गंभीर मरीजों के लिए जरूरी रेमडेसिवीर इंजेक्शन का संकट , July 29, 2020 at 06:46AM

अमेरिका में कोरोना के मरीजों पर कामयाब इलाज से चर्चा में आए रेमडेसिवीर इंजेक्शनों का प्रदेश में गंभीर संकट खड़ा हो गया है। यह इंजेक्शन किसी सरकारी अस्पताल में अभी उपलब्ध नहीं है। गंभीर मरीजों के लिए डाक्टर यह इंजेक्शन लिख रहे हैं, लेकिन बाजार में भी इसकी सप्लाई नहीं है। रेमडेसिवीर का एक वायल 4 हजार रुपए का है और गंभीर मरीज को 6 इंजेक्शन की जरूरत पड़ती है, जो 24 हजार रुपए का होता है। हालांकि यह 35 हजार रुपए तक में भी बिका है। इसकी सप्लाई मुंबई से ही होती है। इमरजेंसी में इस्तेमाल इस इंजेक्शन के लिए शहर की एक एजेंसी के संचालक को सोमवार रात राजनांदगांव जाकर मुंबई से आए वायल की डिलीवरी लेनी पड़ी थी।
सरकारी अस्पतालों में इस इंजेक्शन की सप्लाई नहीं है, इसलिए कोरोना से गंभीर रूप से संक्रमित मरीज इसे खरीद नहीं पा रहे हैं, जिनकी आर्थिक स्थिति ऐसी नहीं है। इस वजह से ज्यादातर डाक्टर इसे लिख भी नहीं रहे हैं, लेकिन गंभीर मरीजों से परिजनों को बताया जा रहा है कि यह कितना जरूरी है। अभी गंभीर संक्रमण के लिए यही एकमात्र इंजेक्शन है, जिसे इलाज में कामयाब माना गया है। विशेषज्ञों के अनुसार रेमडेसिवीर एंटी वायरल दवा है और इसे इबोला के लिए बनाया गया था। कोरोना के गंभीर मरीज जो ऑक्सीजन पर हो या माइल्ड वेंटीलेटर पर हो, उसे दिया जा सकता है।

पर्ची और आधार कार्ड जरूरी
कोरोना के लिए कारगर होने के कारण यह दवा बिना मरीज की पर्ची व आधार कार्ड के बिना नहीं दी जा रही है। मेडिकल कांप्लेक्स स्थित होलसेल मार्केेट के अध्यक्ष संजय रावत के अनुसार दवा के शार्टेज व दुरुपयोग रोकने के लिए ऐसा किया जा रहा है। कई लोग डॉक्टर की पर्ची के बिना इसे मांग रहे हैं

"अंबेडकर अस्पताल और एम्स में रेमडेसिवीर इंजेक्शन नहीं है। हमने सीजीएमएससी को सप्लाई के लिए पत्र लिखा है। यह दवा गंभीर मरीजों के लिए फायदेमंद है। मांग के कारण इसकी कमी हो सकती है।"
-डॉ. आरके पंडा, सदस्य कोरोना कोर कमेटी



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
प्रतीकात्मक फोटो।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2DjotgU

0 komentar