4 जिलों के 2.62 लाख हेक्टेयर जमीन के लिए 500 क्यूसेक पानी छोड़ा , July 29, 2020 at 07:05AM

सावन माह शुरू होते ही किसानों ने बारिश की उम्मीद की थी, लेकिन सावन महीना सूखा निकल रहा है। इससे किसानों के चेहरे पर मायूसी छाने लगी है। बीते एक हफ्ते से तेज धूप निकल रही, ऐसे में बारिश पर आश्रित किसानों की चिंता बढ़ने लगी है। नगरी, कुरूद, धमतरी, मगरलोड क्षेत्र के ऐसे किसान, जो बारिश पर आश्रित हैं, इनके खेतों की मिट्‌टी सूखने लगी है। किसानों की मांग के बाद अब मुख्य नहर में 500 क्यूसेक पानी छोड़ा गया, जिससे 2.62 लाख हेक्टेयर की सिंचाई होगी।
सीएम भूपेश बघेल की अध्यक्षता सोमवार को बैठक में पानी छोड़ने का फैसला हुआ। सरकार से आदेश मिलने के बाद मंगलवार को गंगरेल बांध के पैन स्टॉक से रुद्री बैराज के लिए 800 क्यूसेक पानी छोड़ रहे हैं। मुख्य नहर कमजोर है, इसलिए बैराज से शाम 4 बजे 300 क्यूसेक पानी छोड़ा गया। करीब 3 घंटे बाद 200 क्यूसेक और बढ़ाकर 500 क्यूसेक किया है। सिंचाई विभाग के एसडीओ एमडी मंहत के मुताबिक बुधवार को 500 क्यूसेक और बढ़ाकर 1000 क्यूसेक पानी छोड़ा जाएगा। इस पानी से धमतरी, बालोद, रायपुर, बलौदाबाजार के 2.62 लाख हेक्टेयर फसल की सिंचाई होगी।

हफ्तेभर से नहीं हो रही बारिश, पीले पड़ रहे पौधे
किसान गोपाल साहू, हिरेंद्र पटेल, कृष्णा साहू ने कहा कि हफ्तेभर से पानी नहीं बरसा है। बोनी तो कर ली, पर धूप की वजह से खेतों की मिट्‌टी सूखने लगी है। बोनी के बाद धान के पौधों को भरपूर पानी की जरूरत पड़ती है। बारिश थमने से पौधों की बाढ़ रुकेगी।

रायपुर, बलौदाबाजार तक जाएगा पानी
एसडीओ डीएफ कुंजाम ने बताया कि मुख्य नहर में छोड़ा गया पानी धमतरी, रायपुर, बलौदाबाजार के कसडोल तक जाएगा। 4 जिलों के 2 लाख 62 हजार हेक्टेयर खरीफ फसल की सिंचाई इस पानी से होगी। गंगरेल के केनाल से बालोद, गुंडरदेही के लिए पानी दें रहे है। अकेले धमतरी जिले की 65 हजार हेक्टेयर फसल की सिंचाई नहर में छोड़े गए पानी से होती है।

अच्छी बारिश के आसार कम
मंगलवार सुबह से दोपहर तक तेज धूप निकली। शाम को काले बादल से घिरे। हल्की बूंदाबांदी भी हुई। मौसम वैज्ञानिक एचपी चंद्रा ने बताया धमतरी में 29 जुलाई हल्की से मध्यम बारिश, गरज-चमक के साथ छींटे पड़ने की संभावना है।

3 सहायक बांध लबालब
गंगरेल के 3 सहायक बांध मुरुमसिल्ली, सोंढूर और दुधावा पानी से लबालब है। यह स्थिति करीब 5 साल बाद बनी है। मुरुमसिल्ली बांध में 62 प्रतिशत, दुधावा में 80 प्रतिशत, सोंढूर बांध में 86 प्रतिशत पानी है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
रुद्री बैराज से मुख्य नहर में 500 क्यूसेक पानी छोड़ रहे हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2Eu2QLH

0 komentar