चौराहों पर लगे कैमरों से थर्मल स्क्रीनिंग की तैयारी, बिना मास्क वालों की पहचान भी , August 03, 2020 at 06:06AM

शहर के चौक चौराहों में लगे कैमरों की मदद से थर्मल स्क्रीनिंग की तैयारी है। मास्क न लगाने और सार्वजनिक स्थानों पर थूकने वालों की भी पहचान की जाएगी। इसके लिए दक्ष के मौजूदा सिस्टम को अपग्रेड किया जाएगा। इसके लिए स्वतंत्र एजेंसी की नियुक्ति की जा रही है। ये एजेंसी शहर के ट्रैफिक और अन्य गतिविधियों पर पल-पल की नजर रखने वाले दक्ष के सिस्टम की मॉनिटरिंग कर ऑडिट रिपोर्ट तैयार करेगी। उसी में कोरोना संक्रमण की बदली हुई परिस्थितियों के हिसाब से सिस्टम को अपग्रेड करने के लिए भी सर्वे किया जाएगा।
कोरोना के संक्रमण को रोकने मास्क लगाना अनिवार्य करने के साथ साथ थूकने पर प्रतिबंध लगाया गया है। इनकी ऑन लाइन सिस्टम से निगरानी के लिए ही हाई पॉवर तकनीक के कैमरों की जरूरत महसूस की जा रही है। इन कैमरों में थर्मल स्क्रीनिंग जैसी सुविधा भी शामिल रहेगी। भीड़ में हाई टेंप्रेचर वालों की पहचान कर फेस रीडिंग कर रिकार्ड निकाल लेंगे। इस सिस्टम का लिंक आधार कार्ड से जुड़ा रहेगा। उसी से पहचान की जाएगी। सर्वे रिपोर्ट में भी ये भी उल्लेख होगा कि शहर को और कौन कौन सी सुविधाओं की जरूरत है। अफसरों के अनुसार अभी चल रहे सिस्टम में कहां खामियां हैं? कहां कैमरे काम कर रहे हैं कहां नहीं? स्मार्ट बत्तियां जल रही है या नहीं इन बिंदुओं को भी सर्वे रिपोर्ट में शामिल किया जाएगा। स्मार्ट ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम की देखरेख का जिम्मा पांच साल के लिए दिया गया है। ये सिस्टम पांच साल तक कैसे काम कर पाएगा, नई एजेंसी इसका भी ऑडिट करेगी। अफसरों के अनुसार एक स्वतंत्र एजेंसी के माध्यम से ये काम इसलिए भी किया जा रहा है ताकि सिस्टम में कहां खामियां है इसकी निष्पक्ष तरीके से जांच हो सके।

दक्ष के इंटीग्रेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम में कई सॉफ्ट वेयर के जरिए न केवल पुराने शहर के ट्रैफिक बल्कि पर्यावरण, साफ सफाई, फ्री वाई फाई सुविधा, भीड़भाड़ वाली जगहों में नियमों के अनुपालन आदि बिंदुओं पर भी कमांड सेंटर से नजर रखी जाती है। ये सारे काम सुचारु रूप से आगे भी कैसे किए जा सकेंगे, इसका भी आंकलन किया जाएगा।
ऑडिट के आधार पर बनेगा शहर में नया सिस्टम
स्वतंत्र एजेंसी 360 डिग्री पर दक्ष के सिस्टम की पड़ताल कर स्मार्ट सिटी को रिपोर्ट सौंपेगी। इसके आधार पर पुराने शहर में सिस्टम में जरूरत के हिसाब से नए बदलाव भी किए जाएंगे। शहर में दो चरणों में अब तक पचास से ज्यादा जगहों पर स्मार्ट ट्रैफिक सिस्टम लगाया जा चुका है। 118 से ज्यादा प्वाइंट पर सर्विलांस के लिए कैमरे भी लग चुके हैं, 63 जगहों पर इमरजेंसी कॉल बॉक्स जैसे बंदोबस्त हैं।

"स्वतंत्र एजेंसी अब दक्ष के पूरे सिस्टम पर नजर रखेगी। शहर की जरूरतों के हिसाब से सिस्टम में बदलाव किया जाएगा। कहां कैमरे काम कर रहे हैं, कहां नहीं इसकी भी ऑडिट रिपोर्ट तैयार होगी।"
- एसके सुंदरानी, जीएम, स्मार्ट सिटी रायपुर



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Preparation of thermal screening from intersecting cameras, identification of maskers also


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/30lCdkl

0 komentar