व्यवसायी का अभद्र वीडियो बनाकर ब्लैक मेलिंग, कांस्टेबल सहित छह गिरफ्तार , June 19, 2020 at 05:59AM

शहर के युवा व्यवसायी को देहव्यापार से जुड़ी युवती के पास भेजकर कथित क्राइम ब्रांच के डीएसपी ने दोनों का अभद्र वीडियो बना लिया और सिपाही साथी के साथ मिलकर ब्लैकमेलिंग करने लगा। मामले में पुलिस ने इस काले कारोबार से जुड़े 6 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनमें दो महिलाएं भी शामिल हैं। छह माह पूर्व शहर के युवा व्यवसायी के पास फोन आया और उसने कालगर्ल उपलब्ध कराने का झांसा दिया। युवा व्यवसायी उसके झांसे में आ गया। फोन करने वाले ने अपना नाम मुकुल शर्मा बताया और देह व्यापार से जुड़ी एक युवती का मोबाइल नंबर दिया। युवा व्यवसायी ने उस नंबर पर कॉल किया। युवती ने फोन पर उसे बताया वह बाहर है। आने के बाद उसे फोन करेगी। कुछ दिन बाद उसने युवा व्यवसायी को मिलने के बाद सरकंडा क्षेत्र के एक निर्माणाधीन मकान में बुलाया। व्यवसायी वहां पहुंचा। युवती कमरे के भीतर थी। युवक जैसे ही भीतर गया युवती ने अपना व व्यवसायी का कपड़ा उतारना शुरू कर दिया। इसी बीच दो लोग बाहर से आए और भीतर घुस गए। एक पुलिस की वर्दी में था। भीतर आते ही दोनों ने युवक- युवती का फोटो व वीडियो बना लिया और वायरल व दुष्कर्म के झूठे केस में फंसाने की धमकी देकर पैसों की मांग की। व्यवसायी डरा हुआ था। उसने 6000 रुपए दिए। दोनों ने अधिक पैसों की मांग की और मोबाइल छीन लिया। व्यवसायी ने कहीं से 8000 रुपए और मांग कर दिए तब उसे मोबाइल वापस दिया। तीन-चार दिन बाद उसके पास फिर फोन आया। काॅल करने वाले ने खुद को क्राइम ब्रांच का डीएसपी बताया। कहा कि उसके पास वीडियो है। 2 लाख रुपए नहीं देगा तो उसे वायरल कर देगा और दुष्कर्म के केस में फंसा देगा। डरकर व्यवसायी ने 22 हजार रुपए दिए। 9 जून को आरोपी ने फिर से कॉल कर पैसे की मांग की। युवक ने समय मांगा। तथाकथित डीएसपी क्राइम ब्रांच ने 17 जून का उसे समय दिया। इसके बाद युवक ने हिम्मत जुटाई और एसपी प्रशांत अग्रवाल को मामले की जानकारी दी। एसपी ने एएसपी सिटी ओपी शर्मा के नेतृत्व में टीम गठित की। पुलिस टीम ने फोन करने वाले से व्यवसायी से बात करवाई और पैसे देने के लिए 18 जून का समय मांगा। फोन करने वाला कथित क्राइम ब्रांच डीएसपी मान गया। गुरुवार को साइंस कॉलेज के पास युवक को भेजा। कुछ दूरी पर पुलिस खड़ी थी। साइकिल पर 50 साल का आदमी आया। जैसे ही व्यवसायी से लिफाफा लेकर जाने लगा। पुलिस ने उसे पकड़ लिया। पूछताछ में उसने अपना नाम कृष्णा शर्मा बताया। उसने बताया कि मध्यप्रदेश निवासी सागर निवासी मुकेश शर्मा उर्फ मुक्कू इस कारोबार का मास्टर माइंड है। व्यवसायी की निशानदेही पर पुलिस ने युवती के ठिकाने पर छापेमारी कर उसे पकड़ लिया। इसके बाद वीडियो व फोटो बनाने वाले पुलिसवालों की तलाश शुरू हुई। इस मामले में युवती का साथ देने वाली महिला को पुलिस ने मुक्तिधाम के पास से पकड़ा। दोनों महिला को सागर निवासी मुकेश कुर्मी उर्फ मुकेश शर्मा उर्फ मुक्कू उनके पास ग्राहक भेजता था। इसके बाद एक सिपाही व उसका साथी फर्जी तरीके से रेड कर वीडियो बनाते थे। उनका नाम सूरज एवं रामकुमार बताया। पुलिस ने उनकी पतासाजी की। संदेह के आधार पर गौरेला थाने में पदस्थ कांस्टेबल रामकुमार खांडेकर 52 वर्ष का फोटो दिखाया तो पहचान लिया। पुलिस ने कांस्टेबल को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू की तो उसने अपने दूसरे साथी का नाम सूरज
सारथी 22 चांटीडीह सरकंडा बताया। वह पहले पुलिस की पीसीआर वेन चलाता था। दोनों ने युवक व अन्य से मिलकर 3 लाख वसूले थे। वे आधा पैसा मुकेश को उसके बैंक एकाउंट में भेजते थे। एक महिला का पति आकाश कुमार निर्मलकर 24वर्ष गोपीबंद पारा पंडरिया जिला कबीरधाम हाल मुकाम बंधवापारा सरकंडा भी कांस्टेबल एवं अन्य आरोपियों से मिलकर लोगों को ब्लैकमेल करने में सहयोग कर रहा था। इस मामले का मास्टरमाइंड मुकेश कुर्मी उर्फ मुकेश शर्मा उर्फ मुक्कू था। पुलिस उसे सागर से ट्रांजिट रिमांड पर बिलासपुर लेकर आई। आरोपियों के कब्जे से 6 मोबाइल, बैंक जमा पर्ची व 15 हजार रुपए जब्त किए गए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पुलिस के गिरफ्त में आरोपी, मोबाइल, बैंक पर्ची और 15 हजार बरामद।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/30XAxP0

0 komentar