लड़कियों के मित्रों को मारकर भगाया, फिर बेहोश कर दो सगी नाबालिग बहनों से 8 ने किया रेप, वीडियो भी बनाया, 11 आरोपी गिरफ्तार , July 31, 2020 at 05:52AM

पलारी से 10 किमी दूर ग्राम केसला में दो माह पहले दो सगी नाबालिग बहनों से गैंगरेप करने वाले 8 आरोपियों ने पहले नाबालिग दोनों लड़कियों की दो पुरूष मित्रों को मारपीट कर भगा दिया था तथा दरिंदगी की हदें पार कर पहले नाबालिगों को मारपीट कर बेहोश किया फिर दुष्कर्म किया। आरोपियों में एक अपने सौतेले पिता के हत्या का आरोपी भी शामिल है।
एक आरोपी पीयूष वर्मा ने दुष्कर्म नहीं किया पर वीडियो जारी कर वही नाबालिग बहनों को ब्लैकमेल कर रहा था तथा सैक्सुअल अटैक का आरोपी है। आरोपियों में दो नाबालिग भी हैं। दोनों नाबालिगों के दो पुरुष मित्रों को भी इतनी बड़ी घटना छिपाने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया है, जिन्हें मिलाकर 11 आरोपी गिरफ्तार हुए हैं। दरअसल 28 जुलाई को महिला हेल्प लाइन 181 पर एक नाबालिग ने मामले की जानकारी दी कि आरोपियों ने 2 माह पूर्व उसके व एक और नाबालिग बहन से आरोपियों ने दुष्कर्म किया था तथा अब वे दोनों को ब्लैकमेल कर रहे हैं।
पुलिस ने 29 जुलाई को पीड़िता के पिता से मिलकर घटना के बारे में पूरी सच्चाई का पता लगाया। पुलिस के मुताबिक 2 माह पूर्व दोनों नाबालिग बहनें रात में अपने दो पुरुष मित्रों गोपी साहू एवं
कमलेश उर्फ राकी निवासी ग्राम अमेरा के साथ घर के बाहर घूमने गई थीं। घूमकर रात 10 बजे के करीब दोस्तो के साथ वापस घर लौट रही थीं तभी रास्ते में गांव के 8 लड़कों ने, जिसमें 2 नाबालिग भी शामिल थे, ने दोनों पुरूष मित्रों को रास्ते में रोककर पहले मारपीट की एवं डरा धमकाकर उनको भगा दिया। जैसे ही दोनों युवक वहां से भागे फिर सभी 8 आरोपियों ने उन्हें मारपीट कर बेहोश कर दिया फिर बारी-बारी से दोनों बहनों से सामूहिक दुष्कर्म किया।

दुष्कर्म के दौरान आरोपी वीडियो भी बनाते रहे
दरिंदगी की हदें पार करते हुए आरोपी रेप का वीडियो भी बनाते रहे और किसी को बताने पर आरोपियों ने जान से मारने की धमकी भी दी। इसके पश्चात दोनों नाबालिगों ने डर के मारे किसी को हादसे के बारे में नहीं बताया। इस बीच आरोपियों ने गांव के ही अपने साथी पीयूष वर्मा को वीडियो जारी कर दिया जो उन्हें ब्लैकमेल करता रहा। इस दौरान उसने दोनों बहनों पर सेक्सुअल अटैक भी किया। इससे परेशान होकर एक नाबालिग प्रार्थी ने 181 पर 28 जुलाई को सूचना दे दी। 29 जुलाई को ही पुलिस हरकत में आ गई और 8 लोगों के खिलाफ गैंग रेप का मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश में लग गई और सभी को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस की टीम में ये भी थे शामिल
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक निवेदिता पॉल, उपपुलिस अधीक्षक सिद्धार्थ बघेल, सुभाष दास एसडीओपी बलौदाबाजार, थाना प्रभारी पलारी मिलिंद पाण्डे, निरीक्षक सीआर चंद्रा थाना पलारी, निरीक्षक महेश ध्रुव, निरीक्षक लक्ष्मी चौहान, उपनिरीक्षक रोशन सिंह राजपूत, उपनिरीक्षक ओमप्रकाश त्रिपाठी, उपनिरीक्षक पुरूषोत्तम कुर्रे, उपनिरीक्षक चितराम ठाकुर, संजीव राजपूत, जगसिंह ठाकुर, नवीन शुक्ला, गांधी बंजारे, पिंकी कुर्रे एवं थाना पलारी के सभी आरक्षक।

