कल से 31 तक सरकारी स्कूलों में दाखिला, कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए सरकारी स्कूल बंद हैं , August 05, 2020 at 06:39AM

सरकारी स्कूलों में दसवीं और बारहवीं को छोड़कर बाकी कक्षाओं के लिए 6 अगस्त से प्रवेश प्रक्रिया शुरू की जा रही है। 31 अगस्त तक दाखिला पूरा करना है। इस बार प्रवासी मजदूरों के बच्चों और आंगनबाड़ी केंद्रों के छह साल पूरे करने वाले बच्चों को प्राथमिकता के साथ प्रवेश दिलाना है।कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए सरकारी स्कूल बंद हैं। दसवी और बारहवीं बोर्ड है इसलिए जिस स्कूल में पढ़कर विद्यार्थी नवमी और 11 वीं उत्तीर्ण किया है। 10वीं और 12वीं के लिए रजिस्टर की जरूरत नहीं पड़ेगी।

सरकारी स्कूल में प्राइमरी के लिए दाखिला के लिए बच्चे और पैरेंट्स का आना जरूरी नहीं
पहली के लिए आंगनबाड़ी के बच्चों की बनेगी सूची: पहली कक्षा के लिए प्राथमिक शालाओं के हेडमास्टरों को निर्देश जारी किए गए हैं। हेडमास्टर अपने स्कूल क्षेत्र के आंगनबाडिय़ों में जाकर वहां के रजिस्टर से उन बच्चों की सूची बनाएंगे जिनकी आयु 6 साल की हो गई है। इन बच्चों के पालकों से आवेदन नहीं लेंगे बल्कि सीधे कक्षा पहली में प्रवेश देंगे और उनके पालकों को सूचित कर देंगे। शिक्षा विभाग ने इसकी तैयारी कर ली है।

क्वारेंटाइन सेंटरों से प्रवासी मजदूरों के बच्चों का नाम लेकर दाखिला: कोरोना संक्रमण काल में बहुत सारे प्रवासी मजदूर जिले में अपने बच्चों को साथ लेकर लौटे हैं। यहां उन्हें क्वारेंटाइन सेंटर में रखा गया था। इस दौरान उनके नाम, पते आयु बच्चों के नाम सहित दर्ज हैं। इसलिए क्वारेंटाइन सेंटरों के रजिस्टर से जिस आयु वर्ग के बच्चे हैं उसके हिसाब से कक्षाओं में प्रवेश देना है। ऐसे बच्चों को प्रवेश देकर उनके पालकों को सूचित किया जाएगा।

11वीं के लिए स्कूल में मिलेंगे मुफ्त में फार्म: 11 वीं कक्षा में प्रवेश देने के लिए उच्चतर माध्यमिक स्कूल में फार्म भरना जरूरी किया गया है। जिस स्कूल में पालक अपने बच्चों को एडमिशन दिलाना चाहता है वहां मुफ्त में फार्म उपलब्ध कराया जाएगा। इस फॉर्म को पालक सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए मॉस्क लगाकर एक-एक करके ले जाएंगे और वैसे ही जमा करेंगे। इसके लिए शिक्षकों को स्कूल बुलाया जाएगा। निर्देश जारी हो रहे हैं।

शिक्षकों को दी गई है विशेष जिम्मेदारी
जिन स्कूलों में कक्षा पांचवीं है और मिडिल नहीं है उन्हें पास के मिडिल स्कूलों में प्रवेश दिलाना है। इसी तरह जहां 8 वीं तक स्कूल है और परिसर में हाई स्कूल नहीं है तो वे भी नजदीक के स्कूलों में कक्षा नवमी में बच्चों को प्रवेश दिलवाएंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/31f3unY

0 komentar