जर्जर पुल पर रंगरोगन के नाम पर खर्च कर दिए 40 लाख, जैक पर टिका है 36 साल पुरानी पुल, भारी वाहनों की आवाजाही भी बंद , July 31, 2020 at 06:00AM

अमनेश दुबे | तेलघानीनाका के जिस रेलवे ओवरब्रिज को रेलवे और पीडब्ल्यूडी के इंजीनियरों ने डेढ़ साल पहले जर्जर घोषित किया और कलेक्टर ने भारी वाहनों की आवाजाही रोक दी, पीडब्ल्यूडी विभाग ने हाल में उसके ऊपरी हिस्से का खामोशी से रिनोवेशन कर दिया। रंगरोगन और डामर की परत चढ़ाने में 40 लाख रुपए खर्च कर दिए गए। जबकि पटरियों के दोनों ओर से इस पुल को सहारा देने के लिए लोहे के मोटे पिलर टिकाए गए हैं, जो जैक का काम कर रहे हैं। दरअसल इसके समानांतर बन रहे नए पुल का काम डेढ़ साल से रुका हुआ है, इसलिए पीडब्ल्यूडी अफसरों ने तर्क दिया कि ट्रैफिक चालू रहे, इसलिए सुधार रहे हैं।
स्टेशन से ठीक पहले रेलवे लाइन पर बना यह ओवरब्रिज 1984 में शुरू किया गया, अर्थात 36 साल पुराना है। दो साल पहले रेलवे और पीडब्ल्यूडी के इंजीनियरों ने जांच कर बता दिया था इस पुराने पुल का ढांचा अब वाहनों के दबाव को झेलने योग्य नहीं हैं। नया पुल बनने तक रेलवे के इंजीनियरों ने इस पुल को सपोर्ट देने के लिए नीचे से लोहे के अलग जैक लगा दिए हैं। गुरुवार को भास्कर टीम ने पुल के निचले हिस्से के निरीक्षण में पाया कि पिलरों की दरारें अब गहरी होने लगी हैं। पहले दरारें कुछ पिलरों में थीं, जो अब लगभग सभी में नजर आ रही हैं।

मेन लाइन होगी प्रभावित
तेलघानीनाका ब्रिज के नीचे से मुंबई-हावड़ा मेन लाइन गुजरती है। लॉकडाउन में ट्रेनें बंद हैं, लेकिन सामान्य दिनों में लोकल-एक्सप्रेस जैसी करीब 146 ट्रेनें तथा 70 मालगाड़ियां रोज गुजरती हैं, इसलिए लाइन काफी व्यस्त है। मुंबई-हावड़ा मेन लाइन की वजह से पुल ब्रिज कॉरपोरेशन और रेलवे ने मिलकर बनाया था। पुराने पुल के जर्जर होने के बाद ही इसके समानांतर नया ओवरब्रिज बनाने की तैयारी शुरू हुई। लेकिन कुछ महीने बाद जमीन अधिग्रहण के चक्कर में प्रोजेक्ट फंस गया। पीडब्ल्यूडी अफसरों के मुताबिक अधिग्रहण का मामला सुलझने से लेकर पुल बनने तक कम से कम डेढ़ साल का वक्त लगेगा।

"रेलवे को तेलघानीनाका ओवरब्रिज के निचले हिस्से की मरम्मत के लिए कई बार पत्र लिखा गया है। रेलवे अफसरों के साथ कुछ दिन पहले ही बैठक हुई है। संयुक्त निरीक्षण करके ब्रिज के पिलरों में आई दरारों की मरम्मत होगी।"
-शिरीष पड़ेगांवकर, ईई, पीडब्ल्यूडी- सेतु संभाग



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
40 lakh spent in the name of Rangrogan on shabby bridge, 36 year old bridge rests on jack, movement of heavy vehicles also stopped


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/33ojyGT

0 komentar