बीमार घर वालों के लिए बिलासपुर ट्रांसफर की मांग कर रो पड़ीं कॉन्स्टेबल, डीजीपी ने कहा- रो मत, जाने की तैयारी करो , August 19, 2020 at 06:40PM

छत्तीसगढ़ पुलिस के डीजीपी डीएम अवस्थी ने पहली बार वीडियो कॉल पर पुलिसकर्मियों की समस्याएं सुनी। उन्होंने अपने साथ ही अन्य अधिकारियों को बैठाकर रखा था। कर्मचारियों के परेशानियां सुनकर मिनटों में कई आदेश जारी करवाए। प्रदेश में इस तरह के अभियान की शुरूआत पहली बार हुई है। इसे स्पंदन नाम दिया गया। डीजीपी के अलावा अन्य सभी बड़े अधिकारी, कर्मचारियों के काम और घर-परिवार से जुड़ी समस्याएं सुनकर फौरन निदान पर काम कर रहे हैं।


कहा- रो मत आज के बाद परेशानी नहीं होगी
बलरामपुर में पदस्थ आरक्षक हेमलता साहू ने बताया कि उनका बच्चा जन्म से ही कमजोर है और सास लकवे से पीड़ित हैं। सास बिस्तर से उठ भी नहीं सकतीं, पति बिलासपुर में पोस्टेड हैं। ऐसे में परिवार की जिम्मेदारी और ड्यूटी का फर्ज निभाना मुश्किल हो गया है। अपनी तकलीफ बताकर हेमलता रो पड़ीं। डीजीपी ने इस पर कहा कि रो मत अब परेशानी नहीं होगी, सामान बांधकर बिलासपुर जाने की तैयारी करो, यहां से ऑर्डर जारी हो रहा है। रोने की वजह कांपती आवाज में हेमलता ने कहा- जय हिंद सर...।


ज्वाइनिंग लेटर भी भेजा
दुर्ग की रहने वाली शुभांगनी सेंगर ने बताया कि उनके पिता का देहान्त मार्च में हो गया था। शुभांगनी ने कहा कि- मैं अनुकंपा नियुक्ति चाहती हूं। परिवार के भरण-पोषण की जिम्मेदारी अब मुझ पर ही है। दुर्ग के आस-पास किसी जिले में मुझे नियुक्ति दे दी जाए जिससे मैं अपनी मां का भी ख्याल रख सकूं। डीजीपी ने शुभांगनी से कहा कि आप निश्चिंत रहिए, बालोद जिले के लिए नियुक्ति-पत्र बहुत जल्द आपके घर पहुंच जायेगा।


सुविधा के लिए जारी किए ट्रांसफर ऑर्डर
बस्तर के पखनार कैंप में पदस्थ आरक्षक अखिलेश यादव ने कहा कि उनका घर राजनांदगांव में है, कुछ समय पहले बच्चे का आकस्मिक निधन हो गया। जिसके बाद पत्नी डिप्रेशन में है। डीजीपी ने इस पर राजनांदगांव बटालियन के कमाण्डेंट सरजू राम सलाम को फोन लगाकर कहा कि अखिलेश यादव को पखनार से राजनांदगांव ट्रांसफर किया जाए। दंतेवाड़ा के पोटाली कैम्प में पदस्थ छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल के जवान केशव कुमार दोनों किडनी खराब है, गठियावात और मोतियाबिंद भी है। इन्हें परिवार के दुर्ग पुलिस लाईन में पोस्टिंग दी गई।


20 साल से जशपुर में पदस्थ ओसन्त कुमार चन्द्रा को बिलासपुर परिवार के पास पोस्टिंग दी गई। बिलासपुर में पदस्थ एएसआई रूपा ठाकुर ने बताया कि उन्हें तीन बार मां बनने का अवसर मिला, मगर तीनों बार मिस्कैरिज की वजह से वह परेशान हैं। पति और छोटी बच्ची रायगढ़ में रहते हैं, रूपा की परेशानी देखते हुए उन्हें तुरंत रायगढ़ स्थानांतरित करने के आदेश जारी कर दिये गए। एएसआई चुमेश कुमार साहू की पत्नी ने बताया कि- मैं राजिम में नगर पंचायत में इंजीनियर हूं और पति चुमेश कोरिया में पदस्थ हैं। मुझे छोटी बच्ची की देखभाल और ऑफिस के बीच सामंजस्य में परेशानी हो रही है। डीजीपी अवस्थी ने चुमेश को तत्काल रायपुर पोस्टिंग दे दी।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
तस्वीर रायपुर की है। अपने दफ्तर में डीजीपी ने सीधे पुलिसकर्मियों से बात की। कोरोना के खतरे की वजह से वीडियो कॉल पर उन्होने बात की। इससे पहले कर्मचारियों से सीधे मुलाकात इस अभियान के तहत की जा रही थी।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3iZgWn1

0 komentar