संक्रमण से बचने वाराणसी और प्रयागराज की जगह कर्मकांड के लिए अलखनंदा पहुंच रहे लोग , July 27, 2020 at 11:10AM

जशपुरनगर. कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों ने कर्मकांड के विकल्प भी उपलब्ध करा दिए हैं। परिजनों की मौत पर जो लोग वाराणसी या प्रयागराज नहीं जा पा रहे, वे अलखनंदा पहुंचकर कर्मकांड कर रहे हैं। लॉकडाउन के बाद से अस्थियों के विसर्जन के लिए यहां बलरामपुर, सरगुजा और जशपुर सहित अन्य इलाकों से लोग पहुंच रहे हैं। अलखनंदा को छत्तीसगढ़ की गंगा माना जाता है। इसका भी पानी गंगाजल की तरह कभी खराब नहीं होता है।

जशपुर या सरगुजा से वाराणसी या प्रयागराज जाने के लिए बिहार से होकर गुजरना पड़ता है। वहां दूसरे राज्यों से प्रवेश के लिए नियम सख्त है। ऐसे में जिले में बहने वाली अलखनंदा में जाकर कर्मकांड करने की शुरुआत शहर में ब्राह्मण परिवारों ने की।

अलखनंदा जलप्रपात में बहने वाले पानी के गुण गंगाजल के समान हैं। इसके पानी का उपयोग क्षेत्र में कई साल पहले से ही गंगाजल के रूप में करते आ रहे हैं। लोग यहां से जल भरकर भी ले जाते हैं और पूजापाठ में गंगाजल के रूप में इसका उपयोग करते हैं। अस्थि विसर्जन के लिए यहां अलग से घाट बने हुए हैं। संत गहिरा गुरु आश्रम के श्रमदानी राजू कुमार बताते हैं कि प्रतिदिन 6 से 8 परिवार यहां अस्थियां विसर्जित करने पहुंच रहे हैं।

ब्राह्मण परिवार के लोग भी यहीं कर रहे कर्मकांड
जशपुर या सरगुजा से वाराणसी या प्रयागराज जाने के लिए बिहार से होकर गुजरना पड़ता है। वहां दूसरे राज्यों से प्रवेश के लिए नियम सख्त है। ऐसे में जिले में बहने वाली अलखनंदा में जाकर कर्मकांड करने की शुरुआत शहर में ब्राह्मण परिवारों ने की। शहर के सन्ना रोड स्थित प्रवीण कुमार पाठक के माता का निधन होने पर उनकी अस्थियों का विसर्जन अलखनंदा में किया। तेलीटोली निवासी मंगल पांडेय ने भी पिता की अस्थियां प्रवाहित की।

जिस तरह गंगा नदी के पानी में बैक्टीरियोफेज जीवाणु है, उसी तरह अलखनंदा के पानी में भी पाया गया है। कुछ साल पहले वैज्ञानिक शोधकर्ताओं ने इसका परीक्षण कर इसकी पुष्टि भी की है। तब से अलखनंदा को छत्तीसगढ की गंगा के नाम से भी जाना जाता है।

यहां के पानी में है बैक्टीरियोफेज
जिस तरह गंगा नदी के पानी में बैक्टीरियोफेज जीवाणु है, उसी तरह अलखनंदा के पानी में भी पाया गया है। कुछ साल पहले वैज्ञानिक शोधकर्ताओं ने इसका परीक्षण कर इसकी पुष्टि भी की है। तब से अलखनंदा को छत्तीसगढ की गंगा के नाम से भी जाना जाता है। अलखनंदा जशपुर जिले के बगीचा विकासखंड से 28 किलोमीटर की दूरी पर प्रसिद्ध शिवालय कैलाश नाथेश्वर गुफा में बहती है। यह संत गहिरा गुरू की तपोस्थली है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों ने कर्मकांड के विकल्प भी उपलब्ध करा दिए हैं। परिजनों की मौत पर जो लोग वाराणसी या प्रयागराज नहीं जा पा रहे, वे अलखनंदा पहुंचकर कर्मकांड कर रहे हैं। अलखनंदा को छत्तीसगढ़ की गंगा माना जाता है। इसका भी पानी गंगाजल की तरह कभी खराब नहीं होता है। 


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2X0QyRh

0 komentar