बयान देने बुलाया तो पुलिस के डर से युवक ने नाबालिग प्रेमिका के साथ कर ली खुदकुशी , July 30, 2020 at 06:23AM

पुलिस ने बयान देने के लिए थाने बुलाया तो डर के कारण युवक ने अपनी नाबालिग प्रेमिका के साथ घर में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। घटना तोरवा थाना क्षेत्र की है। युवक पर अपहरण के आरोपी व उसके किशोरी प्रेमिका को अपने घर में शरण देने का आरोप था। पुलिस ने एक दिन पहले ही युवक को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। ग्राम दोमुहानी निवासी अमन साहू पिता रामभरोस साहू 20वर्ष का गांव के ही श्रृति सतनामी पिता बिल्लू सतनामी 17 वर्ष के साथ प्रेम प्रसंग था। आठ माह पहले दोनों ने घर से भागकर शादी कर ली थी। दोनों परिवार को उनके रहने पर किसी तरह का एतराज नहीं था। अमन के पिता ठेकेदार हैं। अमन उनके साथ काम पर जाता था। देवरीखुर्द निवासी वीरेंद्र देवांगन 21वर्ष अमन का साथी था। कुछ दिन पहले वह 16 साल की किशोरी को भगाकर ले गया। 17 जुलाई को किशोरी के परिजनों ने थाना में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। पुलिस ऑपरेशन मुस्कान के तहत गायब किशोरियों की तलाश में जुटी थी। इसी दौरान वीरेंद्र पुलिस के हत्थे चढ़ गया। पुलिस ने उसके कब्जे से किशोरी को मुक्त कराया और वीरेंद्र को जेल भेज दिया। वीरेंद्र के खिलाफ अपहरण का केस दर्ज था। पूछताछ में पता चला कि वह किशोरी को लेकर अमन के घर आया था और यहां कुछ दिन रहा। एएसआई भरत राठौर एक कांस्टेबल के साथ मंगलवार को जांच के लिए दोमुहानी गया। अमन को बुलवाया और पूछताछ की। उसे बुधवार की सुबह फिर से थाने आकर बयान दर्ज कराने के लिए कहा गया था। अमन इससे काफी डर गया था। उसे वीरेंद्र की तरह जेल जाने का डर सता रहा था। बुधवार की सुबह उसने अपनी नाबालिग प्रेमिका के साथ घर में खुदकुशी कर ली।

पुलिसवालों ने कहा था-तुम भी आरोपी हो
नाम नहीं छापने की शर्त पर एक ग्रामीण ने बताया कि नाबालिग के अपहरण केस की जांच करने पुलिस दोमुहानी गई तो उसने अमन को बुलाकर कहा था कि उसने अपने दोस्त को अपने घर पर शरण दी थी इस कारण वह भी आरोपी है। इससे अमन काफी डरा हुआ था। उसका कहना था कि दोनों ने अंतरजातीय विवाह किया था इसलिए परिजनों ने उसे छोड़ दिया था। इधर युवक व किशोरी में से किसी की भी मां नहीं थी। श्रृति जब आठ माह की थी तभी उसकी मां ने खुदकुशी कर ली थी। वह आग से जल गई थी। उसका एक 8-9 साल का भाई है। पिता रोजी मजदूरी कर दोनों का गुजर बसर करता है।

पुलिस ने डराया धमकाया नहीं
तोरवा टीआई परिवेश तिवारी के अनुसार पुलिस अपहरण केस की जांच कर रही है। युवक या किशोरी में से किसी को भी पुलिस ने धमकाया नहीं था बल्कि युवक से कहा गया था उसके खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई नहीं होगी। उसे डरने की जरूरत नहीं है। थाने आकर केवल उसे बयान दर्ज कराना है फिर घर चले जाना है।

पिता बोले-मैं पुलिस के कहने पर अमन को बुलाने घर आ रहा था, रास्ते में खुदकुशी का पता चला
दो नों ने आठ महीने पहले ही लव मैरेज की थी। मेरा बेटा अमन 12वीं का पेपर छोड़कर भाग गया था। इधर उधर रहने के बाद घर लौटा तो बोला बस्ती के घर में अलग रहूंगा। मैंने एतराज नहीं किया। मैं सड़क की ओर दूसरे घर में रहता हूं। तीन-चार दिन पहले देवरीखुर्द की लड़की को लेकर दूसरा युवक भागा था। अमन ने तीन दिन उन्हें अपने घर में रखा था। इस बात की जानकारी मुझे नहीं थी और न ही पड़ोसियों को थी। पता चला तो मैं पूछा और उसने कुछ नहीं बताया। पुलिस ने भागने वाले युवक की कॉल डिटेल निकाली तो मेरा नाम सामने आया। मुझे थाने बुलाया गया। मैंने कहा कि मुझे कोई जानकारी नहीं है। बताया वह नंबर मेरा बेटा अमन उपयोग करता है। पुलिस ने कहा कि तुम्हारे बेटे ने भागने में युवक को सहयोग दिया है इसलिए वह दोषी है। मैंने पुलिस से पूछा-सर अब क्या करना है तो मुझे कहा गया अमन को थाने ले आओ। इसके बाद एएसआई भरत राठौर मेरे बेटे के घर चला गया और पूछताछ शुरू कर दी। अमन को थाना बुलाया। वह काफी डर गया था। ड्रिपेशन में आ गया था। युवक व लड़की को घर में रखने के लिए मैने भी उसे डांटा। बुधवार की सुबह 9.30 बजे अमन मेरे से मिला और पूछा पापा क्या करना है? मैं बोला थाने जा रहा हूं, मिलकर आने के बाद बताउंगा। थाने गया तो एएसआई ने कहा अपने बेटे को लेकर आ जाओ। उसे गवाही देना है। साइन करना पड़ेगा। सुबह के तब 10.30 बजे थे। मैं बेटे को लेने घर आने के लिए निकला। तैयार रहने के लिए उसे रास्ते में तीन बार फोन लगाया पर रिसीव नहीं हुआ फिर मैं बेटे के पड़ोसी को फोन लगाकर अमन से बात कराने के लिए कहा। वह फोन लेकर अमन के घर गया तो दरवाजा भीतर से बंद था। उसने आवाज दिया पर कोई जवाब नहीं मिला। खिड़की से झांका तो दोनों फांसी के फंदे पर लटक रहे थे।
(अमन के पिता रामभरोस साहू ने दैनिक भास्कर के क्राइम रिपोर्टर चंद्रकुमार दुबे को जो बताया)



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3hMjXqm

0 komentar