राजधानी में लाॅकडाउन एक सप्ताह और एक-दो दिन की छूट के आसार भी कम , July 27, 2020 at 07:06AM

राजधानी रायपुर में 22 जुलाई से लाॅकडाउन लागू हुआ लेकिन पहले दो दिन में ढाई-ढाई सौ से ज्यादा मरीज मिल गए। अब भी रोजाना 100 से ज्यादा मरीज मिल रहे हैं। इस वजह से सरकार राजधानी में लाॅकडाउन एक हफ्ता और बढ़ाने की तैयारी में है। हालांकि सोमवार को सीएम भूपेश बघेल और सभी मंत्री राजधानी समेत प्रदेश के उन सभी 11 जिलों की स्थिति की समीक्षा करेंगे, जहां अभी लाॅकडाउन चल रहा है।

संकेत मिले हैं कि रायपुर में हालात अब तक बेकाबू हैं, इसलिए सरकार के सभी मंत्री और शासन के आला अफसर राजधानी में लाॅकडाउन एक हफ्ता और बढ़ाने का मन बना चुके हैं। विचार इसी बात पर होना है कि 28 को रात 12 बजे लाॅकडाउन खत्म होने के बाद एक दिन के लिए बाजार खोला जाए या फिर इसी लाॅकडाउन को बिना खोले आगे बढ़ा दिया जाए।

राजधानी में लाॅकडाउन एक सप्ताह और एक-दो दिन की छूट के आसार भी कम

रायपुर समेत प्रदेश के चार नगर निगम क्षेत्रों में 28 जुलाई को लॉकडाउन खत्म हो रहा है। वहीं अधिकांश जिलों में 29 और कुछ में 31 जुलाई तो बेमेतरा जिले में तो 2 अगस्त तक लॉकडाउन किया गया है। वहीं 22 जुलाई से शुरु हुए लॉकडाउन के बाद राजधानी रायपुर में रोज काेरोना के 100 से ज्यादा मरीज मिल रहे हैं इसे देखते हुए यहां लॉकडाउन की तिथि बढ़ाया जाना लगभग तय माना जा रहा है।

बिलासपुर जिले में कोरोना से चौथी मौत

जिले में कोरोना से चौथी मौत हुई है। जबकि मस्तूरी में दूसरी मौत है। मस्तूरी के टिकारी निवासी 35 वर्षीय महिला की मौत शनिवार को मेकाहारा रायपुर में हो गई थी। मौत के बाद महिला का सैंपल लिया गया। रविवार को मृत महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आते ही जिले में मौत का आंकड़ा बढ़ने के साथ स्वास्थ्य विभाग में भी हलचल हो गई। सीएमएचओ डॉक्टर प्रमोद महाजन मौत की पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि महिला को पहले से कैंसर और टीबी की शिकायत थी। बिलासपुर के एक निजी अस्पताल से उसे शनिवार को रेफर किया था। रायपुर पहुंचे के कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई। इसके इसका सैंपल लिया गया तो रिपोर्ट पॉजिटिव आई है अब सरकारी गाइड लाइन के तहत साेमवार को महिला का अंतिम संस्कार किया जाएगा।

इधर जिले में रविवार को 20 कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इनमें एक कोरोना पीड़ित की मौत हुई है। 19 नए एक्टिव मरीज मिले हैं। अब तक 541 मरीज मिले हैं। 416 ठीक हुए हैं। 121 कोरोना की चपेट में हैं।2018 से टीबी थी महिला को: 40 वर्षीय पति ने बताया 2018 से उनकी पत्नी को टीबी थी। इलाज अपोलो में चल रहा था। आराम नहीं मिलने से उन्होंने 22 जुलाई को मंगला स्थित नारायणी अस्पताल में पत्नी को भर्ती कराया। वहां भी आराम नहीं हुआ तो शनिवार को वे पत्नी को लेकर मेकाहारा रायपुर गए। उन्होंने बताया अस्पताल में कुछ देर बाद ही उसकी मौत हो गई। उन्होंने बताया पत्नी को कैंसर था इसकी जानकारी उन्हें नहीं थी। बस यही मालूम था कि टीबी है । मौत के बाद कोरोना जांच के लिए सैंपल लिया गया। रविवार को रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। महिला के पति ने बताया कि वे टिकारी के रहने वाले हैं। पत्नी का मायका पेंडारी में है। दो-तीन महीनों से वे अपने मायके में ही रह रही थी। उनके दो बच्चे हैं। वे खेती किसानी करते हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Lackdown in the capital is also less than a week and one or two days discount


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3gg3xq5

0 komentar