स्काईवॉक नहीं टूटेगा , जनता के पैसों की बर्बादी ना हो इसलिए डिजाइन में बदलाव के साथ होगा निर्माण पूरा , August 21, 2020 at 07:02AM

राजधानी रायपुर के शास्त्री चौक से लगी मुख्य सड़कों पर अधूरे पड़े स्काईवॉक को अब नहीं तोड़ा जाएगा। कांग्रेस के वरिष्ठ विधायक सत्य नारायण शर्मा की अध्यक्षा वाली सामान्य सुझाव समिति की बैठक में यह फैसला लिया गया है। गुरुवार को 22 सदस्यीय कमेटी में जनप्रतिनिधियों के साथ ही पीडब्ल्यूडी के अफसर व विशेषज्ञ भी बैठक में शामिल हुए। यहां सर्व सहमति से स्काईवॉक को नहीं तोड़ने की बात तय हुई। सभी सदस्यों ने माना कि स्काईवॉक में अब तक करीब 45 करोड़ रुपए खर्च हो चुके हैं। 31 करोड़ रुपए और खर्च करके इसे पूरा किया जा सकता है।


जनता का पैसा बर्बाद करना ठीक नहीं
विधायक सत्यनारायण शर्मा ने कहा कि इसके निर्माण में जनता का पैसा लगा है, इसे तोड़कर जनता के पैसे की हानि नहीं की जा सकती। इसलिए स्काईवॉक के अधूरे निर्माण को पूरा करने पर सहमति बन गई। हालांकि समिति की बैठक में यह तय हुआ है कि पहले से प्रस्तावित डिजाइन में कुछ बदलाव किया जाए, ताकि लागत को कम किया जा सके। रायपुर कलेक्टस, एसएसपी और लोकनिर्माण विभाग अधिकारियों की सब कमेटी इस पर आए सुझावों को शॉर्ट लिस्ट करेगी। इसके बाद मुख्य सचिव की अध्यक्षता में बनी 25 सदस्यीय तकनीकी कमेटी को भेजेंगे ताकि स्काईवॉक को बनाने पर अंतिम मुहर लगे।


जहां जरूरी होगा वहीं बनेंगे रोटरी
शास्त्री चौक पर स्काईवॉक को जोड़ने के लिए एक बड़े रोटरी (स्काइवॉक को जोड़ने के लिए चौक पर गोल रैंप) को बनाने की योजना थी। पहले से तय डिजाइन के मुताबिक अलग-अलग हिस्सों को जोड़ने के लिए एस्केलेटर और लिफ्ट लगाई जानी है। अब इसे ना बनाने का सुझाव विधायक विकास उपाध्याय ने दिया। इस पर टीम विचार करेगी। बैठक में मौजूद महिला आयोग अध्यक्ष किरणमयी नायक ने कहा कि इस पर भी चर्चा की गई है कि और किन बदलावों के साथ इस प्रोजेक्ट को पूरा किया जाए। मौजूदा निर्माण एजेंसी से भी इस पर बात-चीत की जा सकती है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
तस्वीर रायपुर की है। स्काईवॉक को लेकर हुई बैठक में रायपुर उत्तर के विधायक व हाउसिंग बोर्ड के चेयरमेन कुलदीप जुनेजा, महापौर एजाज ढेबर, निगम सभापति प्रमोद दुबे, रायपुर कलेक्टर डॉ. एस भारतीदासन, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अजय यादव, मुख्य अभियंता वीके भतपहरी मौजूद थे।


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2QaaIob

0 komentar