छत्तीसगढ़ में 25 हजार बेड की होगी व्यवस्था, 31 तक लॉकडाउन की खबरों को सरकार बताया अफवाह , August 03, 2020 at 02:00PM

प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों की वजह से इलाज की सुविधाएं बढ़ाई जा रही हैं। सरकार के दावे की मानें तो जल्द ही प्रदेश में 25 हजार बेड की व्यवस्था होगी। यानी सरकारी निगरानी में 25 हजार लोगों का इलाज हो सकेगा। यह आंकड़ा प्रदेश के हर जिले में तैयार किए जा रहे कोविड केयर सेंटर के बिस्तरों का है। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने बताया कि सिर्फ रायपुर में ही 6000 से अधिक बेड्स की व्यवस्था कर रहे हैं। रायपुर ऐम्स और मेडिकल कॉलेज में मौजूद बेड्स के अलावा 5000 और बेड्स लगाए जाने काम जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा।


यह है मौजूदा व्यवस्था
वर्तमान में प्रदेश के सभी जिलों में कुल 157 कोविड केयर सेंटर्स हैं। 18 हजार 598 बेड इन सेंटर में फिलहाल मौजूद हैं। प्रदेश में अभी 2559 एक्टिव कोरोना संक्रमित हैं। बालोद जिले के कोविड केयर सेंटर्स में 1055, बलौदाबाजार-भाटापारा, बेमेतरा और कांकेर में 550-550, बलरामपुर-रामानुजगंज में 500, बस्तर में 1250, बीजापुर में 80, बिलासपुर में 687, दंतेवाड़ा में 582, धमतरी में 475, दुर्ग में 1574, गरियाबंद में 235, गौरेला-पेंड्रा-मरवाही और जांजगीर-चांपा में 200-200, जशपुर में 535, कबीरधाम में 460, कोंडागांव में 181, कोरबा में 650, महासमुंद में 240, मुंगेली में 434, नारायणपुर में 100, रायगढ़ में 1000, रायपुर में 4350, राजनांदगांव में 310, सुकमा में 825, सूरजपुर में 250 और सरगुजा जिले में 730 बेड मौजूद हैं।


31 अगस्त तक लॉकडाउन नहीं
प्रदेश में चर्चा इस बात की है क्या लॉकडाउन की अवधि को बढ़ेगी। कई खबरें वायरल भी हुईं जिनमें दावा किया गया कि 31 अगस्त तक छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन होगा। सरकार की तरफ से साफ किया गया है कि 31 अगस्त तक लाॅकडाउन की खबरें झूठी हैं। सभी जिला कलेक्टर को जिले की स्थानीय परिस्थिति को देखते हुए लाॅकडाउन लगाने का अधिकार दिया गया है। फिलहाल 6 अगस्त तक ही लॉकडाउन प्रभावित है। दरअसल सामान्य प्रशासन विभाग के एक लेटर की वजह से कंफ्यूजन पैदा हुआ था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
तस्वीर रायपुर के कोविड केयर सेंटर की है। इसे एक बलबीर जुनेजा स्टेडियम में बनाया गया है। रायपुर में आर्युवेदिक कॉलेज, माना, एम्स और मेकाहारा में इसी तरह से बंदोबस्त किए जा रहे हैं।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3hZsgzd

0 komentar