कोरोना से ठीक होकर लौटे सिपाहियों की फिर तबीयत बिगड़ी, एडीजी का परिवार भी पॉजिटिव; मरीजों को पता नहीं, कैसे संक्रमित हुए , July 25, 2020 at 11:55AM

छत्तीसगढ़ में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले अब डराने वाली स्थिति में पहुंच गए हैं। हॉट स्पाट बने रायपुर में सबसे ज्यादा बुरी स्थिति है। अब ऐसे मरीज भी सामने आए हैं, जो कोरोना से ठीक होकर घर लौट चुके थे। शुक्रवार देर रात पुलिस मुख्यालय के दो सिपाहियों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। दोनों को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। वहीं, भिलाई में मिले अधिकांश मरीजों को पता नहीं है कि वो कैसे संक्रमित हुए हैं।

ये तस्वीर भिलाई की है। पुलिस ने सख्ती और बढ़ा दी है। इसके बाद अधिकारी भी सड़क पर उतर पड़े और लॉकडाउन पालन करवा रहे हैं।

रायपुर : रिपोर्ट पॉजिटिव, फिर भी 24 घंटे से भर्ती होने का इंतजार
जिले के लगभग सभी सरकारी अस्पताल और कोविड-19 सेंटर मरीजों से फुल हो गए हैं। इसके बाद अस्थाई रूप से बनाए गए लालपुर और इंडोर स्टेडियम को खोला जा रहा है। वहीं रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद भी मरीजों के भर्ती होने का इंतजार बढ़ गया है। अमलीडीह की एक कॉलोनी में रहने वाले स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी पॉजिटिव मिलने के 24 घंटे से ज्यादा समय बीतने के बाद भी भर्ती नहीं किए जा सके हैं।

तेजी से बढ़ रहा संक्रमित पुलिसकर्मियों का आंकड़ा
प्रदेश में पुलिसकर्मियों और जवानों में संक्रमण तेजी से फैल रहा है। सिपाहियों और बीएसएफ, आईटीबीपी, सीआरपीएफ जवानों से होता हुआ अब उच्चाधिकारियों तक पहुंच चुका है। कुछ दिन पहले एक डीआईजी पॉजिटिव मिले थे। अब रायपुर में एक एडीजी का परिवार संक्रमित है। उनकी पत्नी और बेटी पॉजिटिव मिली है। बताया जा रहा है कि लॉकडाउन के कारण एडीजी दफ्तर नहीं जा रहे थे, लेकिन उससे पहले नियमित थे।

मुख्यमंत्री ने एम्स के डायरेक्टर से बात की, प्लाज्मा थैरेपी पर विचार
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एम्स रायपुर के डायरेक्टर डॉ. नितिन एम नागरकर से कोरोना उपचार के लिए प्लाज्मा थेरेपी सहित अन्य आवश्यक व्यवस्थाओं के संबंध में चर्चा की। अस्पताल में भर्ती मरीजों की स्थिति, उनके उपचार के लिए उपलब्ध मेडिकल स्टाफ, बेड सहित अन्य व्यवस्थाओं की जानकारी भी ली। मुख्यमंत्री भूपेश ने कोरोना पीड़ितों के उपचार के लिए प्लाज्मा थेरेपी को आगे जारी रखने के लिए किए जा रहे उपायों की भी चर्चा की।

समीक्षा के बाद बढ़ सकता है लॉकडाउन
अब खाद्यमंत्री अमरजीत भगत ने कहा है कि कोरोना के मामलों में जहां कमी नहीं आई है, वहां स्थिति की फिर समीक्षा होगी। केस ज्यादा होने पर लॉकडाउन बढ़ाया भी जा सकता है। वहीं भाजपा विधायक और पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल ने आरोप लगाया है कि कोरोना संक्रमण रोकने में राज्य सरकार पूरी तरह फेल साबित हो रही है। कोरोना से निपटने के बजाय निगम, मंडल और आयोगों में नेताओं को रेवड़ियां बांटने में उलझी है।

अब रायपुर सहित 15 जिलों में लॉकडाउन
कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए रायपुर सहित प्रदेश के 15 जिलों में लॉकडाउन हो गया है। इनमें अंबिकापुर, कोरबा, दुर्ग, रायगढ़, सरगुजा, बलौदाबाजार, राजनांदगांव, बालोद, बिलासपुर, बेमेतरा, मुंगेली, दंतेवाड़ा, जांजगीर-चांपा और कोंडागांव शामिल हैं। वहीं अन्य जिलों में सख्ती बढ़ा दी गई है। ग्रामीण क्षेत्रों में ढील है, लेकिन वहां से लोगों को बिना जरूरी काम के शहर आने से मना किया जा रहा है।

रायपुर समेत 6 जिलों में अब निजी अस्पतालों में भी इलाज
रायपुर समेत बिलासपुर, दुर्ग, कोरबा, सरगुजा, रायगढ़ जिले में बिना लक्षण वाले कोरोना मरीजों का इलाज निजी अस्पतालों में भी किया जाएगा। वहां इलाज का खर्च मरीजों को उठाना पड़ेगा। इसके लिए हेल्थ संचालनालय ने सभी कलेक्टरों व सीएमएचओ को पत्र जारी कर दिया गया है। सभी अस्पताल आईसीएमआर की गाइडलाइन का पालन करेंगे। रायपुर में दो बड़े निजी अस्पतालों ने कोरोना के मरीजों का इलाज करने की सहमति भी जता दी है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
ये तस्वीर भिलाई की है। शहर में 32 संक्रमित मिले हैं। इनमें से 16 बीएसएफ के जवान हैं। प्रदेश में संक्रमित पुलिससकर्मी और जवानों की संख्या बढ़ती जा रही है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2BxuGpe

0 komentar