प्राइवेट स्कूल इस सत्र में नहीं बढ़ा सकेंगे फीस, श्रमिक कार्ड के लिए 90 दिन की अनिवार्यता भी खत्म; संक्रमित अब 10 दिन में होंगे अस्पताल से डिस्चार्ज , June 13, 2020 at 10:48AM

छत्तीसगढ़ में नए सत्र 2020-21 में प्राइवेट स्कूल फीस नहीं बढ़ा सकेंगे। कोरोना संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार ने इस पर रोक लगा दी है। इसके लिए स्कूल शिक्षा विभाग को निगरानी करने के निर्देश दिए गए हैं। हालांकि जहां पैरेंट्स की सहमति होगी ऐसे स्कूल फीस बढ़ा सकते हैं। आदेश नहीं मानने पर संचालक के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। सरकार ने हर सत्र में 10 फीसदी तक फीस बढ़ाने का अधिकार निजी स्कूलों को दे रखा है।

धार्मिक स्थलों में भी कोरोना को लेकर नियम और निर्देशों का पालन किया जा रहा है। यह तस्वीरबिलासपुर स्थित जामा मस्जिद की है। जहां नमाज से पहले आने वाले लोगों की थर्मल स्कैनिंग की जा रही है।

प्रदेश में मरीजों के डिस्चार्ज होने का औसत 6 से 16 दिन
कोरोना के मरीजों को अब अधिकतम 10 दिन में डिस्चार्ज किया जाएगा। अभी मरीजों के डिस्चार्ज होने का औसत 6 से 16 दिन रहा है। मरीजों की लगातार बढ़ती संख्या के कारण अब कुछ मरीजों को बिना रिपीट टेस्ट छुट्‌टी दी जा रही है। डाॅक्टरों का कहना है बिना लक्षण वाले मरीज जल्दी स्वस्थ होते हैं, क्योंकि उनके शरीर में वायरल लोड कम होता है। इसलिए वे जल्दी स्वस्थ भी हो रहे हैं। जिन मरीजों की मौत हुई है, वे गंभीर थे।

श्रमिकों की स्किल मैपिंग कर हुनर के आधार पर रोजगार
प्रवासी श्रमिक सहित प्रदेश के अन्य श्रमिकों के स्किल मैपिंग की जाएगी। इसके बाद उनके हुनर के अनुरूप रोजगार दिया जाएगा। इसको लेकर नगरीय प्रशासन एवं श्रम मंत्री डाॅ. शिवकुमार डहरिया आदेश जारी कर दिए हैं। साथ ही श्रमिक कार्ड के लिए 90 दिन काम करने की अनिवार्यता समाप्त कर दी गई है। अब बिना रिपोर्ट आए क्वारैंटाइन सेंटर से किसी को छुट्‌टी नहीं मिलेगी। मंत्री डहरिया ने शहरी क्षेत्रों में पात्र गरीबों को पट्‌टे जल्द देने के निर्देश दिए हैं।

छत्तीसगढ़ में कोराेना अपडेट

बिलासपुर : सिम्स ने किरन श्रीवास व वर्षा राय को प्रशिक्षण के लिए रायपुर भेजा था। वर्षा की तबीयत बिगड़ी तो उन्हें लौटा दिया गया। उनकी जगह अजय सोनवानी को भेजा। लौटने के बाद कर्मचारियों की जांच नहीं कराई। कर्मचारियों का कहना है कि अगर गाइडलाइन में जांच करने का कोई नियम नहीं है तो इसकी जानकारी हम लोगों को पहले क्यों नहीं दी गई? वहीं डीन पीके पात्रा के अनुसार कर्मचारी अगर बीमार हैं तो नौकरी से छुट्टी ले लें।

रायपुर एम्स के डॉ. अतुल जिंदल कोरोना वार्ड के प्रभारी हैं। मरिजों के इलाज करते हुए उनकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई। स्वस्थ होकर डाॅ. जिंदल भिलाई स्थित कुबेर इनक्लेव अपार्टमेंट में अपने घर आए। उनके परिवार की रिपोर्ट निगेटिव आई है। इस दौरान सभी निवासियों ने ताली बजाकर उनका स्वागत किया।

दुर्ग : जिला प्रशासन ने सैलून संचालकों को राहत देते हुए रविवार को भी दुकानें खोलने की अनुमति दी है। इसके तहत अवकाश वाले दिन सुबह 7 से दोपहर 1 बजे तक दुकानें खुल सकेंगी। इससे पहले सोमवार से शुक्रवार तक खोलने की अनुमति थी। इसके बाद सुबह 9 से शाम 4 बजे तक दुकानें खोलने का आदेश जारी हुआ। अब सेन समाज के लोगों ने कलेक्टर डा. सर्वेश्वर भूरे से रविवार को अवकाश वाले दिन भी दुकानें खोलने मांग की थी।

रायगढ़ : शहर के विजयपुर इलाके की कृष्णा वेली कॉलोनी में मां-बेटे के कोरोना संक्रमित मिलने के बाद पूरी कालोनी को सील कर दिया गया है। यहां 10 लोगों के सैंपल लिए गए थे, दो की रिपोर्ट गुरुवार को पॉजिटिव आई थी, 8 की रिपोर्ट का इंतजार है। नागपुर से लौटे मां-बेटे को स्वास्थ्य विभाग ने विजयपुर कृष्णा वेली अपार्टमेंट में होम क्वारैंटाइन किया था। कॉलोनी में किसी भी बाहरी व्यक्ति काे प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

रायगढ़ केविजयपुर इलाके की कृष्णा वेली कॉलोनी कायुवक 6 जून को नागपुर से लौटा था। उसे 14 दिनों तक होम क्वारैंटाइन किया गया, लेकिन उसके पिता सामान खरीदने बाहर निकले। घर के बच्चे भी बाहर खेलते रहे। परिवार में किसी बच्चे का पिछले दिनों बर्थडे भी था, तब छोटी सी पार्टी भी की। अब युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद कॉलोनी को सील कर दिया गया है।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ये छत्तीसगढ़ के बिलासपुर के तिफरा बस स्टैंड की तस्वीर है। रोज सैकड़ों मजदूर दूसरे राज्यों से आ रहे हैं। प्रशासनिक अफसर इनके लिए खाने पीने की व्यवस्था नहीं कर पा रहे। यूपी के ईंट भट्ठे से ठेकेदार जिला प्रशासन को बिना सूचना दिए ही गाड़ियों में भरकर मजदूरों को यहां भेज रहे हैं। इनकी संख्या भी सैकड़ों में है। आरटीओ ने इनको घर पहुंचाने के लिए 300 से ज्यादा बसें लगवा दी हैं। दूसरे जिलों से सहयोग या बसें नहीं मिलने के कारण मजदूर यहां 2 से 3 दिन तक रात गुजार रहे हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2MVziri

0 komentar