राजधानी के बाद अब सरगुजा व दुर्ग से भी भाजपा में उभरी नेताओं की नाराजगी , August 21, 2020 at 05:27AM

भाजपा के वरिष्ठ नेता सच्चिदानंद उपासने और श्रीचंद सुंदरानी खुलकर एक-दूसरे के खिलाफ आ गए हैं, लेकिन दुर्ग, सरगुजा, राजनांदगांव में भी नाराजगी सतह पर आने लगी है। सरगुजा और सूरजपुर में जिलाध्यक्ष की नियुक्ति के बाद केंद्रीय राज्यमंत्री रेणुका सिंह के समर्थकों ने विरोध शुरू कर दिया है। सरगुजा में लल्लन प्रताप सिंह और सूरजपुर में बाबूलाल अग्रवाल को अध्यक्ष बनाया गया है। बाबूलाल को रेणुका का विरोधी कहा जाता है, इसलिए आने वाले समय में विवाद बढ़ने के आसार हैं। छत्तीसगढ़ भाजपा में कार्यकर्ता पहले ही सोशल मीडिया पर विरोध कर रहे थे। अब नेता भी खुलकर सामने आ गए हैं। वरिष्ठ नेता उपासने और पूर्व विधायक सुंदरानी के बीच विवाद को इसलिए भी गंभीर माना जा रहा है, क्याेंकि दोनों प्रवक्ता की जिम्मेदारी पर हैं। पार्टी के प्रतिनिधि के रूप में दोनों पक्ष रखते थे। यही वजह है कि दोनों के बीच विवाद को भाजपा के भीतर चल रही वर्चस्व की लड़ाई के रूप में देखा जा रहा है। अब केंद्रीय राज्यमंत्री रेणुका सिंह के नाराज होने की खबर आ रही है। रेणुका सरगुजा में भारत सिंह सिसोदिया और सूरजपुर में शशिकांत गर्ग को अध्यक्ष बनाना चाहती थीं। इसके विपरीत आरएसएस के करीबी नेताओं को मौका दिया गया है। इससे पहले रायपुर सांसद सुनील सोनी की पसंद सुरेंद्र टिकरिया को दरकिनार कर पूर्व विधानसभा स्पीकर गौरीशंकर अग्रवाल की पसंद पर डॉ. सनम जांगड़े को जिलाध्यक्ष बना दिया गया। राजनांदगांव सांसद संतोष पांडेय भी मधुसूदन यादव को जिलाध्यक्ष बनाने से संतुष्ट नहीं हैं। दुर्ग और भिलाई संगठन जिलों में अभी अध्यक्ष की नियुक्ति नहीं हुई है, लेकिन चर्चा है कि सांसद विजय बघेल की पसंद के मंडल अध्यक्ष भी नहीं बने।

चंपू ने कहा- संगठन करे हस्तक्षेप
पूर्व मंत्री और वरिष्ठ नेता चंद्रशेखर साहू ने उपासने और सुंदरानी के बीच लड़ाई के संबंध में मीडिया से बातचीत में कहा कि यह पार्टी के भीतर का मामला है, इसलिए बाहर कोई टिप्पणी करना ठीक नहीं है। साथ ही, उन्होंने यह भी कहा कि संगठन को हस्तक्षेप कर मामले को सुलझाना चाहिए।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/3l1R4Jb

0 komentar