छत्तीसगढ़ देश का सबसे साफ राज्य, 10 लाख तक की आबादी वाले शहरों में अंबिकापुर टॉप पर , August 21, 2020 at 05:51AM

2020 के शहरी सफाई सर्वे में छत्तीसगढ़ देश का सबसे स्वच्छ राज्य घोषित हुआ है। दरअसल, 100 से अधिक शहरों वाले राज्य में सबसे साफ राज्य का खिताब छत्तीसगढ़ को मिला है। वहीं 10 लाख की आबादी वाले शहरों में मध्य प्रदेश का इंदौर लगातार चौथी बार देश का सबसे साफ शहर बन गया है। इधर, छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर को 21वीं पोजिशन मिली है। पिछली बार रायपुर को 41वां स्थान मिला था। यह ऐलान केंद्र सरकार के शहरी विकास मंत्रालय ने गुरुवार को स्वच्छता सर्वेक्षण नतीजे जारी करते हुए किया है। इतना ही नहीं, प्रदेश के छोटे कस्बों और शहरों ने एक बार फिर रिकॉर्ड बनाया है। छत्तीसगढ़ को एक साथ 14 राष्ट्रीय पुरस्कार मिले हैं। इसमें गोबर खरीदने के मॉडल को वेस्ट टू वेल्थ मॉडल के तौर पर सराहना भी मिली है। केंद्रीय आवास और शहरी कार्य मंत्रालय ने वर्चुअल ऑनलाइन पुरस्कार वितरण समारोह में मुख्यमंत्री आवास से केंद्रीय आवास और शहरी विकास मंत्री हरदीप सिंह पुरी से अवार्ड सीएम भूपेश बघेल और नगरीय प्रशासन मंत्री शिवकुमार डहरिया ने लिया। सीएम ने कहा है कि अगले साल भी छत्तीसगढ़ स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रथम स्थान पर रहे, इसकी कोशिश करेंगे। छत्तीसगढ़ में कचरे से खाद बनाई जा रही है। दो रुपए प्रति किलो की दर पर खरीदी कर इससे वर्मी कम्पोस्ट तैयार किया जा रहा है। गांव और शहरों में गोबर से होने वाली गंदगी पर रोक लगी है। गांव और शहर और अधिक स्वच्छ हुए हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि गांवों के साथ-साथ शहरी क्षेत्रों में भी यह योजना लागू की गई है। राज्य के शहरी क्षेत्रों में स्थापित 377 गोबर खरीदी केन्द्रों में गोबर खरीदी की जा रही है। इस योजना से लोगों की आय में भी बढ़ोतरी हुई है।
शहरी स्वच्छ भारत: सर्वे में पाटन नगर पंचायत को 25 हजार से कम जनसंख्या श्रेणी में देश का स्वच्छ शहर होने का दर्जा मिला है। इसी प्रकार जशपुरनगर को 25 से 50 हजार की जनसंख्या, धमतरी को 50 हजार से 01 लाख की जनसंख्या एवं अंबिकापुर को 01 से 10 लाख जनसंख्या श्रेणी में सबसे स्वच्छ शहरों का दर्जा प्राप्त हुआ है। साथ ही प्रदेश के 10 अन्य शहरों में भिलाई का रैंक 34, 50 हजार से 01 लाख की जनसंख्या में भिलाई-चरोदा रैंक दूसरा, चिरमिरी को तीसरा , बीरगांव को चौथा , 25 से 50 हजार की जनसंख्या में कवर्धा को दूसरा, चांपा को पांचवां, अकलतरा को 74 वां स्थान मिला है। 25 हजार से कम आबादी वाले शहर में नरहरपुर को दूसरा, सारागांव को तीसरा, पिपरिया को चौथा राष्ट्रीय पुरस्कार मिला है। प्रदेश को स्वच्छता में नंबर वन बनाने के लिए सीएम बघेल ने नगरीय प्रशासन मंत्री डॉक्टर शिवकुमार डहरिया और सभी शहरों में कार्यरत स्वच्छता दीदियों, स्वच्छता कमांडो, अधिकारियों और कर्मचारियों की भूमिका की तारीफ की है।

देश के सबसे साफ 10 शहर

  • इंदौर
  • सूरत
  • नवी मुंबई
  • विजयवाड़ा
  • अहमदाबाद
  • राजकोट
  • चंडीगढ़
  • विशाखापट्‌टनम
  • भोपाल
  • वडोदरा

ये सबसे गंदे 10 शहर

  • पटना
  • पूर्वी दिल्ली
  • चेन्नई
  • कोटा
  • उत्तरी दिल्ली
  • मदुरई
  • मेरठ
  • कोयंबटूर
  • अमृतसर
  • फरीदाबाद

9 पैरामीटर पर हुआ सर्वे

  • घरों से कचरा उठाना, परिवहन।
  • कचरे का प्रंस्करण, निष्पादन।
  • दूषित पानी शुद्ध, फिर उपयोग।
  • 3 सिद्धांत: गंदगी में कमी, फिर इस्तेमाल,पुनर्चक्रण पर जोर।
  • ठोस प्रदूषकों में कमी लाना।
  • कचरा बीनने वालों की सामाजिक स्थिति सुधारना।
  • जेम से खरीदी को बढ़ावा देना।
  • गंगा नदी के पास बसे शहरों को स्वच्छ बनाना।
  • टेक्नोलॉजी से निगरानी।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
तस्वीर अंबिकापुर की है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3lbNYmb

0 komentar