148 में से 125 ब्लॉक रेड जोन में, कोरोना: रायपुर में फिर 158 केस, कारण ऐसे हालात, प्रदेश में 308 नए मरीज , July 29, 2020 at 05:46AM

प्रदेश में कोरोना के मामले खतरनाक स्तर पर जा रहे हैं। हालात यह है कि प्रदेश के 148 ब्लॉक में से 125 ब्लॉक रेड जोन में आ गए हैं। इधर, राजधानी सबसे ज्यादा प्रभावित दिख रही है। मंगलवार को भी 138 मरीज सिर्फ रायपुर से मिले हैं, जबकि प्रदेश में 277 नए मरीज मिले हैं। आने वाले समय के लिए स्वास्थ्य कर्मी कम न हों, इसलिए आनन-फानन में सरकार ने 5 हजार से ज्यादा स्वास्थ्य कर्मियों की भर्ती का निर्णय लिया है।
मेडिकल काॅलेज में फोरेंसिक के एचओडी संक्रमित, विभाग सील
रायपुर में मंगलवार को 158 समेत प्रदेश में कोरोना के 308 नए मरीज मिले हैं। पं. जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज के फोरेंसिक मेडिसिन की एचओडी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के कारण विभाग को सील कर दिया गया है, लेकिन पोस्टमार्टम चालू है। केंद्रीय आईबी के एक ज्वाइंट डायरेक्टर के अलावा शदाणी दरबार में 24 संक्रमित मिले हैं। राजनांदगांव से 20, दुर्ग से 19, बिलासपुर व बस्तर से 18-18, नारायणपुर से 11, रायगढ़ व बलौदाबाजार से 8-8, सरगुजा व गरियाबंद से 6-6, कवर्धा से 5, कोरबा व मुंगेली से 4-4, बलरामपुर, जशपुर व दंतेवाड़ा से 3-3, कांकेर से 2, जांजगीर-चांपा से एक मरीज मिले हैं। प्रदेश में संक्रमितों की संख्या 8288 हो गई है। एक्टिव केस 2801 है। 267 मरीजों को अस्पतालों से डिस्चार्ज किया गया। अब तक 5439 डिस्चार्ज हो चुके हैं। दूसरी ओर कारण स्वास्थ्य विभाग ने रायपुर में कोविड सेंटर के संचालन के लिए टेंडर मंगाया गया है।

एम्स में दुर्ग की 63 वर्षीय महिला की कोरोना से मौत हो गई। वह कैंसर की भी मरीज थी। अब तक एम्स में इलाज करा रहे मरीजों की सबसे ज्यादा मौत हुई है। इसके बाद अंबेडकर अस्पताल का नंबर है। अब तक प्रदेश में 47 मरीजों की मौत हो चुकी है। मेडिकल कॉलेज की मरचुरी में पिछले गुरुवार को रानीतराई के एक पॉजिटिव मरीज का पोस्टमार्टम किया गया था। दरअसल डॉक्टरों को पता नहीं था। मरीज की मौत पहले हो गई थी और रिपोर्ट बाद में आई। खास बात यह है कि जिस डॉक्टर ने पोस्टमार्टम किया और जिन कर्मचारियों ने सहयोग किया, उन सभी 5 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव है। इसके बावजूद उस विभाग के एचओडी कैसे संक्रमित हुए हैं, इसका पता नहीं चल पाया है। बाकी दो कर्मचारियों का मंगलवार को सैंपल लेकर भेजा गया है। मंगलबाजार से रविवार को फिर 10 से ज्यादा नए मरीज मिले हैं। केवल इसी इलाके में मरीजों का आंकड़ा 100 के पार जा चुका है। इसी इलाके में कांग्रेस नेता की कोरोना से मौत भी हो चुकी है। अधिकारियों का कहना है कि इलाके को पूरी तरह सील कर घराें में सर्वे किया जा रहा है। लक्षण वाले लोगों के स्वाब का सैंपल लिया जा रहा है। दूसरी ओर आयुर्वेद कॉलेज में बुधवार से मरीजों का इलाज शुरू कर दिया जाएगा।
कोविड सेंटर संचालन के लिए मंगाया टेंडर: सीएमएचओ कार्यालय ने कोविड सेंटर संचालन के लिए टेंडर मंगाया है। इच्छुक 31 जुलाई तक टेंडर भर सकते हैं। रायपुर कोरोना का बड़ा हॉट स्पॉट बन चुका है। प्रदेश के आधे से ज्यादा एक्टिव मरीज केवल रायपुर में है। यही कारण है कि एम्स, अंबेडकर व माना कोविड अस्पतालों के बेड फुल होने की कगार पर है। रायपुर में 1361 एक्टिव केस है। जबकि मरीजों की संख्या 2504 है। रायपुर में 20 लोगों की मौत हो चुकी है। रोजाना 150 से ऊपर मरीज मिल रहे हैं। मरीज मिलने का सिलसिला जारी है। विशेषज्ञों को आशंका है कि आने वाले दिनों में रायपुर में मरीजों की संख्या और बढ़ेगी। यही कारण है कि काेविड सेंटर संचालन के लिए टेंडर मंगाना पड़ा है।
बेटे के बाद बुजुर्ग की मौत, शव उठाने कोई नहीं पहुंचा: टिकरापारा के यादव मोहल्ले में 65 वर्षीय एक बुजुर्ग की मौत हो गई है। उसका शव उठाने कोई नहीं आ रहा है। जबकि 10 दिन पहले उसके बेटे की कोरोना से मौत हो चुकी है। यही नहीं परिवार के 5 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है। पार्षद चंद्रपाल धनगर का आरोप है कि संबंधित विभाग को सूचना देने के बावजूद शव उठाने कोई नहीं आ रहा है। लोगों में कोरोना का डर है। मौत के बाद बुजुर्ग का सैंपल भी नहीं लिया गया था, इसलिए यह भी नहीं कहा जा सकता कि वे संक्रमित थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
बेशक सरकार और प्रशासन ने लॉकडाउन 6 अगस्त तक बढ़ाया है, लेकिन सिर्फ सरकार या प्रशासन कोरोना से नहीं लड़ सकता। ये तस्वीर शास्त्री बाज़ार की है। सुबह 10 बजे तक खरीदी की छूट है, लेकिन उसमें भी हिदायत है कि सावधानी बरतें। लोग बाज़ार में इस तरह टूट रहे हैं, जैसे उन्हें सब्ज़ी नहीं मिलेगी, जबकि कहीं भी किसी सब्जी की किल्लत नहीं है। सोशल डिस्टेंसिंग यहां बिल्कुल भी नहीं है, संक्रमण का सबसे ज्यादा खतरा ऐसी भीड़ से ही है। भास्कर अपील करता है कि खरीदी के समय का सदुपयोग कीजिए। ऐसी भीड़ से बचिए और ऐसी भीड़ बनने से भी रोकिए। फोटो- भूपेश केशरवानी


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3f9hpkq

0 komentar