सुपारी किलर रायपुर से गिरफ्तार
गिरफ्तार आरोपियों मे दो जगन्नाथ व अजय वर्मा सुपारी किलर हैं जो पैसा लेकर हत्या करने के अपराध में जेल में बंद थे। जगन्नाथ के सौतेले पिता की हत्या के आरोप में दोनों 3 साल से रायपुर जेल में बंद थे जो हाल ही में जमानत पर छूटे हैं। ये दोनों ही नाबालिगों को जान से मारने की धमकी देते थे तथा घटना की जानकारी किसी को देने पर अपने सुपारी किलर होने का हवाला देकर परिवार को खत्म करने की धमकी भी देते थे। गैंग रेप की घटना के बाद से जगन्नाथ गांव में ही था और अजय वर्मा काम करने रायपुर चला गया था जिसे पुलिस रायपुर से गिरफ्तार कर के लाई।

गिरफ्तारी के डर से रातभर पेड़ पर चढ़कर छिपा रहा आरोपी
एक आरोपी जगन्नाथ यादव, जब रात में पुलिस गांव से अन्य आरोपियों को उठाकर थाने ले गई तब ये पुलिस गाड़ी को देख गिरफ्तारी की डर से घर से भाग गया और गांव के बाहर खार के एक पेड़ पर चढ़कर दूर से ही पुलिस पर नजर रखता रहा। पुलिस ने गांव के 6 आरोपियों को तो तत्काल उठा लिया और बचे हुए आरोपी जगन्नाथ की तलाश गांव के कोने कोने में कर रही थी मगर पुलिस का ध्यान पेड़ पर नहीं गया। सुबह पुलिस की नजर पेड़ पर चढ़े आरोपी पर पड़ी तो उसे भी गिरफ्तार किया गया।

आरोपियों के नाम : 1. अजय वर्मा पिता भूपसिंह वर्मा उम्र 25 साल। 2. सोहन ध्रुव पिता भरत लाल उम्र 19 साल। 3. राजेन्द्र डहरिया पिता बोधराम उम्र 23 साल। 4. शिवम वर्मा पिता अनिल वर्मा उम्र 18 साल। 5. पीयूष वर्मा पिता अरूण वर्मा उम्र 19 साल। 6. राकेश डहरिया पिता कोदू डहरिया उम्र 23 साल। 7. जगन्नाथ यादव पिता किरित राम उर्फ लोकू यादव उम्र 24 साल। 8. राकी उर्फ कमलेश घृतलहरे पिता सुरेन्द्र उम्र 19 साल। 9. गोपी साहू पिता रामेश्वर साहू उम्र 19 साल। 10. 2 नाबालिग लड़के शामिल हैं।

दो रात सोए नहीं पुलिस वाले, एसपी भी दो दिन थाने में ही बैठे रहे
घटना के तुरंत बाद जिले के एसपी इंदिरा कल्याण एलेसेला, एडिशनल एसपी निवेदिता पॉल ने पलारी थाना पहुंचकर जवानों को निर्देश दिया कि जब तक सारे आरोपी नही पकड़ाए कोई अपने घर न जाए। पूरे प्रदेश को कोना-कोना छान मारो। एसपी पूरी टीम की मॉनिटरिंग खुद थाने में बैठकर कर रहे थे। पूरी रात पुलिस की 6 टीमें अपराधियों को पकड़ने गांवों में घूमती रही, जब सभी लोग गिरफ्तार हुए तभी एसपी 30 जुलाई की सुबह घर गए। इस संगीन अपराध को पुलिस ने महज कुछ घंटों में ही सुलझाकर अपने नाम एक और बड़ी सफलता हासिल कर ली है। एसपी ने पत्रवार्ता में बताया कि मामला करीब दो माह पुराना है जिसका खुलासा नाबालिगों के सामने आने पर हुआ। उन्होंने लोगों से अपील की ऐसे संगीन मामलों को छिपाए नहीं, तुरंत पुलिस की मदद लें, हमारा काम ही जनसेवा है। थाना पलारी में आरोपियों के विरूद्ध धारा 363, 376, 376(डी), 376(डी ए), 376(एएफ) भादवि एवं 4, 6 पाक्सो एक्ट के तहत अपराध दर्ज किया गया है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
आरोपियों के साथ पलारी थाने में पुलिस की टीम।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/312xROl

0 komentar