पहाड़ पर स्थित मां बम्लेश्वरी मंदिर तक भक्तों के पहुंचने के लिए चट्टानों को तोड़कर बनाई 900 सीढ़ियां , July 06, 2020 at 05:41AM

मां बम्लेश्वरी ऊपर पहाड़ी में दर्शनार्थियों की सुविधा के लिए मंदिर के पिछले हिस्से में सीढ़ियां बन गई है। प्राकृतिक छटाओं के बीच ऊपर मंदिर में चढ़ने के लिए पहाड़ की दूसरी दिशा में सीढ़ी बनाई गई है। मंदिर के सामने से 1200 सीढ़ियां पहले से हैं। मंदिर के पिछले हिस्से में वन विभाग ने करीब 900 सीढ़ियों का निर्माण कराया है। पहाड़ के चट्टानों को तोड़कर सीढ़ी का निर्माण किया गया है। निर्माण से पहले दुकानदारों ने इसका विरोध भी किया। लेकिन इसे वैकल्पिक व्यवस्था के रूप में इस्तेमाल किया जाएगा। रणचंडी मंदिर से इसकी एंट्री होगी। परिक्रमा पथ से होकर पीछे की सीढ़ी ऊपर मंदिर के गार्डन में निकलेगी। सीढ़ी निर्माण के बाद सबसे पहले दैनिक भास्कर में ड्रोन कैमरे से पाठकों को यह तस्वीर दिखाई जा रही है।

नवरात्र के दिनों में भीड़ बढ़ने पर विकल्प के रूप में होगा उपयोग
नवरात्र के दिनों में दर्शनार्थियों की भीड़ अधिक होने पर नई सीढ़ी को उतरने के लिए उपयोग किया जा सकता है। हालांकि फिलहाल इस पर किसी तरह का निर्णय नहीं लिया गया है। लेकिन आने वाले दिनों में पर्व के दौरान भीड़ को नियंत्रित करने के लिए विकल्प के रूप में पिछले हिस्से में बनी सीढ़ी का उपयोग किया जा सकता है।

वन विभाग ने बनाया परिक्रमा पथ इसका भी आनंद उठा सकेंगे दर्शनार्थी
ऊपर मंदिर पहाड़ में वन विभाग ने परिक्रमा पथ का निर्माण भी कराया है। लेकिन कोरोना संक्रमण को देखते हुए अब तक लोकार्पण नहीं होने से इसे आम लोगों के लिए यह खुला नहीं है। पहाड़ में पथ बनाकर परिक्रमा की सुविधा दी गई है। जहां पर दुर्लभ औषधियां व लक्ष्मण झूला, पौराणिक मूर्तियां लगाई गई है। परिक्रमा पथ में लोग दर्शन के बाद प्राकृतिक नजारों का आनंद उठा सकेंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
900 steps made by breaking the rocks to reach the devotees to the Maa Bamleshwari temple situated on the mountain.


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3f0WOiU

0 komentar