारिश के औसत के मुकाबले 44 फीसदी ज्यादा यानी 39.5 बारिश हो चुकी है।

आपके लिए जानना जरूरी : दो पूर्वानुमान

अगले 24 घंटे : मौसम विभाग ने हल्की से मध्यम बारिश समेत गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना जताई है। कहीं-कहीं भारी बारिश भी हो सकती है। एक-दो स्थानों पर गरज चमक के साथ आकाशीय बिजली गिरने की भी संभावना है।
आने वाले 3 महीने : मौसम विभाग ने सीजन में अच्छी बारिश के पूर्वानुमान जारी किए थे। यानी इस मानसून 100 फीसदी बारिश हो सकती है। ये 6 प्रतिशत कम या ज्यादा भी हो सकती है। सीजन की कुल बारिश का 70 फीसदी कोटा जुलाई और अगस्त में पूरा हो जाएगा। बाकी 30 फीसदी बारिश का कोटा मानसून जून और सितंबर को मिलाकर पूरा करेगा।

सहसपुर लोहारा की ओर से हुआ सक्रिय: एक दिन पूर्व ही मानसून कबीरधाम जिले से लगभग 50 किलोमीटर जिला की सीमा के आसपास बना हुआ था। यह आगे बढ़ चुका है। रायपुर-दुर्ग-राजनांदगांव की ओर से यह पूरे कबीरधाम जिले में सक्रिय हो चुका है। जिले में मानसून सहसपुर लोहारा की ओर से बढ़ते हुए कवर्धा, पंडरिया, बोड़ला में सक्रिय हुआ है।

10 साल में कबीरधाम में कब सक्रिय हुआ मानसून

2020 14 जून
2019 22 जून
2018 11 जून
2017 22 जून
2016 19 जून
2015 16 जून
2014 23 जून
2013 12 जून
2012 20 जून
2011 19 जून

ये सिस्टम, जिनके कारण आगे होगी बरसात

  • ऊपरी हवा में चक्रीय चक्रवाती घेरा, पूर्व मध्य प्रदेश और उसके आसपास 3.1 किलोमीटर से 7.6 किलोमीटर ऊंचाई पर मौजूद।
  • एक विंडशियर जोन, जो पूर्व-पश्चिम दिशा में, 22 डिग्री उत्तर में 3.1 और 4.5 किलोमीटर ऊंचाई तक विस्तारित है।
  • एक द्रोणिका उत्तर पश्चिम राजस्थान से तटीय आंध्र प्रदेश तक 2.1 किमी ऊंचाई पर मौजूद। कम दबाव का क्षेत्र भी सक्रिय है।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Two days late than the scheduled time, but the monsoon arrived in the district 8 days before last year.


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3hs8RYi

0 komentar