कल से बाजार शाम 6 बजे बंद सब्जी-किराना 12 बजे तक, शेष दुकानें खुलेंगी इसके बाद , August 06, 2020 at 06:29AM

असगर खान | जैसा दैनिक भास्कर ने दो दिन पहले बताया था, प्रशासन ने लॉकडाउन खत्म होने के बाद शुक्रवार, 7 अगस्त से राजधानी के सभी बाजार सूर्यास्त से पहले यानी शाम 6 बजे बंद करके 7 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लगाने की तैयारी कर ली है। जो व्यवस्था बनाई जा रही है, उसके अनुसार पहली बार शहर के बाजार दो पाली में खुलेंगे। फल-सब्जी, किराना, दूध तथा नॉनवेज की दुकानें सुबह 6 बजे खुलकर दोपहर 12 बजे बंद कर दी जाएंगी। इसके बाद शहर के बाकी बाजार दोपहर 12 बजे खुलेंगे और शाम 6 बजे बंद किए जाएंगे। यह प्रस्ताव प्रशासन ने सहमति के लिए राज्य शासन को भेज दिया है। यही नहीं, इस पर सभी संबंधित लोगों और संगठनों की राय लेने के लिए कलेक्टर ने गुरुवार को सुबह बैठक बुलाई है।
लॉकडाउन के नए प्रस्ताव में पहली बार बाजार को दो शिफ्ट में खोलने की बात आई है। पहली शिफ्ट सुबह 6 से दोपहर 12 बजे तक की होगी। इसमें किराना, राशन, सब्जी, फल, दूध, ब्रेड, मछली, मटन, अंडा यानी आवश्यक चीजों की बिक्री की जाएगी। दोपहर 12 बजे तक यह सारी दुकानें बंद हो जाएंगी। ठीक इसी समय यानी 12 बजे ऑटोमोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक, शॉपिंग मॉल, सराफा, पंडरी, मालवीय रोड, एमजी रोड समेत बाकी बाजार खुलेंगे। ये सभी शाम 6 बजे बंद कर दी जाएंगी और रात का कर्फ्यू शाम 7 बजे से लागू हो जाएगा। यानी 7 बजे के बाद बिना किसी ठोस कारण के शहर में घूमने वालों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस दौरान इमरजेंसी के बिना गाड़ी चलाने वालों की गाड़ी जब्ती करने के साथ ही उनसे जुर्माना वसूला जाएगा।

गैस-पेट्रोल शाम 5 बजे तक
शहर में इस बार गैस एजेंसियों और पेट्रोल पंपों का समय भी बढ़ाया जा रहा है। सिलेंडरों की सप्लाई और पंपों से डीजल-पेट्रोल की बिक्री शाम 5 बजे तक हो सकेगी। इसके पहले इन संस्थानों को दोपहर 3 बजे तक खोलने की अनुमति दी गई थी। बैंकों के समय का भी कामकाज बढ़ाने का प्रस्ताव दिया गया है। बैंकों में दोपहर 3 के बजाय शाम 4 बजे तक वित्तीय लेन-देन हो सकेगा। खाद्य और जरूरी गुड्स का परिवहन वाली गाड़ियों के लिए लोडिंग-अनलोडिंग का समय बढ़ाया जाएगा। शहर में नो एंट्री खुलने के बाद इनके आने-जाने पर भी रोक नहीं रहेगी।
व्यापारी चाहते हैं 9-6 बजे तक
कलेक्टर डॉ. एस भारतीदासन ने सभी व्यापारिक संगठनों को गुरुवार को बैठक के लिए बुलाया है। प्रशासन की ओर से तैयार किए गए प्रस्तावों के साथ उनसे चर्चा की जाएगी। व्यापारियों ने इस प्रस्ताव का विरोध किया तो थोड़ा परिवर्तन किया जा सकता है। कई व्यापारिक संगठन अभी भी सुबह 9 से शाम 6 बजे तक पूरा बाजार खोलने पर अड़े हुए हैं। उनका कहना है कि जिन दुकानों को 12 बजे से खोला जा रहा है, उन्हें सुबह 9 से शाम 6 बजे तक खोलने की अनुमति दी जानी चाहिए। हालांकि इस बारे में अंतिम फैसला बैठक के बाद प्रशासन ही लेगा।

व्यापारिक संगठन थे पक्ष में
राजधानी में दो हफ्ते के लॉकडाउन के बाद व्यापारिक संगठनों ने इसका कड़ा विरोध शुरू कर दिया था। छत्तीसगढ़ चैंबर अध्यक्ष जितेंद्र बरलोटा ने इस मामले में जूम एप पर व्यापारियों की एक बैठक बुलाई। इसमें सभी ने एक राय होकर लॉकडाउन का विरोध किया। पदाधिकारियों ने कहा कि जितने सैंपल लिए जा रहे हैं उसमें 2 फीसदी लोगों को ही यह बीमारी हो रही है। ऐसे में बार-बार लॉकडाउन करके व्यापारियों के साथ ही आम लोगों को भी परेशान नहीं करना चाहिए। इधर, छत्तीसगढ़ कैट के प्रदेशाध्यक्ष अमर पारवानी के नेतृत्व में एक व्यापारिक प्रतिनिधिमंडल ने मुख्यमंत्री से भी मुलाकात की। उन्होंने सीएम को बताया कि लगातार लॉकडाउन की वजह से कारोबार मुसीबतों से घिर गया है। इसलिए किसी भी परिस्थिति में लॉकडाउन नहीं बढ़ाना चाहिए।

सरकारी दफ्तर भी कल खुलेंगे : लॉकडाउन खत्म होने के बाद सरकारी दफ्तरों को भी खोलने का फैसला कर लिया गया है। आम दिनों की तरह ही लोग कलेक्टोरेट, तहसील, निगम मुख्यालय, जोन दफ्तरों समेत सभी सरकारी दफ्तरों में आना-जाना कर सकेंगे। अभी तक इन दफ्तरों में आम लोगों का प्रवेश बंद कर दिया गया था। लेकिन इन सभी संस्थानों में बिना मास्क के प्रवेश प्रतिबंधित रहेगा। सभी मुख्यालयों के प्रवेश द्वार पर सेनिटाइजर और तापमान चेक किया जाएगा। अफसरों ने 65 साल से ज्यादा बुजुर्गों से अपील की है कि वे इस दौरान कहीं भी आने-जाने से बचें।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
लॉकडाउन के दौरान राजधानी की सड़कों पर पसरा सन्नाटा। (फाइल फोटो)।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3a3Li4S

0 komentar