शिकायतकर्ता के बिना ही अफसर जांच दल को ले गए प्लांटेशन साइट दिखाने , August 08, 2020 at 06:21AM

सारंगढ़ प्लांटेशन गड़बड़ी का मामला विधानसभा में उठा था। सदन में मामले उठाने वाले विधायक और पूर्व मंत्री सत्यनारायण शर्मा शुक्रवार को जांच के लिए पहुंचे थे। इस मामले में अफसरों पर ही गड़बड़ी का आरोप लगा है इसलिए विभाग के अफसरों ने शिकायतकर्ता पीएस पटेल को बंगले में बुलाकर जांच में नहीं आने की बात कही। वहीं सुबह एसडीओ बंजारे उन्हें रोकने के लिए घर पहुंच गए। इधर रायपुर विधायक सत्यनारायण शर्मा अफसरों के साथ प्लांटेशन देखने गए। अफसरों ने सिर्फ चंद्रपुर के नजदीक धोबनीपाली साइट दिखाई जहां पौधे पांच से छह फीट हो चुके हैं।

विधायक शर्मा अफसरों के साथ 25 मिनट तक रहे। इस दौरान उन्होंने तकनीकी रूप से अफसरों से चर्चा की। यहां वे अफसरों के साथ गोमर्डा सेंचुरी की जमीन पर बसे कमला नगर वार्ड पहुंचे। यहां उन्होंने फॉरेस्ट की जमीन पर पानी टंकी, स्कूल भवन देखा। क्षेत्र की विधायक उत्तरी जांगड़े और कांग्रेस नेता उनके साथ रहे। ग्रामीणों से भी उन्होंने चर्चा की।

इस दौरान उन्होंने ग्रामीणों को कैबिनेट स्तर पर उनकी समस्या का निराकरण करने का भी आश्वासन दिया। सारंगढ़ के सुअरगड़ा और इससे सटी प्लांटेशन साइट में कमियां होने के कारण अफसर सड़क खराब होने की दलील देकर विधायक को वहां ले ही नहीं गए। पूर्व मंत्री के साथ रायगढ़, धरमजयगढ़ और कोरबा के डीएफओ भी थे।

जरूरत पड़ी तो दोबारा जांच करने आउंगा: सत्यनारायण
रायपुर ग्रामीण के विधायक सत्यनारायण शर्मा ने बताया कि जिस प्लांटेशन साइट पर वे गए थे, वहां चार से पांच फाीट तक लंबे पौधे हैं। वहां किसी तरह की कोई कमी नजर नहीं आई। बारबेट वायर, आरसीसी पोल अनियमितता पर उन्होंने कहा वो तो चोरी भी हो सकते हैं। क्षेत्रफल में कमी खाद व मजदूरी भुगतान जैसे अन्य शिकायतों पर उन्होंने जरूरत पड़ने पर दोबारा मौके जांच के लिए आने की बात कही है।

साथी अफसरों को बचाने का आरोप
मामले को उठाने वाले विभाग के रिटायर्ड एसडीओ पीएस पटेल ने कहा कि प्लांटेशन साइट पर ढेरों कमियां हैं, अगर उन्हें साथ ले जाया गया होता तो वे मौके पर सबकुछ दिखाते। पटेल का आरोप है कि पूर्व और वर्तमान रायगढ़ डीएफओ और एसडीओ बंजारे पर आरोप न लगें इसलिए पूरा फॉरेस्ट विभाग उनके बचाव में लीपापोती कर रहा है। पटेल ने बताया कि मार्च में विधानसभा सत्र के दौरान रायपुर विधायक सत्यनारायण शर्मा, प्रकाश नायक ने प्रमुखता से इस मुद्दे को उठाते हुए जांच की मांग की थी।

उन्हें ही पता होगा मुझे जानकारी नहीं है
जिसने साथ नहीं ले जाने की बात कही है, आपको वह बेहतर बता सकते हैं। वे विभाग के अनुभवी अफसर हैं, भला उन्हें साथ आने से कौन रोक सकता है। इस मामले मैं भी जांच के दायरे में हूं इसलिए मैं ज्यादा कुछ नहीं कहूंगा। मनोज पांडेय, डीएफओ वन मंडल



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
विधायक को साइट दिखते अफसर


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/33C86qW

0 komentar