परिवार सहित कोरोना पाॅजिटिव पाए गए डाॅक्टर अस्पताल बंद; 6 नए मरीज , August 07, 2020 at 05:57AM

गुरूवार को भानुप्रतापपुर अस्पताल में एक बार फिर एक डाॅक्टर उसकी पत्नी व बच्ची कोरोना पाॅजिटिव पाए गए। इधर, दुर्गूकोंदल बीएसएफ कैंप में दो जवान कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। बीएसएफ कैंप व अस्पताल में लगातार कोरोना मरीजों के बढ़ने का सबसे बड़ा कारण लापरवाही है। डॉक्टर में पिछले तीन दिन से कोरोना लक्षण थे लेकिन वे जांच कराने या क्वारिन्टाइन होने के बजाए भानुप्रतापपुर अस्पताल में ही इलाज कर रहे थे। उनके संपर्क में पांच स्टाफ नर्स भी आए हैं। इसी तरह दुर्गूकोंदल में छुट्टी से आए जवानों को एक साथ रख दिया गया जिससे जवान संक्रमित हो रहे हैं।

नर्स पाॅजिटिव मिली तो मचा हड़कंप

लखनपुर सीएचसी की स्टाफ नर्स कोरोना पॉजिटिव मिली है। 4 अगस्त को सीएचसी के 24 स्टाफ और 12 श्रमिकों का सैंपल जांच के लिए लैब भेजा गया था। 6 अगस्त को स्वास्थ्य केंद्र की स्टाफ नर्स की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट आने से स्वास्थ्य विभाग सहित नगर में हड़कंप है। स्टाफ नर्स अंबिकापुर से आना-जाना कर लखनपुर सीएचसी करती थी। 6 अगस्त को नर्स ड्यूटी करने नहीं आई थी। यह जानकारी केंद्र के बीएमओ डॉ. पीएस केरकेट्टा ने दी है। अब पूरे हेल्थ सेंटर को सैनिटाइज और उसके संपर्क में आए लोगों का पता लगाया जा रहा है।

कोरोना से जिले में पहली मौत

शहर के सुन्नी मुसलमानों की मस्जिद के मौलाना की कोरोना से मौत हो गई। मौलाना कोरोना पॉजिटिव था, इसका खुलासा उसकी मौत के बाद हुआ। घटना के बाद एक बार फिर शहर में हड़कंप मचा है। लोग डरे हुए हैं और सामुदायिक संक्रमण का खतरा भी शहर में बढ़ गया है। मौलाना शहर के सरस्वती शिशु मंदिर के बेहद करीब बनी वहाबी सुन्नी की मस्जिद में कार्यरत थे। इनकी उम्र 52 वर्ष थी। ये पिछले सप्ताह सर्दी-खांसी एवं बुखार से पीड़ित थे, जिसके बाद रायगढ़ में रहने वाली उनकी बेटी और दामाद इलाज के लिए अपने साथ रायगढ़ ले गए थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2F2FLQF

0 komentar