कोरोना ने रक्षाबंधन की खुशियों पर लगाया ब्रेक, दुकानें तो खुलीं, लेकिन भीड़ नहीं; रायपुर में कैदी सहित दो की मौत , August 03, 2020 at 11:46AM

कोरोना संक्रमण का असर रक्षाबंधन के त्यौहार पर भी पड़ा है। छत्तीसगढ़ में पर्व पर लोगों से गुलजार रहने वाले बाजार और सड़कें सूनी पड़ी हुई हैं। राज्य सरकार ने दोपहर 12 बजे तक दुकानें खोलने की इजाजत दी है, बावजूद इसके हमेशा की तरह दुकानों में भीड़ नहीं हैं। रायपुर में जो लोग मिठाई की दुकानों में पहुंच रहे हैं, उनको भी सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बिक्री की जा रही है।

रायपुर में जो लोग मिठाई की दुकानों में पहुंच रहे हैं, उनको भी सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बिक्री की जा रही है। हालांकि इस बार खरीदारों की संख्या काफी कम है।

व्यापारी बोले- प्रशासन ने छूट का आदेश देर से किया जारी
त्यौहार के बावजूद दुकानों और बाजारों में सन्नाटा होने के लिए व्यापारियों ने जिला प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया है। व्यापारियों का कहना है कि यह छूट एक दिन पहले रविवार को दी जानी चाहिए थी। प्रशासन ने छूट का आदेश देर से जारी किया। कोरोना और पर्व होने के कारण लोग घरों से नहीं निकल रहे हैं।

हालांकि रायपुर के अंदरूनी और पुराने बाजारों में भीड़ रही। संतोषी नगर, पुरानी बस्ती और टिकरापारा जैसे इलाकों में लोग बाहर निकले और थोड़ी चहल-पहल मुख्य बाजार के मुकाबले ज्यादा दिखाई दी है।

रायपुर सेंट्रल जेल में 60 से ज्यादा कैदी संक्रमित
रायपुर सेंट्रल जेल में बंद कैदियों को राखी बांधने के लिए उनकी बहनें सुबह से ही पहुंच गई है। हालांकि महिलाओं को जेल परिसर के अंदर नहीं जाने दिया जा रहा है। बाहर का गेट बंद कर दिया गया है और वहीं लिफाफे में डालकर उनसे राखियां ली जा रही हैं। बताया जा रहा है कि जेल में कोरोना संक्रमण के चलते एक कैदी की मौत हो गई है। जबकि 60 से ज्यादा पॉजिटिव मिले हैं।

रायपुर सेंट्रल जेल में बंद कैदियों को राखी बांधने के लिए उनकी बहनें सुबह से ही पहुंच गई है। हालांकि महिलाओं को जेल परिसर के अंदर नहीं जाने दिया जा रहा है। बाहर का गेट बंद कर दिया गया है और वहीं लिफाफे में डालकर उनसे राखियां ली जा रही हैं।

बिलासपुर : आदेश के बाद भी कैदी को नहीं भेजा घर, मौत
वहीं बिलासपुर सेंट्रल जेल में 82 वर्षीय कैदी की मौत मामले में नया मोड़ आ गया है। बुजुर्ग कैदी की कोरोना संक्रमण के चलते कुछ दिन पहले मौत हुई थी। बताया जा रहा है कि कैदी को छोड़ने और घर भेजने के आदेश हुए थे। बावजूद उसको जेल प्रशासन ने नहीं छोड़ा। तबीयत बिगड़ने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया, लेकिन हालत खराब होती चली गई और उपचार के दौरान उसने दम तोड़ दिया।

ये तस्वीर छत्तीसगढ़ के रायपुर की है। राखियों का बाजार सजा है। दुकानें खुली हैं, लेकिन खरीदार नहीं हैं। त्यौहार के बावजूद दुकानों और बाजारों में सन्नाटा होने के लिए व्यापारियों ने जिला प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया है।

प्रदेश में संक्रमित 10 हजार के करीब, एम्स में एक की मौत
छत्तीसगढ़ में संक्रमण के मामले बढ़ते ही जा रहे हैं। मरीजों की संख्या 9608 हो गई है। रायपुर में सोमवार को भी दो मरीजों की मौत होने की जानकारी सामने आई है। सेंट्रल जेल में जहां एक कैदी की मौत हुई है, वहीं एम्स में भर्ती एक मरीज ने दम तोड़ा है। इसके बाद रायपुर में मरने वालों का आंकड़ा 31 पहुंच गया है, जबकि प्रदेश में 60 की मौत हो चुकी है। फिलहाल एक्टिव केस 2559 है और रायपुर में 1816 हैं।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
कोरोना संक्रमण का असर रक्षाबंधन के त्यौहार पर भी पड़ा है। छत्तीसगढ़ में पर्व पर लोगों से गुलजार रहने वाले बाजार और सड़कें सूनी पड़ी हुई हैं। राज्य सरकार ने दोपहर 12 बजे तक दुकानें खोलने की इजाजत दी है।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2Pl2Z68

0 komentar