पहली बार शहर के कचरे से तीन दिन में खाद, पार्क में डालेंगे और बेचेंगे भी , August 14, 2020 at 06:01AM

संकरी ट्रेंचिंग ग्राउंड में कचरे से खाद तैयार करने की प्रक्रिया अंतिम चरण में पहुंच गई है। खाद की पहली खेप अगले तीन दिन में किसानों के लिए उपलब्ध हो जाएगी। तैयार खाद को लैब टेस्ट करने के बाद ही उपयोग में लाया जा सकेगा।
सालिड वेस्ट मैनेजमेंट के तहत संकरी में 67 एकड़ में ट्रीटमेंट प्लांट तैयार किया गया है। दिल्ली की कंपनी एमएसडब्ल्यू साॅल्यूशन ने प्लांट तैयार करने के बाद करीब महीनेभर पहले ही प्लांट में प्रोसेसिंग शुरू की है। कचरे से खाद बनाने में महीनेभर का समय लगता है। तीन अलग-अलग चरणों की प्रक्रिया पूरी होने के बाद खाद तैयार होती है। अफसरों के अनुसार दोनों चरण पार करने के बाद ही खाद तैयार हो जाएगी। यहां पर खाद का वजन किया जाएगा। इससे पता चलेगा कि वास्तव में महीनेभर की प्रक्रिया में कितनी खाद तैयार हुई है। इसके बाद इसे टेस्ट के लिए प्लांट में ही तैयार लेबोरेटरी में भेजी जाएगी। यहां खाद की टेस्टिंग होगी। टेस्ट रिपोर्ट में सबकुछ सही होने पर उसे ओके सर्टिफिकेट दिया जाएगा और उसके बाद खाद उपयोग के लिए तैयार मानी जाएगी। संभावना जताई गई है कि यदि प्लांट अपनी पूरी क्षमता और लय में चलने लगेगा तो हर दिन लगभग 30 टन खाद तैयार होगी। निगम इन खाद को शहर के गार्डनों में उपयोग करेगा और उसकी बिक्री भी करेगा। इससे निगम को राजस्व भी मिलेगा।
नगर निगम ने कंपनी के साथ अनुबंध किया है कि प्रोसेसिंग शुरू होने के बाद हर टन कचरे पर 1925 रुपए का भुगतान किया जाएगा। प्रोसेसिंग शुरू नहीं होने पर निगम घरों से कचरा लेने और उसके परिवहन के लिए महज 675 रुपए प्रति टन ही भुगतान कर रहा था।
प्लांट एरिया को ग्रीनलैंड में बदलेगी कंपनी
कंपनी को प्लांट एरिया में करीब 67 एकड़ जमीन दी गई है। शर्तों के मुताबिक कंपनी को 15 साल तक प्लांट चलाना है। प्लांट में कचरा प्रोसेसिंग करने के साथ ही पूरे क्षेत्र को विकसित करने की जिम्मेदारी भी कंपनी को दी है। इसलिए कंपनी यहां पर पेड़-पौधे लगा रही है। ज्यादा से ज्यादा हरियाली होने पर यहां प्लांट के कारण उत्पन्न होने वाले किसी भी तरह के प्रदूषण से वातावरण को कोई नुकसान नहीं होगा।

"प्लांट में खाद तैयार करने की प्रक्रिया अंतिम चरण में है। खाद तैयार होने के बाद उसकी टेस्टिंग होगी और फिर उसका उपयोग शहर में किया जाएगा। निगम इसकी बिक्री कर राजस्व भी बढ़ाएगा।"
-नागभूषण राव यादव, चेयरमैन स्वास्थ्य विभाग निगम



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
For the first time, fertilizer from the city's garbage will be put in the park and sold in three days.


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2PNI6AU

0 komentar