कोरोना में अर्थव्यवस्था का छत्तीसगढ़ी माॅडल बना संकटमोचक: भूपेश बघेल , August 17, 2020 at 05:37AM

सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि विश्वव्यापी संकटकाल में अर्थव्यवस्था का छत्तीसगढ़ी मॉडल संकटमोचक साबित हुआ है। उन्होंने कहा कि मानवता की सेवा की गांधीवादी सोच और नेहरू वादी संस्थाओं व अधोसंरचनाओं ने ही हमें कोरोना से मुकाबला करने के योग्य बनाया। इसी रास्ते पर चलते हुए हमें आर्थिक मंदी और कोरोना संकटकाल में अर्थव्यवस्था को बचाए रखने में सफलता मिली। इंदिरा गांधी, राजीव गांधी ने देश की एकता और अखंडता के लिए कुर्बानी दी। उनकी कुर्बानियों के फलस्वरूप हम जाति, धर्म, संप्रदाय की सीमाओं से उठकर विकास की नई ऊंचाइयों पर पहुंचे।
पुलिस परेड ग्राउंड पर आयोजित स्वतंत्रता दिवस समारोह में सीएम भूपेश ने कहा कि छत्तीसगढ़ में हमने अपनी संस्कृति, अपने खेतों, गांवों, जंगलों, वनोपजों, प्राकृतिक संसाधनों, लोक कलाओं, परंपराओं और इन सबके बीच समन्वय से अपना रास्ता बना लिया। हमें गर्व है कि अर्थव्यवस्था का हमारा छत्तीसगढ़ी माॅडल संकटमोचक साबित हुआ। लाॅकडाउन के कारण 21 राज्यों और तीन केंद्र शासित प्रदेशों में फंसे हमारे लगभग 3 लाख मजदूर साथियों को खाद्यान्न व अन्य राहत पहुंचाई गई। वहीं लगभग 74 हजार मजदूरों को वेतन की बकाया राशि 171 करोड़ रुपए का भी भुगतान कराया गया। 107 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के माध्यम से न सिर्फ हमारे प्रदेश के मजदूर वापस लाए गए बल्कि अन्य प्रदेशों के मजदूरों को उनके राज्यों में भेजने की भी व्यवस्था की गई। छत्तीसगढ़ सड़क विकास निगम के अंतर्गत 900 किलोमीटर सड़कों का उन्नयन और निर्माण किया जाएगा। पीएमजीएसवाय के तीसरे चरण के लिए 5600 किलोमीटर से अधिक सड़कों और वृहद पुलों के निर्माण की स्वीकृति मिली है। शिक्षा की गुणवत्ता बढ़ाने के साथ गणतंत्र दिवस के अवसर तीन घोषणाएं की थी। मुझे खुशी है कि प्रार्थना-सभाओं में संविधान पर चर्चा, स्थानीय बोली-भाषाओं में किताबें तथा छत्तीसगढ़ की महान विभूतियों की जीवनी पर पुस्तकों का प्रकाशन किया जा चुका है, शिक्षा सत्र नियमित रूप से प्रारंभ होते ही ये सारे कार्य किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि राजीव गांधी किसान न्याय योजना के तहत 5700 करोड़ की पहली किस्त 1500 करोड़ किसानों को दी है। इसकी दूसरी किस्त राजीव जयंती पर 20 अगस्त को दी जाएगी।

101 विकासखंड में फूडपार्क के लिए जमीन चिह्नांकित
सीएम ने कहा कि प्रदेश के हर विकास खण्ड में फूडपार्क स्थापित करने का लक्ष्य पूरा करने हेतु हमने 28 जिलों में 101 विकासखंडों में भूमि का चिह्नांकन कर लिया है। 19 विकासखंडों में 250 हेक्टेयर सरकारी भूमि का हस्तांतरण किया जा चुका है। रायपुर में ‘जेम्स एण्ड ज्वेलरी पार्क’ की स्थापना हेतु 350 करोड़ रुपए की परियोजना पर कार्य शुरू हो चुका है।

छत्तीसगढ़ी को 8वीं अनुसूची में शामिल करने पीएम मोदी काे सीएम ने लिखा पत्र

छत्तीसगढ़ी को आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए सीएम भूपेश बघेल ने पीएम नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर कहा है कि छत्तीसगढ़ी भाषा, प्रदेश के पौने तीन करोड़ जनता की भावनाओं से जुड़ी है। उसे ध्यान में रखकर और समृद्ध, सांस्कृतिक विरासत के लिए इसे स्थान दिया जाना चाहिए। पत्र में मुख्यमंत्री ने लिखा है- छत्तीसगढ़ के गठन का यह 20वां वर्ष है, पर सांस्कृतिक दृष्टि से इतिहास प्राचीन है। केंद्र द्वारा यह बताया जाता रहा है कि छत्तीसगढ़ी सहित देश की अन्य भाषाओं को 8वीं अनुसूची में शामिल किया जाना विचाराधीन है। चूंकि छत्तीसगढ़ी की उप बोलियां और कुछ अन्य भाषाएं भी प्रचलन में हैं, पर लोगों की संपर्क भाषा छत्तीसगढ़ी ही है। राजकीय प्रयोजनों के लिए हिन्दी के अतिरिक्त छत्तीसगढ़ी को अपनाया गया है। हर साल 28 नवंबर को छत्तीसगढ़ी राजभाषा दिवस मनाया जाता है।

उन्होंने लिखा है कि जनभावना और आवश्यकता के अनुरूप प्रचलन और विकास के लिए छत्तीसगढ़ राजभाषा आयोग का गठन किया गया है।
राज्य की भाषा छत्तीसगढ़ी का व्याकरण हीरालाल काव्योपाध्याय ने तैयार किया था। इसका संपादन व अनुवाद प्रसिद्ध भाषाशास्त्री जार्ज ए. ग्रियर्सन ने किया, जो 1890 में जर्नल ऑफ द एशियाटिक सोसायटी ऑफ बंगाल में प्रकाशित हुआ था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3axJ0uI

0 komentar