शिक्षाकर्मियों को तीन माह से नहीं मिला वेतन, राखी इस बार हो सकती है फीकी , July 28, 2020 at 05:57AM

प्रदेश के शिक्षाकर्मियों की राखी फीकी हो सकती है। इसकी वजह यह कि तीन महीने से कई ब्लाकों में हजारों को तनख्वाह नहीं मिली है। शिक्षाकर्मियों को कई ब्लॉक में मई-जून से वेतन नहीं मिला है। अभी तक जुलाई के लिए किसी भी ब्लॉक में आबंटन भी नहीं पहुंचा है। शिक्षाकर्मियों का नवंबर में अब संविलियन हो जाएगा, लेकिन अभी भी उन्हें वेतन के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है।
प्रदेश के कई जिलों के बहुत सारे ब्लॉक में अभी भी जून के वेतन का भुगतान नहीं हुआ है। कई ब्लॉक तो ऐसे हैं जहां पर मई का भी वेतन नहीं दिया गया है। जबकि जुलाई खत्म होने जा रहा है। इसके अतिरिक्त प्रदेश के किसी भी जिले में जुलाई के लिए आबंटन नहीं है ऐसे में अपने शिक्षाकर्मी साथियों से वेतन भुगतान की स्थिति की जानकारी पंचायत विभाग के मंत्री टीएस सिंहदेव को, संचालक एस प्रकाश को, आरएमएसए और एसएसए के संचालक जितेंद्र शुक्ला को और नगरीय प्रशासन विभाग के अपर संचालक सौमिल रंजन चौबे को दी गई है। उनसे राखी से पहले वेतन भुगतान की मांग रखी है ताकि प्रदेश के शिक्षाकर्मियों का परिवार भी त्योहार मना सकें। बताते हैं कि नगरीय प्रशासन विभाग और पंचायत विभाग जून तक के वेतन भुगतान के लिए पहले ही आबंटन जारी कर चुका है। बावजूद इसके कई ब्लॉक में वेतन भुगतान नहीं किया गया है। इसके पीछे स्थानीय कार्यालयों की गड़बड़ी बताई जा रही है। सूची के जरिए अधिकारियों के सामने सच्चाई भी रखने की कोशिश की है ताकि अधिकारियों को भी यह पता चल सके कि उच्च कार्यालय से आबंटन जारी करने के बावजूद स्थानीय कार्यालय शिक्षाकर्मियों को वेतन भुगतान करने में कोताही करते हैं।

राखी से पहले मिले तनख्वाह: दुबे
इसके संबंध में संविलियन अधिकार मंच के प्रदेश संयोजक विवेक दुबे ने मांग की कि राखी सर पहले सरकार शिक्षाकर्मियों को वेतन दे। वेतन भुगतान करने के लिए ज्ञापन सौंपा है। हमें विश्वास है कि उच्च अधिकारी पूरे मामले को संज्ञान में लेकर जल्द वेतन भुगतान कराएंगे और समस्या का निराकरण होगा। इधर, अफसरों का कहना है कि शिक्षाकर्मियों की तनख्वाह का आबंटन तो पहले से ही जारी कर दिया गया है। गड़बड़ी कहां हो रही है इसका पता लगाया जाएगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/306umqV

0 komentar